Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Mar 2023 · 1 min read

तंज़ीम

डॉ अरुण कुमार शास्त्री -एक अबोध बालक- अरुण अतृप्त ।
” तंज़ीम ”

प्रथा से ही प्रगति की दीवार लाँघ कर
प्रशस्ति के नए नए आयाम सर किये जायेंगे ।
जो हार हम न मानें तो सफलता मिलने के सभी सोपान तय किए जाएंगे ।।
हैरत से नहीं देखीये उनको जिन्होंने की है ऊँचाईयाँ जीवन में अपने दम पर ।।
साफ़ साफ़ लिख लीजिये, सिर्फ उनके ही तो नाम स्वर्णाक्षरों से लिखे जायेंगे ।।
मैंने कब कहा कि ये काम आपके लिए बहुत मुश्किल था असम्भव था ।।
सलीके से तरतीब से अजी साहिब एक नेक इंसान बन के तारतम्यता तो निभाइये ।।
प्रथा से ही प्रगति की दीवार लाँघ कर
प्रशस्ति के नए नए आयाम सर किये जायेंगे ।

213 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR ARUN KUMAR SHASTRI
View all
You may also like:
किस गुस्ताखी की जमाना सजा देता है..
किस गुस्ताखी की जमाना सजा देता है..
कवि दीपक बवेजा
हम ख़फ़ा हो
हम ख़फ़ा हो
Dr fauzia Naseem shad
तुझे ढूंढने निकली तो, खाली हाथ लौटी मैं।
तुझे ढूंढने निकली तो, खाली हाथ लौटी मैं।
Manisha Manjari
इतना बवाल मचाएं हो के ये मेरा हिंदुस्थान है
इतना बवाल मचाएं हो के ये मेरा हिंदुस्थान है
'अशांत' शेखर
इतनी मिलती है तेरी सूरत से सूरत मेरी ‌
इतनी मिलती है तेरी सूरत से सूरत मेरी ‌
Phool gufran
हम
हम
Shriyansh Gupta
किसी की याद आना
किसी की याद आना
श्याम सिंह बिष्ट
आओ चले अब बुद्ध की ओर
आओ चले अब बुद्ध की ओर
Buddha Prakash
वो परिंदा, है कर रहा देखो
वो परिंदा, है कर रहा देखो
Shweta Soni
दोहे- उड़ान
दोहे- उड़ान
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
बस एक गलती
बस एक गलती
Vishal babu (vishu)
ये मौसम ,हाँ ये बादल, बारिश, हवाएं, सब कह रहे हैं कितना खूबस
ये मौसम ,हाँ ये बादल, बारिश, हवाएं, सब कह रहे हैं कितना खूबस
Swara Kumari arya
याद करेगा कौन फिर, मर जाने के बाद
याद करेगा कौन फिर, मर जाने के बाद
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जाग गया है हिन्दुस्तान
जाग गया है हिन्दुस्तान
Bodhisatva kastooriya
सुखों से दूर ही रहते, दुखों के मीत हैं आँसू।
सुखों से दूर ही रहते, दुखों के मीत हैं आँसू।
डॉ.सीमा अग्रवाल
सजधज कर आती नई , दुल्हन एक समान(कुंडलिया)
सजधज कर आती नई , दुल्हन एक समान(कुंडलिया)
Ravi Prakash
मां से ही तो सीखा है।
मां से ही तो सीखा है।
SATPAL CHAUHAN
वक्त बर्बाद करने वाले को एक दिन वक्त बर्बाद करके छोड़ता है।
वक्त बर्बाद करने वाले को एक दिन वक्त बर्बाद करके छोड़ता है।
Paras Nath Jha
" आज भी है "
Aarti sirsat
ऐ वतन
ऐ वतन
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
सृष्टि रचेता
सृष्टि रचेता
RAKESH RAKESH
💐प्रेम कौतुक-435💐
💐प्रेम कौतुक-435💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सरकार
सरकार "सीटों" से बनती है
*Author प्रणय प्रभात*
इकिगाई प्रेम है ।❤️
इकिगाई प्रेम है ।❤️
Rohit yadav
चाहत
चाहत
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
विचारों की अधिकता लोगों को शून्य कर देती है
विचारों की अधिकता लोगों को शून्य कर देती है
Amit Pandey
जानें क्युँ अधूरी सी लगती है जिंदगी.
जानें क्युँ अधूरी सी लगती है जिंदगी.
शेखर सिंह
व्यथित ह्रदय
व्यथित ह्रदय
कवि अनिल कुमार पँचोली
"चंदा मामा"
Dr. Kishan tandon kranti
कलमी आजादी
कलमी आजादी
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
Loading...