Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Oct 2022 · 1 min read

तन्हाँ-तन्हाँ सफ़र

तन्हाँ-तन्हाँ सफर डराता है हमें
बिन तुम्हारे कुछ न भाता है हमें
तन्हाँ-तन्हाँ सफ़र………………
यूँ तो पहले भी हम अकेले थे
अब अकेले न चैन आता है हमें
तन्हाँ-तन्हाँ सफ़र………………
ये जिंदगी तुम्हारी अमानत है
तन्हाँ दिल बस ये बताता है हमें
तन्हाँ-तन्हाँ सफ़र………………
क्यों खफ़ा हो ये बताते जरा
बिन कहे जाना रूलाता है हमें
तन्हाँ-तन्हाँ सफ़र……………..
‘विनोद’ कैसे ये भूले हो तुम
थे हमसफ़र ये याद आता है हमे
तन्हाँ-तन्हाँ सफ़र………………

स्वरचित
( विनोद चौहान )

6 Likes · 4 Comments · 206 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from VINOD CHAUHAN
View all
You may also like:
सागर से अथाह और बेपनाह
सागर से अथाह और बेपनाह
VINOD CHAUHAN
Dictatorship in guise of Democracy ?
Dictatorship in guise of Democracy ?
Shyam Sundar Subramanian
मूक संवेदना
मूक संवेदना
Buddha Prakash
🙅पक्का वादा🙅
🙅पक्का वादा🙅
*Author प्रणय प्रभात*
आपकी यादें
आपकी यादें
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
बिछड़ कर तू भी जिंदा है
बिछड़ कर तू भी जिंदा है
डॉ. दीपक मेवाती
*स्वर्ग में सबको मिला तन, स्वस्थ और जवान है 【गीतिका】*
*स्वर्ग में सबको मिला तन, स्वस्थ और जवान है 【गीतिका】*
Ravi Prakash
~ हमारे रक्षक~
~ हमारे रक्षक~
करन ''केसरा''
सच्चाई ~
सच्चाई ~
दिनेश एल० "जैहिंद"
" भूलने में उसे तो ज़माने लगे "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
दरक जाती हैं दीवारें  यकीं ग़र हो न रिश्तों में
दरक जाती हैं दीवारें यकीं ग़र हो न रिश्तों में
Mahendra Narayan
बस यूँ ही
बस यूँ ही
Neelam Sharma
ਐਵੇਂ ਆਸ ਲਗਾਈ ਬੈਠੇ ਹਾਂ
ਐਵੇਂ ਆਸ ਲਗਾਈ ਬੈਠੇ ਹਾਂ
Surinder blackpen
मुद्दतों बाद फिर खुद से हुई है, मोहब्बत मुझे।
मुद्दतों बाद फिर खुद से हुई है, मोहब्बत मुझे।
Manisha Manjari
जीवन
जीवन
Monika Verma
मोहब्बत
मोहब्बत
AVINASH (Avi...) MEHRA
देख कर
देख कर
Santosh Shrivastava
गणेश वंदना
गणेश वंदना
Sushil Pandey
3451🌷 *पूर्णिका* 🌷
3451🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
जम़ी पर कुछ फुहारें अब अमन की चाहिए।
जम़ी पर कुछ फुहारें अब अमन की चाहिए।
सत्य कुमार प्रेमी
अनुभूति
अनुभूति
Dr. Kishan tandon kranti
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
छठ पूजा
छठ पूजा
Satish Srijan
जग मग दीप  जले अगल-बगल में आई आज दिवाली
जग मग दीप जले अगल-बगल में आई आज दिवाली
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
चुनौतियाँ बहुत आयी है,
चुनौतियाँ बहुत आयी है,
Dr. Man Mohan Krishna
पंखा
पंखा
देवराज यादव
रिस्ता मवाद है
रिस्ता मवाद है
Dr fauzia Naseem shad
मेरी जिंदगी
मेरी जिंदगी
ओनिका सेतिया 'अनु '
भारत माँ के वीर सपूत
भारत माँ के वीर सपूत
Kanchan Khanna
पड़े विनय को सीखना,
पड़े विनय को सीखना,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...