Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Dec 2023 · 1 min read

डॉ अरुण कुमार शास्त्री

डॉ अरुण कुमार शास्त्री
नीर भरे बदरा बरस जाते हैं
गुण होते जिस मानव में दिख जाते हैं
सौन्दर्य झोंपड़ी में भी छुप सकता नहीं
कृतित्व हमेशा से हो जाता कद से ऊंचा
ये कहते जगत भर के संत सभी रे इंसान

112 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR ARUN KUMAR SHASTRI
View all
You may also like:
⚘छंद-भद्रिका वर्णवृत्त⚘
⚘छंद-भद्रिका वर्णवृत्त⚘
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
जुगनू
जुगनू
Dr. Pradeep Kumar Sharma
भरमाभुत
भरमाभुत
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
निरीह गौरया
निरीह गौरया
Dr.Pratibha Prakash
बिधवा के पियार!
बिधवा के पियार!
Acharya Rama Nand Mandal
बढ़ना होगा
बढ़ना होगा
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
मानसिक शान्ति के मूल्य पर अगर आप कोई बहुमूल्य चीज भी प्राप्त
मानसिक शान्ति के मूल्य पर अगर आप कोई बहुमूल्य चीज भी प्राप्त
Paras Nath Jha
जय माँ दुर्गा देवी,मैया जय अंबे देवी...
जय माँ दुर्गा देवी,मैया जय अंबे देवी...
Harminder Kaur
“ मैथिली ग्रुप आ मिथिला राज्य ”
“ मैथिली ग्रुप आ मिथिला राज्य ”
DrLakshman Jha Parimal
*मूॅंगफली स्वादिष्ट, सर्वजन की यह मेवा (कुंडलिया)*
*मूॅंगफली स्वादिष्ट, सर्वजन की यह मेवा (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
मै ज़िन्दगी के उस दौर से गुज़र रहा हूँ जहाँ मेरे हालात और मै
मै ज़िन्दगी के उस दौर से गुज़र रहा हूँ जहाँ मेरे हालात और मै
पूर्वार्थ
दुश्मन जमाना बेटी का
दुश्मन जमाना बेटी का
लक्ष्मी सिंह
समझ
समझ
Dinesh Kumar Gangwar
प्रेत बाधा एव वास्तु -ज्योतिषीय शोध लेख
प्रेत बाधा एव वास्तु -ज्योतिषीय शोध लेख
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मज़बूत होने में
मज़बूत होने में
Ranjeet kumar patre
कितना प्यारा कितना पावन
कितना प्यारा कितना पावन
जगदीश लववंशी
*बोल*
*बोल*
Dushyant Kumar
मानवता
मानवता
विजय कुमार अग्रवाल
Maine jab ijajat di
Maine jab ijajat di
Sakshi Tripathi
जो कहना है खुल के कह दे....
जो कहना है खुल के कह दे....
Shubham Pandey (S P)
नव वर्ष का आगाज़
नव वर्ष का आगाज़
Vandna Thakur
ना रहीम मानता हूँ मैं, ना ही राम मानता हूँ
ना रहीम मानता हूँ मैं, ना ही राम मानता हूँ
VINOD CHAUHAN
3185.*पूर्णिका*
3185.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
खुद से सिफारिश कर लेते हैं
खुद से सिफारिश कर लेते हैं
Smriti Singh
कवि होश में रहें / MUSAFIR BAITHA
कवि होश में रहें / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
हिन्दी दिवस
हिन्दी दिवस
SHAMA PARVEEN
वस हम पर
वस हम पर
Dr fauzia Naseem shad
यादों को दिल से मिटाने लगा है वो आजकल
यादों को दिल से मिटाने लगा है वो आजकल
कृष्णकांत गुर्जर
ग़ज़ल
ग़ज़ल
विमला महरिया मौज
विश्व पर्यावरण दिवस
विश्व पर्यावरण दिवस
Ram Krishan Rastogi
Loading...