Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Aug 2016 · 1 min read

तन्हाईयों का सूरज

मेरी तन्हाईयो का सूरज
कभी चढ़ता तो कभी डूबा जाता है
क्योंकि जिस पत्थर को लगती हैं अक्सर चोटें हजारों
उसे ही तो भगवान के दर्जे में पूजा जाता है

Language: Hindi
Tag: शेर
1 Comment · 291 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from कृष्ण मलिक अम्बाला
View all
You may also like:
महाराणा सांगा
महाराणा सांगा
Ajay Shekhavat
सुविचार
सुविचार
Dr MusafiR BaithA
गरीबी और भूख:समाधान क्या है ?
गरीबी और भूख:समाधान क्या है ?
Dr fauzia Naseem shad
जो मुस्किल में छोड़ जाए वो यार कैसा
जो मुस्किल में छोड़ जाए वो यार कैसा
Kumar lalit
अज्ञानी की कलम
अज्ञानी की कलम
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
साथियों जीत का समंदर,
साथियों जीत का समंदर,
Sunil Maheshwari
मुझे बिखरने मत देना
मुझे बिखरने मत देना
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
उसे अंधेरे का खौफ है इतना कि चाँद को भी सूरज कह दिया।
उसे अंधेरे का खौफ है इतना कि चाँद को भी सूरज कह दिया।
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
गीत..
गीत..
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
आपका लक्ष्य निर्धारण ही ये इशारा करता है कि भविष्य में आपकी
आपका लक्ष्य निर्धारण ही ये इशारा करता है कि भविष्य में आपकी
Paras Nath Jha
कुण्डलियां छंद-विधान-विजय कुमार पाण्डेय 'प्यासा'
कुण्डलियां छंद-विधान-विजय कुमार पाण्डेय 'प्यासा'
Vijay kumar Pandey
मनके मन की साधना,
मनके मन की साधना,
sushil sarna
"धुएँ में जिन्दगी"
Dr. Kishan tandon kranti
सफ़र में लाख़ मुश्किल हो मगर रोया नहीं करते
सफ़र में लाख़ मुश्किल हो मगर रोया नहीं करते
Johnny Ahmed 'क़ैस'
*मुझे गाँव की मिट्टी,याद आ रही है*
*मुझे गाँव की मिट्टी,याद आ रही है*
sudhir kumar
2770. *पूर्णिका*
2770. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
वक्त की जेबों को टटोलकर,
वक्त की जेबों को टटोलकर,
अनिल कुमार
दोस्ती क्या है
दोस्ती क्या है
VINOD CHAUHAN
काव्य में सत्य, शिव और सौंदर्य
काव्य में सत्य, शिव और सौंदर्य
कवि रमेशराज
World Earth Day
World Earth Day
Tushar Jagawat
You lived through it, you learned from it, now it's time to
You lived through it, you learned from it, now it's time to
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
"मलाईदार विभागों की खुली मांग और बिना शर्त समर्थन के दावे...
*प्रणय प्रभात*
शक
शक
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
*आते हैं बादल घने, घिर-घिर आती रात (कुंडलिया)*
*आते हैं बादल घने, घिर-घिर आती रात (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
If you have someone who genuinely cares about you, respects
If you have someone who genuinely cares about you, respects
पूर्वार्थ
मत फैला तू हाथ अब उसके सामने
मत फैला तू हाथ अब उसके सामने
gurudeenverma198
सामाजिक कविता: पाना क्या?
सामाजिक कविता: पाना क्या?
Rajesh Kumar Arjun
वो काल है - कपाल है,
वो काल है - कपाल है,
manjula chauhan
भरे हृदय में पीर
भरे हृदय में पीर
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
अहिल्या
अहिल्या
अनूप अम्बर
Loading...