Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Jul 2023 · 1 min read

डॉ अरुण कुमार शास्त्री – एक अबोध बालक

डॉ अरुण कुमार शास्त्री – एक अबोध बालक
🤣
नहा धोकर
सुनी जब
शायरी मेरी
उस बेदर्द ने
लगा कर पाउडर
खुशबू बिखेरी
फिजाँ में
उस हसीन ने
महक रहा है
मंच तबसे
रात की रानी
की खुशबू से
अजब सी रागिनी
बिखेरी उस बेदर्द ने

269 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR ARUN KUMAR SHASTRI
View all
You may also like:
सत्यं शिवम सुंदरम!!
सत्यं शिवम सुंदरम!!
ओनिका सेतिया 'अनु '
चाहता हे उसे सारा जहान
चाहता हे उसे सारा जहान
Swami Ganganiya
शिक़ायत नहीं है
शिक़ायत नहीं है
Monika Arora
प्रेरणा गीत (सूरज सा होना मुश्किल पर......)
प्रेरणा गीत (सूरज सा होना मुश्किल पर......)
अनिल कुमार निश्छल
समझ मत मील भर का ही, सृजन संसार मेरा है ।
समझ मत मील भर का ही, सृजन संसार मेरा है ।
Ashok deep
चलो♥️
चलो♥️
Srishty Bansal
दिल नहीं ऐतबार
दिल नहीं ऐतबार
Dr fauzia Naseem shad
3088.*पूर्णिका*
3088.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
पड़ोसन ने इतरा कर पूछा-
पड़ोसन ने इतरा कर पूछा- "जानते हो, मेरा बैंक कौन है...?"
*Author प्रणय प्रभात*
किसी के अंतर्मन की वो आग बुझाने निकला है
किसी के अंतर्मन की वो आग बुझाने निकला है
कवि दीपक बवेजा
नाम तेरा रेत पर लिखते लिखाते रह गये।
नाम तेरा रेत पर लिखते लिखाते रह गये।
डॉक्टर रागिनी
शुभ प्रभात मित्रो !
शुभ प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
लइका ल लगव नही जवान तै खाले मलाई
लइका ल लगव नही जवान तै खाले मलाई
Ranjeet kumar patre
!! वो बचपन !!
!! वो बचपन !!
Akash Yadav
पहाड़ के गांव,एक गांव से पलायन पर मेरे भाव ,
पहाड़ के गांव,एक गांव से पलायन पर मेरे भाव ,
Mohan Pandey
कैसा क़हर है क़ुदरत
कैसा क़हर है क़ुदरत
Atul "Krishn"
झूठ के सागर में डूबते आज के हर इंसान को देखा
झूठ के सागर में डूबते आज के हर इंसान को देखा
इंजी. संजय श्रीवास्तव
राना लिधौरी के बुंदेली दोहा
राना लिधौरी के बुंदेली दोहा
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
है धरा पर पाप का हर अभिश्राप बाकी!
है धरा पर पाप का हर अभिश्राप बाकी!
Bodhisatva kastooriya
परेशान देख भी चुपचाप रह लेती है
परेशान देख भी चुपचाप रह लेती है
Keshav kishor Kumar
*सुवासित हैं दिशाऍं सब, सुखद आभास आया है(मुक्तक)*
*सुवासित हैं दिशाऍं सब, सुखद आभास आया है(मुक्तक)*
Ravi Prakash
केना  बुझब  मित्र आहाँ केँ कहियो नहिं गप्प केलहूँ !
केना बुझब मित्र आहाँ केँ कहियो नहिं गप्प केलहूँ !
DrLakshman Jha Parimal
अवसर
अवसर
Neeraj Agarwal
ओस की बूंद
ओस की बूंद
RAKESH RAKESH
शिवनाथ में सावन
शिवनाथ में सावन
Santosh kumar Miri
"ख्वाब"
Dr. Kishan tandon kranti
दुख
दुख
Rekha Drolia
सच्चाई ~
सच्चाई ~
दिनेश एल० "जैहिंद"
धरातल की दशा से मुंह मोड़
धरातल की दशा से मुंह मोड़
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
आईने में ...
आईने में ...
Manju Singh
Loading...