Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Feb 2024 · 1 min read

“डिजिटल दुनिया! खो गए हैं हम.. इस डिजिटल दुनिया के मोह में,

“डिजिटल दुनिया! खो गए हैं हम.. इस डिजिटल दुनिया के मोह में, भूल गए हैं हम..
अपनो का अपनापन व रिश्ते-नाते, नई पीढ़ी के ये बच्चे…
कलम पकड़ना ना सीखे किंतु मोबाइल पकड़ना सीख रहे, डूब रहे हैं हम..
डिजिटल दुनिया के दलदल में परिणाम जिसका भयावह है।
डिजिटल खेल भी अब इंसान कि जान तक आ पहुंचे, स्मरण रहे…
डिजिटल दुनिया के जाल में, किताबों सा एहसास कहीं ओर नहीं।
वो मन कि भावनाएं … पत्रों में जो पहले झलकती थी,
उन पत्रों कि जगह आज डिजिटल गैजेट्स ने संभाल ली है।
तुम लिखना एक पत्र…
इस डिजिटल दुनिया के मोह से दूर हटकर!
तुम लिखना ऐसे गहरे शब्द जो ह्रदय के केन्द्र बिन्दु को जा छुए! पत्र में लिखना तुम…
वो मुलाकातें, वो बातें! जिन्हें पढ़कर ये डिजिटल दुनिया,
मात्र एक छलावा,झूठं,फरेब का पुलिंदा लगे।”

126 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
👌ग़ज़ल👌
👌ग़ज़ल👌
*प्रणय प्रभात*
"आज का आदमी"
Dr. Kishan tandon kranti
अब मै ख़ुद से खफा रहने लगा हूँ
अब मै ख़ुद से खफा रहने लगा हूँ
Bhupendra Rawat
ग़ज़ल /
ग़ज़ल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
*जब एक ही वस्तु कभी प्रीति प्रदान करने वाली होती है और कभी द
*जब एक ही वस्तु कभी प्रीति प्रदान करने वाली होती है और कभी द
Shashi kala vyas
2
2
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
ये मौसम ,हाँ ये बादल, बारिश, हवाएं, सब कह रहे हैं कितना खूबस
ये मौसम ,हाँ ये बादल, बारिश, हवाएं, सब कह रहे हैं कितना खूबस
Swara Kumari arya
आबाद मुझको तुम आज देखकर
आबाद मुझको तुम आज देखकर
gurudeenverma198
" भाषा क जटिलता "
DrLakshman Jha Parimal
कीमत दोनों की चुकानी पड़ती है चुपचाप सहने की भी
कीमत दोनों की चुकानी पड़ती है चुपचाप सहने की भी
Rekha khichi
मंजिल
मंजिल
Kanchan Khanna
सागर से दूरी धरो,
सागर से दूरी धरो,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मन करता है
मन करता है
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
मेघ गोरे हुए साँवरे
मेघ गोरे हुए साँवरे
Dr Archana Gupta
गांधी जयंती..
गांधी जयंती..
Harminder Kaur
रमेशराज के नवगीत
रमेशराज के नवगीत
कवि रमेशराज
प्रेम उतना ही करो
प्रेम उतना ही करो
पूर्वार्थ
जुदाई की शाम
जुदाई की शाम
Shekhar Chandra Mitra
अज्ञानी की कलम
अज्ञानी की कलम
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
खो गईं।
खो गईं।
Roshni Sharma
ईश्वर का अस्तित्व एवं आस्था
ईश्वर का अस्तित्व एवं आस्था
Shyam Sundar Subramanian
3045.*पूर्णिका*
3045.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*तानाशाहों को जब देखा, डरते अच्छा लगता है 【हिंदी गजल/गीतिका】
*तानाशाहों को जब देखा, डरते अच्छा लगता है 【हिंदी गजल/गीतिका】
Ravi Prakash
सदा के लिए
सदा के लिए
Saraswati Bajpai
दाग
दाग
Neeraj Agarwal
जिंदगी
जिंदगी
sushil sarna
R J Meditation Centre, Darbhanga
R J Meditation Centre, Darbhanga
Ravikesh Jha
उपहार उसी को
उपहार उसी को
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
गृहणी
गृहणी
Sonam Puneet Dubey
माँ लक्ष्मी
माँ लक्ष्मी
Bodhisatva kastooriya
Loading...