Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Nov 2022 · 1 min read

डोमिन ।

।डोमिन ।
-आचार्य रामानंद मंडल
गहन के सिधा।
गेट पर से आवाज आयल।
के छी।
हम डोमिन।
खुब सुन्नर कारी युवती।
उमर इहे पच्चीस।
कान नाक सोन से अलंकृत।
पैर में चानी के पायल।
क देलक दिल के घायल।
वोकर सुन्नरता न।
जौं हम कहली।
काहे मंगैत छी भीख।
उ कहलक हम छी डोम।
गहन के सीधा हमर अधिकार।
हम कहली।
कैला बनैय छी नीच।
उ कहलक।
भगवाने बनैले हय नीच।
हम सोचे लगली।
शास्त्र बनैले हय नीच।
हम कहली।
बिहार में बनलय हय।
एगो दरोगा डोम।
आबि न मांगू सिधा भीख।
न लौटायब खाली हाथ।
हम दे देली सिधा भीख।
हमरा द्वार से जाके।
रामा मांगे लागल।
डोमिन सिधा भीख।
-आचार्य रामानंद मंडल सामाजिक चिंतक सह साहित्यकार सीतामढ़ी।

Language: Maithili
2 Likes · 901 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
2878.*पूर्णिका*
2878.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
यति यतनलाल
यति यतनलाल
Dr. Pradeep Kumar Sharma
एक गिलहरी
एक गिलहरी
अटल मुरादाबादी, ओज व व्यंग कवि
जड़ें
जड़ें
Dr. Kishan tandon kranti
जय हिन्द वाले
जय हिन्द वाले
Shekhar Chandra Mitra
#justareminderekabodhbalak
#justareminderekabodhbalak
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मेरे हैं बस दो ख़ुदा
मेरे हैं बस दो ख़ुदा
The_dk_poetry
'महंगाई की मार'
'महंगाई की मार'
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
रससिद्धान्त मूलतः अर्थसिद्धान्त पर आधारित
रससिद्धान्त मूलतः अर्थसिद्धान्त पर आधारित
कवि रमेशराज
दीप जलाकर अंतर्मन का, दीपावली मनाओ तुम।
दीप जलाकर अंतर्मन का, दीपावली मनाओ तुम।
आर.एस. 'प्रीतम'
नेह का दीपक
नेह का दीपक
Arti Bhadauria
बाल एवं हास्य कविता: मुर्गा टीवी लाया है।
बाल एवं हास्य कविता: मुर्गा टीवी लाया है।
Rajesh Kumar Arjun
धमकियां शुरू हो गई
धमकियां शुरू हो गई
Basant Bhagawan Roy
भेज भी दो
भेज भी दो
हिमांशु Kulshrestha
जो व्यक्ति अपने मन को नियंत्रित कर लेता है उसको दूसरा कोई कि
जो व्यक्ति अपने मन को नियंत्रित कर लेता है उसको दूसरा कोई कि
Rj Anand Prajapati
****वो जीवन मिले****
****वो जीवन मिले****
Kavita Chouhan
" मिट्टी के बर्तन "
Pushpraj Anant
महान जन नायक, क्रांति सूर्य,
महान जन नायक, क्रांति सूर्य, "शहीद बिरसा मुंडा" जी को उनकी श
नेताम आर सी
#ग़ज़ल
#ग़ज़ल
*Author प्रणय प्रभात*
आप समझिये साहिब कागज और कलम की ताकत हर दुनिया की ताकत से बड़ी
आप समझिये साहिब कागज और कलम की ताकत हर दुनिया की ताकत से बड़ी
शेखर सिंह
रोजी रोटी के क्या दाने
रोजी रोटी के क्या दाने
AJAY AMITABH SUMAN
ग़ज़ल/नज़्म - शाम का ये आसमांँ आज कुछ धुंधलाया है
ग़ज़ल/नज़्म - शाम का ये आसमांँ आज कुछ धुंधलाया है
अनिल कुमार
जाने  कौन  कहाँ  गए, सस्ते के वह ठाठ (कुंडलिया)
जाने कौन कहाँ गए, सस्ते के वह ठाठ (कुंडलिया)
Ravi Prakash
-- जिंदगी तो कट जायेगी --
-- जिंदगी तो कट जायेगी --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
जवानी
जवानी
Pratibha Pandey
गुरुवर
गुरुवर
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
कर्मठ व्यक्ति की सहनशीलता ही धैर्य है, उसके द्वारा किया क्षम
कर्मठ व्यक्ति की सहनशीलता ही धैर्य है, उसके द्वारा किया क्षम
Sanjay ' शून्य'
छन्द- सम वर्णिक छन्द
छन्द- सम वर्णिक छन्द " कीर्ति "
rekha mohan
मैं ऐसा नही चाहता
मैं ऐसा नही चाहता
Rohit yadav
Loading...