Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#13 Trending Author

तप रहे हैं दिन घनेरे / (तपन का नवगीत)

भाप बहती
है सबेरे,
तप रहे हैं
दिन घनेरे ।

आँख तपती,
कान तपते,
तप रही है
वात बहती ।
साँझ तपती,
याम तपते,
तप रही है
रात ढहती ।

चाँद ने
नैना तरेरे ।
तप रहे हैं
दिन घनेरे ।

पत्तियों के
उजड़ने से
तप रही
संपूर्ण वन्या ।
मंद भावों
की तपन से
तप रही है
धान्य-धन्या ।

जल रहे हैं
घर,बसेरे ।
तप रहे हैं
दिन घनेरे ।

तप रहे
नक्षत्र सारे,
कुण्डली के
मेल तपते,
लग्न,भाँवर
की तपन से
शुभाशुभ के
खेल तपते ।

दग्ध हैं अब
सात फेरे ।
तप रहे हैं
दिन घनेरे ।

— ईश्वर दयाल गोस्वामी

6 Likes · 16 Comments · 139 Views
You may also like:
बेटी की मायका यात्रा
Ashwani Kumar Jaiswal
बुद्ध पूर्णिमा पर मेरे मन के उदगार
Ram Krishan Rastogi
Once Again You Visited My Dream Town
Manisha Manjari
पिता
Keshi Gupta
कश्ती को साहिल चाहिए।
Taj Mohammad
"पिता"
Dr. Reetesh Kumar Khare डॉ रीतेश कुमार खरे
नन्हा बीज
मनोज कर्ण
पंचशील गीत
Buddha Prakash
"कर्मफल
Vikas Sharma'Shivaaya'
पिता की नियति
Prabhudayal Raniwal
I Can Cut All The Strings Attached
Manisha Manjari
शरद ऋतु ( प्रकृति चित्रण)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
" बहू और बेटी "
Dr Meenu Poonia
"फिर से चिपको"
पंकज कुमार "कर्ण"
गरीब लड़की का बाप है।
Taj Mohammad
नारी को सदा राखिए संग
Ram Krishan Rastogi
If We Are Out Of Any Connecting Language.
Manisha Manjari
नीड़ फिर सजाना है
Saraswati Bajpai
नदी का किनारा
Ashwani Kumar Jaiswal
सजना शीतल छांव हैं सजनी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ये लखनऊ है मेरी जान।
Taj Mohammad
आशाओं के दीप.....
Chandra Prakash Patel
मौन की पीड़ा
Saraswati Bajpai
हमारी सभ्यता
Anamika Singh
सबकुछ बदल गया है।
Taj Mohammad
पापा आप बहुत याद आते हो।
Taj Mohammad
हंसगति छंद , विधान और विधाएं
Subhash Singhai
पिता
Dr.Priya Soni Khare
पिता
Pt. Brajesh Kumar Nayak
🙏मॉं कालरात्रि🙏
पंकज कुमार "कर्ण"
Loading...