Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Nov 2023 · 1 min read

तन्हा तन्हा ही चलना होगा

जिंदगी में तन्हा तन्हा ही चलना होगा
दरिया छोड़ पयोधि को तालाशना होगा
मंजिल तक तन्हा तन्हा ही चलना होगा

अपनी नग्न नयनों से देखो
जिंदगी कैसे तन्हा तन्हा चलती

सूरज को देखो, चंदा को देखो
नभ में टिम टिमाते तारों को देखो
जग को प्रकाशित करता कौन ?

तन्हा तन्हा ही चलना होगा
मंजिल तक पहुंचना होगा…

✍️ अमरेश कुमार वर्मा

Language: Hindi
193 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आजादी की शाम ना होने देंगे
आजादी की शाम ना होने देंगे
Ram Krishan Rastogi
कोई वजह अब बना लो सनम तुम... फिर से मेरे करीब आ जाने को..!!
कोई वजह अब बना लो सनम तुम... फिर से मेरे करीब आ जाने को..!!
Ravi Betulwala
*भला कैसा ये दौर है*
*भला कैसा ये दौर है*
sudhir kumar
हर नदी अपनी राह खुद ब खुद बनाती है ।
हर नदी अपनी राह खुद ब खुद बनाती है ।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
3266.*पूर्णिका*
3266.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आप में आपका
आप में आपका
Dr fauzia Naseem shad
शुभ् कामना मंगलकामनाएं
शुभ् कामना मंगलकामनाएं
Mahender Singh
जरूरी नहीं ऐसा ही हो तब
जरूरी नहीं ऐसा ही हो तब
gurudeenverma198
दिल के जख्म
दिल के जख्म
Gurdeep Saggu
किसी को अगर प्रेरणा मिलती है
किसी को अगर प्रेरणा मिलती है
Harminder Kaur
इश्क का इंसाफ़।
इश्क का इंसाफ़।
Taj Mohammad
कभी कभी
कभी कभी
Shweta Soni
शिव - दीपक नीलपदम्
शिव - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
कमाई / MUSAFIR BAITHA
कमाई / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
सर्वप्रिय श्री अख्तर अली खाँ
सर्वप्रिय श्री अख्तर अली खाँ
Ravi Prakash
Quote Of The Day
Quote Of The Day
Saransh Singh 'Priyam'
हाय रे गर्मी
हाय रे गर्मी
अनिल "आदर्श"
रुलाई
रुलाई
Bodhisatva kastooriya
अपने आंसुओं से इन रास्ते को सींचा था,
अपने आंसुओं से इन रास्ते को सींचा था,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
My Guardian Angel
My Guardian Angel
Manisha Manjari
* मुस्कुराने का समय *
* मुस्कुराने का समय *
surenderpal vaidya
हमेशा सही के साथ खड़े रहें,
हमेशा सही के साथ खड़े रहें,
नेताम आर सी
'सवालात' ग़ज़ल
'सवालात' ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
■ मुक्तक।
■ मुक्तक।
*Author प्रणय प्रभात*
काश कि ऐसा होता....
काश कि ऐसा होता....
Ajay Kumar Mallah
"कैंसर की वैक्सीन"
Dr. Kishan tandon kranti
न मैंने अबतक बुद्धत्व प्राप्त किया है
न मैंने अबतक बुद्धत्व प्राप्त किया है
ruby kumari
दवा की तलाश में रहा दुआ को छोड़कर,
दवा की तलाश में रहा दुआ को छोड़कर,
Vishal babu (vishu)
जब तक लहू बहे रग- रग में
जब तक लहू बहे रग- रग में
शायर देव मेहरानियां
........,,?
........,,?
शेखर सिंह
Loading...