Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Jan 2024 · 1 min read

डॉ अरुण कुमार शास्त्री

डॉ अरुण कुमार शास्त्री
बुद्धिमान व्यक्ति अधिकतर जवाब होते हुए भी पलट कर नहीं बोलते क्योंकि कई बार रिश्तों को जिंदा रखने के लिए,खामोश रह कर हारना जरूरी होता है। किसी की नजर में आप अच्छे हैं और किसी की नजर में आप बुरे हैं वास्तविकता ये है कि जिस की जैसी जरूरत है, उनके लिए आप वैसे ही हैं! यहां दर्द सबके एक से है,मगर हौंसले सबके अलग अलग है! कोई हताश हो के बिखर जाता है,तो कोई संघर्ष करके निखर जाता है।अभिमन्यु की एक बात बड़ी शिक्षा देतीं हैं हिम्मत से हारना पर हिम्मत मत हारना।

125 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR ARUN KUMAR SHASTRI
View all
You may also like:
थम जाने दे तूफान जिंदगी के
थम जाने दे तूफान जिंदगी के
कवि दीपक बवेजा
मन की गांठ
मन की गांठ
Sangeeta Beniwal
मातु भवानी
मातु भवानी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
कहो तो..........
कहो तो..........
Ghanshyam Poddar
चाय का निमंत्रण
चाय का निमंत्रण
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
"परिवार क्या है"
Dr. Kishan tandon kranti
बादलों की उदासी
बादलों की उदासी
Shweta Soni
समस्त जगतकी बहर लहर पर,
समस्त जगतकी बहर लहर पर,
Neelam Sharma
हिन्दी पर विचार
हिन्दी पर विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कई वर्षों से ठीक से होली अब तक खेला नहीं हूं मैं /लवकुश यादव
कई वर्षों से ठीक से होली अब तक खेला नहीं हूं मैं /लवकुश यादव "अज़ल"
लवकुश यादव "अज़ल"
मुहब्बत की लिखावट में लिखा हर गुल का अफ़साना
मुहब्बत की लिखावट में लिखा हर गुल का अफ़साना
आर.एस. 'प्रीतम'
প্রফুল্ল হৃদয় এবং হাস্যোজ্জ্বল চেহারা
প্রফুল্ল হৃদয় এবং হাস্যোজ্জ্বল চেহারা
Sakhawat Jisan
प्रेम पाना,नियति है..
प्रेम पाना,नियति है..
पूर्वार्थ
नया है रंग, है नव वर्ष, जीना चाहता हूं।
नया है रंग, है नव वर्ष, जीना चाहता हूं।
सत्य कुमार प्रेमी
वेलेंटाइन डे
वेलेंटाइन डे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बिंते-हव्वा (हव्वा की बेटी)
बिंते-हव्वा (हव्वा की बेटी)
Shekhar Chandra Mitra
एक मन
एक मन
Dr.Priya Soni Khare
अनेक को दिया उजाड़
अनेक को दिया उजाड़
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
बन के आंसू
बन के आंसू
Dr fauzia Naseem shad
कहानी :#सम्मान
कहानी :#सम्मान
Usha Sharma
2781. *पूर्णिका*
2781. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
फितरत
फितरत
Srishty Bansal
*अध्याय 9*
*अध्याय 9*
Ravi Prakash
प्रश्न  शूल आहत करें,
प्रश्न शूल आहत करें,
sushil sarna
■ बेचारे...
■ बेचारे...
*Author प्रणय प्रभात*
भीड़ के साथ
भीड़ के साथ
Paras Nath Jha
आँखों में अब बस तस्वीरें मुस्कुराये।
आँखों में अब बस तस्वीरें मुस्कुराये।
Manisha Manjari
*अहंकार *
*अहंकार *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
नजरअंदाज करने के
नजरअंदाज करने के
Dr Manju Saini
इश्क़
इश्क़
लक्ष्मी सिंह
Loading...