Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Feb 2024 · 1 min read

तकलीफ ना होगी मरने मे

मै कर्म जो ऐसे करता हूं, यह कर्म ही मेरे कल होंगे
जीवन तो यह बीत रहा, तकलीफ ना होगी मरने मे

मै धोखा फरेब अपनो संग, कभी नहीं कर सकता हुँ
मात-पिता के चरणों से, तकलीफ ना होगी सपने में
घमंड नहीं है अपनों पर, विश्वास में उन पर करता हूंँ
जीवन तो यह बीत रहा, तकलीफ ना होगी मरने मे

आज हम ने बोया होगा, कल वही तो फल काटेंगे
हम रिश्तों की मर्यादा रखेगे, सम्मान करेंगे अपनों में
बड़े बुजुर्गो व गुरुवार का, सम्मान सदा में करता हूँ
जीवन तो यह बीत रहा, तकलीफ ना होगी मरने मे

व्यर्थ ही उलझे पड़े हैं, हम संसारी भोग की खेलों में
आज तेरा कल वह मेरा, बस यही मिलेगा अपनों में
जब कर्म ही मेरे कल होंगे, मै कर्म क्यो ऐसे करता हूंँ
जीवन तो युही बीत गया, तकलीफ ना होगी मरने मे

लीलाधर चौबिसा (अनिल)
चित्तौड़गढ़ 9829246588

Language: Hindi
58 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
#मुक्तक
#मुक्तक
*Author प्रणय प्रभात*
"The Deity in Red"
Manisha Manjari
भेड़ चालों का रटन हुआ
भेड़ चालों का रटन हुआ
Vishnu Prasad 'panchotiya'
शौक-ए-आदम
शौक-ए-आदम
AJAY AMITABH SUMAN
चंद्रयान-२ और ३ मिशन
चंद्रयान-२ और ३ मिशन
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
गजल
गजल
Punam Pande
२९०८/२०२३
२९०८/२०२३
कार्तिक नितिन शर्मा
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सागर की हिलोरे
सागर की हिलोरे
SATPAL CHAUHAN
हिय जुराने वाली मिताई पाना सुख का सागर पा जाना है!
हिय जुराने वाली मिताई पाना सुख का सागर पा जाना है!
Dr MusafiR BaithA
शायरी 2
शायरी 2
SURYA PRAKASH SHARMA
मशाल
मशाल
नेताम आर सी
*बांहों की हिरासत का हकदार है समझा*
*बांहों की हिरासत का हकदार है समझा*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
मतिभ्रष्ट
मतिभ्रष्ट
Shyam Sundar Subramanian
🌿🍀🌿🍀🌿🍀🌿🍀🌿🍀🌿🍀🌿🍀
🌿🍀🌿🍀🌿🍀🌿🍀🌿🍀🌿🍀🌿🍀
subhash Rahat Barelvi
राष्ट्र सेवा के मौनव्रती श्री सुरेश राम भाई
राष्ट्र सेवा के मौनव्रती श्री सुरेश राम भाई
Ravi Prakash
2640.पूर्णिका
2640.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
साथ
साथ
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
मुक्तक-
मुक्तक-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
"सबसे बढ़कर"
Dr. Kishan tandon kranti
मिट्टी का बदन हो गया है
मिट्टी का बदन हो गया है
Surinder blackpen
समय के पहिए पर कुछ नए आयाम छोड़ते है,
समय के पहिए पर कुछ नए आयाम छोड़ते है,
manjula chauhan
* साथ जब बढ़ना हमें है *
* साथ जब बढ़ना हमें है *
surenderpal vaidya
कितना प्यार करता हू
कितना प्यार करता हू
Basant Bhagawan Roy
।। जीवन प्रयोग मात्र ।।
।। जीवन प्रयोग मात्र ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
शीर्षक - सच (हमारी सोच)
शीर्षक - सच (हमारी सोच)
Neeraj Agarwal
💐प्रेम कौतुक-215💐
💐प्रेम कौतुक-215💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ग़म
ग़म
Harminder Kaur
*मन राह निहारे हारा*
*मन राह निहारे हारा*
Poonam Matia
Cottage house
Cottage house
Otteri Selvakumar
Loading...