Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Jun 2023 · 1 min read

तभी लोगों ने संगठन बनाए होंगे

तभी लोगों ने संगठन बनाए होंगे
तभी लोगों ने हथियार उठाए होंगे
तभी लोगों ने सल्तनते फूंकी होगी
तभी लोगों ने दरबार जलाऐ होंगे
जब सरफिरे हाकिम जबरन घर मे आऐ होंगे
जब सरफिरे हाकिम जबरन घर मे आऐ होंगे
तभी लोगों ने बस्तियाँ फूंकी होंगी
तभी लोगों ने घरबार जलाऐ होंगे
तभी लोगों ने शमशान दहकाऐ होंगे
जब सरफिरे हाकिम जबरन घर मे आऐ होंगे
जब सरफिरे हाकिम जबरन घर मे आऐ होंगे
तभी लोगों ने पांव जलाऐ होंगे
तभी लोगों ने हाड़ तपाऐ होंगे
तभी लोगों ने जैलें काटी होंगी
तभी लोग इंकलाब लाऐ होंगे
जब सरफिरे हाकिम जबरन घर मे आऐ होंगे
जब सरफिरे हाकिम जबरन घर मे आऐ होंगे
मारूफ आलम

352 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आइए मोड़ें समय की धार को
आइए मोड़ें समय की धार को
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
मार्केटिंग फंडा
मार्केटिंग फंडा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*अहं ब्रह्म अस्मि*
*अहं ब्रह्म अस्मि*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
एक न एक दिन मर जाना है यह सब को पता है
एक न एक दिन मर जाना है यह सब को पता है
Ranjeet kumar patre
"द्वंद"
Saransh Singh 'Priyam'
💐Prodigy Love-36💐
💐Prodigy Love-36💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मार न डाले जुदाई
मार न डाले जुदाई
Shekhar Chandra Mitra
सुविचार
सुविचार
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
ठगी
ठगी
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
शेर
शेर
Monika Verma
सहारे
सहारे
Kanchan Khanna
नज़्म तुम बिन कोई कही ही नहीं।
नज़्म तुम बिन कोई कही ही नहीं।
Neelam Sharma
धर्म ज्योतिष वास्तु अंतराष्ट्रीय सम्मेलन
धर्म ज्योतिष वास्तु अंतराष्ट्रीय सम्मेलन
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
"श्रृंगार रस के दोहे"
लक्ष्मीकान्त शर्मा 'रुद्र'
सैदखन यी मन उदास रहैय...
सैदखन यी मन उदास रहैय...
Ram Babu Mandal
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कौन जात हो भाई / BACHCHA LAL ’UNMESH’
कौन जात हो भाई / BACHCHA LAL ’UNMESH’
Dr MusafiR BaithA
मुझे न कुछ कहना है
मुझे न कुछ कहना है
प्रेमदास वसु सुरेखा
वृक्ष पुकार
वृक्ष पुकार
संजय कुमार संजू
"अनमोल सौग़ात"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
तुम्हारे प्रश्नों के कई
तुम्हारे प्रश्नों के कई
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
सफलता मिलना कब पक्का हो जाता है।
सफलता मिलना कब पक्का हो जाता है।
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
*आया फागुन लग रही, धरती माया-लोक (कुंडलिया)*
*आया फागुन लग रही, धरती माया-लोक (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
नाम सुनाता
नाम सुनाता
Nitu Sah
जहां हिमालय पर्वत है
जहां हिमालय पर्वत है
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
"बगुला भगत"
Dr. Kishan tandon kranti
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Harish Chandra Pande
* जन्मभूमि का धाम *
* जन्मभूमि का धाम *
surenderpal vaidya
मजबूत रिश्ता
मजबूत रिश्ता
Buddha Prakash
2800. *पूर्णिका*
2800. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...