Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Apr 2023 · 1 min read

डॉ अरुण कुमार शास्त्री

डॉ अरुण कुमार शास्त्री
रास्ते सर होते देर कहाँ लगती है
कदमों में जिनके ज़ान होती है
उन्हें कोई मुश्किल कहाँ ठगती है
भरोसा कीजिये मालिक की रहमतों का
तक़दीर पलटने में सिर्फ़ आँख झपकती है

274 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR ARUN KUMAR SHASTRI
View all
You may also like:
💐प्रेम कौतुक-436💐
💐प्रेम कौतुक-436💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
"दोस्त-दोस्ती और पल"
Lohit Tamta
*पवन-पुत्र हनुमान (कुंडलिया)*
*पवन-पुत्र हनुमान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
■ आस्था के आयाम...
■ आस्था के आयाम...
*Author प्रणय प्रभात*
"मातृत्व"
Dr. Kishan tandon kranti
"प्यासा"के गजल
Vijay kumar Pandey
आपकी बुद्धिमत्ता को कभी भी एक बार में नहीं आंका जा सकता क्यो
आपकी बुद्धिमत्ता को कभी भी एक बार में नहीं आंका जा सकता क्यो
Rj Anand Prajapati
वो चिट्ठियां
वो चिट्ठियां
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
बंद करो अब दिवसीय काम।
बंद करो अब दिवसीय काम।
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
कल पर कोई काम न टालें
कल पर कोई काम न टालें
महेश चन्द्र त्रिपाठी
তুমি এলে না
তুমি এলে না
goutam shaw
लगाव
लगाव
Rajni kapoor
#लाश_पर_अभिलाष_की_बंसी_सुखद_कैसे_बजाएं?
#लाश_पर_अभिलाष_की_बंसी_सुखद_कैसे_बजाएं?
संजीव शुक्ल 'सचिन'
कई लोगों के दिलों से बहुत दूर हुए हैं
कई लोगों के दिलों से बहुत दूर हुए हैं
कवि दीपक बवेजा
कोतवाली
कोतवाली
Dr. Pradeep Kumar Sharma
" मंजिल का पता ना दो "
Aarti sirsat
मौत से लड़ती जिंदगी..✍️🤔💯🌾🌷🌿
मौत से लड़ती जिंदगी..✍️🤔💯🌾🌷🌿
Ms.Ankit Halke jha
गुमनाम मुहब्बत का आशिक
गुमनाम मुहब्बत का आशिक
डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
सहज है क्या _
सहज है क्या _
Aradhya Raj
श्री गणेश का अर्थ
श्री गणेश का अर्थ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ईद मुबारक
ईद मुबारक
Satish Srijan
भगतसिंह मरा नहीं करते
भगतसिंह मरा नहीं करते
Shekhar Chandra Mitra
अपनों के अपनेपन का अहसास
अपनों के अपनेपन का अहसास
Harminder Kaur
हिंदी दलित साहित्य में बिहार- झारखंड के कथाकारों की भूमिका// आनंद प्रवीण
हिंदी दलित साहित्य में बिहार- झारखंड के कथाकारों की भूमिका// आनंद प्रवीण
आनंद प्रवीण
रुसवा हुए हम सदा उसकी गलियों में,
रुसवा हुए हम सदा उसकी गलियों में,
Vaishaligoel
सुन मेरे बच्चे
सुन मेरे बच्चे
Sangeeta Beniwal
विरक्ति
विरक्ति
swati katiyar
वो सुन के इस लिए मुझको जवाब देता नहीं
वो सुन के इस लिए मुझको जवाब देता नहीं
Aadarsh Dubey
ये कमाल हिन्दोस्ताँ का है
ये कमाल हिन्दोस्ताँ का है
अरशद रसूल बदायूंनी
क्या मिला मुझको उनसे
क्या मिला मुझको उनसे
gurudeenverma198
Loading...