Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Jun 2023 · 1 min read

डूबें अक्सर जो करें,

डूबें अक्सर जो करें,
दो नावों की चाह
चलना मुमकिन ही नहीं,
एक वक़्त दो राह
–महावीर उत्तरांचली

2 Likes · 282 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
View all
You may also like:
सफलता
सफलता
Vandna Thakur
आज जो कल ना रहेगा
आज जो कल ना रहेगा
Ramswaroop Dinkar
माँ काली साक्षात
माँ काली साक्षात
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बस अणु भर मैं बस एक अणु भर
बस अणु भर मैं बस एक अणु भर
Atul "Krishn"
आज के युग में नारीवाद
आज के युग में नारीवाद
Surinder blackpen
मंदिर का न्योता ठुकराकर हे भाई तुमने पाप किया।
मंदिर का न्योता ठुकराकर हे भाई तुमने पाप किया।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
बारिश पर लिखे अशआर
बारिश पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
नव वर्ष हैप्पी वाला
नव वर्ष हैप्पी वाला
Satish Srijan
* आ गया बसंत *
* आ गया बसंत *
surenderpal vaidya
क़त्ल कर गया तो क्या हुआ, इश्क़ ही तो है-
क़त्ल कर गया तो क्या हुआ, इश्क़ ही तो है-
Shreedhar
मेरी माँ
मेरी माँ
Pooja Singh
एकाकीपन
एकाकीपन
Shyam Sundar Subramanian
जहां तक तुम सोच सकते हो
जहां तक तुम सोच सकते हो
Ankita Patel
*दशरथ के ऑंगन में देखो, नाम गूॅंजता राम है (गीत)*
*दशरथ के ऑंगन में देखो, नाम गूॅंजता राम है (गीत)*
Ravi Prakash
जिंदगी
जिंदगी
Bodhisatva kastooriya
जिंदगी के लिए वो क़िरदार हैं हम,
जिंदगी के लिए वो क़िरदार हैं हम,
Ashish shukla
हँसी!
हँसी!
कविता झा ‘गीत’
हाथों में गुलाब🌹🌹
हाथों में गुलाब🌹🌹
Chunnu Lal Gupta
"प्रेम -मिलन '
DrLakshman Jha Parimal
मोबाईल नहीं
मोबाईल नहीं
Harish Chandra Pande
छाई रे घटा घनघोर,सखी री पावस में चहुंओर
छाई रे घटा घनघोर,सखी री पावस में चहुंओर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
भले ई फूल बा करिया
भले ई फूल बा करिया
आकाश महेशपुरी
■ ब्रांच हर गांव, कस्बे, शहर में।
■ ब्रांच हर गांव, कस्बे, शहर में।
*Author प्रणय प्रभात*
कुंडलिया
कुंडलिया
गुमनाम 'बाबा'
गीत..
गीत..
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
कब टूटा है
कब टूटा है
sushil sarna
3207.*पूर्णिका*
3207.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तनावमुक्त
तनावमुक्त
Kanchan Khanna
स्त्री का प्रेम ना किसी का गुलाम है और ना रहेगा
स्त्री का प्रेम ना किसी का गुलाम है और ना रहेगा
प्रेमदास वसु सुरेखा
अंहकार
अंहकार
Neeraj Agarwal
Loading...