Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Apr 2024 · 1 min read

डॉ अरूण कुमार शास्त्री

डॉ अरूण कुमार शास्त्री

ऐ री मैं तो प्रेम दीवानी

मुझे इंतजार करना अच्छा लगता है विशेष परिस्थितियों में जिनके सूत्रधार तुम हो ।
इंतजार भी खूबसूरत हो सकता है, पहले तो मैंने कभी सोचा न था।

मायने नहीं रखता कि आपका ईश्वर, ईश्वर है या कोई इन्सान सिर्फ इबादत करते हैं वो लोग।
जिन्होंने चाकरी करनी होती हैं वो झुकते हैं तो सिर्फ़ सम्पूर्ण ब्रह्मांड में उसके आगे जो उनकी नज़र में होता उनका खुदा ।

आनन्द ही आनन्द होता है उनके लिए इस स्थिति में जो उनके अलावा कहां दिखाई देता किसी और को ।
जैसे मीरा नाचती थी तो सिर्फ कृष्ण के लिए मात्र , उसको शर्म महसूस हुई ही नहीं, परिवार राणा का जिसे कहता बेहयाई।

प्रेम का सरोवर, भक्ति का भाव नहीं देखता डूब जाता है उसकी तृप्ति ही उसका एक अवलंबन बस और कुछ नहीं।
तुम लाख कोशिशों से डूबो उस आनन्द को उसको न पाओगे जिस दिन पा लोगे , मीरा न हो जाओगे।

करी थी कोशिश हजारों ने लेकिन सफल न हुऐ कारण कुछ और नहीं बस मीरा तो युगों युगों में एक ही होती कोई विरली जिसके लिए हलाहल भी था बेअसर साबित हुआ ।

Language: Hindi
45 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR ARUN KUMAR SHASTRI
View all
You may also like:
उदासी
उदासी
DR. Kaushal Kishor Shrivastava
तत्काल लाभ के चक्कर में कोई ऐसा कार्य नहीं करें, जिसमें धन भ
तत्काल लाभ के चक्कर में कोई ऐसा कार्य नहीं करें, जिसमें धन भ
Paras Nath Jha
इज्जत कितनी देनी है जब ये लिबास तय करता है
इज्जत कितनी देनी है जब ये लिबास तय करता है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
धर्म के रचैया श्याम,नाग के नथैया श्याम
धर्म के रचैया श्याम,नाग के नथैया श्याम
कृष्णकांत गुर्जर
गीतिका
गीतिका
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
पहले उसकी आदत लगाते हो,
पहले उसकी आदत लगाते हो,
Raazzz Kumar (Reyansh)
कुछ अपनें ऐसे होते हैं,
कुछ अपनें ऐसे होते हैं,
Yogendra Chaturwedi
उफ़,
उफ़,
Vishal babu (vishu)
महावीर उत्तरांचली आप सभी के प्रिय कवि
महावीर उत्तरांचली आप सभी के प्रिय कवि
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दिल में रह जाते हैं
दिल में रह जाते हैं
Dr fauzia Naseem shad
हर दिन रोज नया प्रयास करने से जीवन में नया अंदाज परिणाम लाता
हर दिन रोज नया प्रयास करने से जीवन में नया अंदाज परिणाम लाता
Shashi kala vyas
गाछ सभक लेल
गाछ सभक लेल
DrLakshman Jha Parimal
क्या कर लेगा कोई तुम्हारा....
क्या कर लेगा कोई तुम्हारा....
Suryakant Dwivedi
अपनी कलम से.....!
अपनी कलम से.....!
singh kunwar sarvendra vikram
Be happy with the little that you have, there are people wit
Be happy with the little that you have, there are people wit
पूर्वार्थ
सर्दियों का मौसम - खुशगवार नहीं है
सर्दियों का मौसम - खुशगवार नहीं है
Atul "Krishn"
बारिश की मस्ती
बारिश की मस्ती
Shaily
2962.*पूर्णिका*
2962.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सांसों से आईने पर क्या लिखते हो।
सांसों से आईने पर क्या लिखते हो।
Taj Mohammad
इस तरह छोड़कर भला कैसे जाओगे।
इस तरह छोड़कर भला कैसे जाओगे।
Surinder blackpen
"कहानी अउ जवानी"
Dr. Kishan tandon kranti
मैं भटकता ही रहा दश्त ए शनासाई में
मैं भटकता ही रहा दश्त ए शनासाई में
Anis Shah
कितने कोमे जिंदगी ! ले अब पूर्ण विराम।
कितने कोमे जिंदगी ! ले अब पूर्ण विराम।
डॉ.सीमा अग्रवाल
*साइकिल (कुंडलिया)*
*साइकिल (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
इन टिमटिमाते तारों का भी अपना एक वजूद होता है
इन टिमटिमाते तारों का भी अपना एक वजूद होता है
ruby kumari
पार्थगाथा
पार्थगाथा
Vivek saswat Shukla
#एक_तथ्य-
#एक_तथ्य-
*Author प्रणय प्रभात*
जीवन
जीवन
Bodhisatva kastooriya
फिर जिंदगी ने दम तोड़ा है
फिर जिंदगी ने दम तोड़ा है
Smriti Singh
ईश्वर से ...
ईश्वर से ...
Sangeeta Beniwal
Loading...