Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 May 2023 · 1 min read

डर डर के उड़ रहे पंछी

डर डर के उड़ रहे पंछी, उन्हें नीड़ तक आना है।
ये कैसे जाल बिछ रहे, कैसे पंख बचाना है ।।
आशियां उनका वहाँ, सुदूर दरख्त तक जाना है।
उड़ कर जाना वहाँ, जीवन दावँ पर आना है।।
कैसा ये जंजाल बुना, उन्हें चीर आसमाँ जाना है।।
डर डर के उड़ रहे पंछी,उन्हें नीड़ तक आना है।
वो भी ये उत्सव मनाते, संग तुम्हारे साथ ही।
संग खुशियां वो बटाते, ना होता मांज़ा हाथ ही।
त्योहारों में प्यार भरे , यह सोच तुम्हें बनाना है।
डर डर के उड़ रहे पंछी,उन्हें नीड़ तक आना है।
घायल गर हुए वो तो, घायल दिल का नाता है।
भातृ हमारे प्रकृति संगी, जब धरती भी माता है।
सुबह शाम उनको उड़ना, चूजे पोषण करना है।
डर डर के उड़ रहे पंछी, उन्हें नीड़ तक आना है—
बिसरे डंडे गिल्ली भोर, सिर्फ काट कते का शोर।
इतनी भी क्यों है होड़, ना जोड़ो यह शीशा डोर।।
ख्याल मूक का रख, उत्सव में खुशियां लाना है।
डर डर के उड़ रहे पंछी, उन्हें नीड़ तक आना है —
पशु पक्षी बचाये, उत्सव में खुशियां बढ़ाये।
(लेखक- डॉ शिव ‘लहरी’)

Language: Hindi
1 Like · 280 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डॉ. शिव लहरी
View all
You may also like:
नीति प्रकाश : फारसी के प्रसिद्ध कवि शेख सादी द्वारा लिखित पुस्तक
नीति प्रकाश : फारसी के प्रसिद्ध कवि शेख सादी द्वारा लिखित पुस्तक "करीमा" का ब्रज भाषा में अनुवाद*
Ravi Prakash
मायके से लौटा मन
मायके से लौटा मन
Shweta Soni
आज भगवान का बनाया हुआ
आज भगवान का बनाया हुआ
प्रेमदास वसु सुरेखा
रमेशराज की कविता विषयक मुक्तछंद कविताएँ
रमेशराज की कविता विषयक मुक्तछंद कविताएँ
कवि रमेशराज
नमन माँ गंग !पावन
नमन माँ गंग !पावन
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
नव वर्ष
नव वर्ष
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
'मन चंगा तो कठौती में गंगा' कहावत के बर्थ–रूट की एक पड़ताल / DR MUSAFIR BAITHA
'मन चंगा तो कठौती में गंगा' कहावत के बर्थ–रूट की एक पड़ताल / DR MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
काजल की महीन रेखा
काजल की महीन रेखा
Awadhesh Singh
आप हर किसी के लिए अच्छा सोचे , उनके अच्छे के लिए सोचे , अपने
आप हर किसी के लिए अच्छा सोचे , उनके अच्छे के लिए सोचे , अपने
Raju Gajbhiye
मै पैसा हूं मेरे रूप है अनेक
मै पैसा हूं मेरे रूप है अनेक
Ram Krishan Rastogi
प्रेम क्या है...
प्रेम क्या है...
हिमांशु Kulshrestha
"मुश्किल है मिलना"
Dr. Kishan tandon kranti
पत्तों से जाकर कोई पूंछे दर्द बिछड़ने का।
पत्तों से जाकर कोई पूंछे दर्द बिछड़ने का।
Taj Mohammad
तोड़ सको तो तोड़ दो ,
तोड़ सको तो तोड़ दो ,
sushil sarna
सच और झूँठ
सच और झूँठ
विजय कुमार अग्रवाल
पिया - मिलन
पिया - मिलन
Kanchan Khanna
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
#दोहा
#दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
रंग अनेक है पर गुलाबी रंग मुझे बहुत भाता
रंग अनेक है पर गुलाबी रंग मुझे बहुत भाता
Seema gupta,Alwar
2731.*पूर्णिका*
2731.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
उफ़ वो उनकी कातिल भरी निगाहें,
उफ़ वो उनकी कातिल भरी निगाहें,
Vishal babu (vishu)
महाप्रभु वल्लभाचार्य जयंती
महाप्रभु वल्लभाचार्य जयंती
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
रुत चुनाव की आई 🙏
रुत चुनाव की आई 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
जम़ी पर कुछ फुहारें अब अमन की चाहिए।
जम़ी पर कुछ फुहारें अब अमन की चाहिए।
सत्य कुमार प्रेमी
त्याग समर्पण न रहे, टूट ते परिवार।
त्याग समर्पण न रहे, टूट ते परिवार।
Anil chobisa
बहुत कुछ अरमान थे दिल में हमारे ।
बहुत कुछ अरमान थे दिल में हमारे ।
Rajesh vyas
विनती
विनती
Saraswati Bajpai
गणेश अराधना
गणेश अराधना
Davina Amar Thakral
कामुकता एक ऐसा आभास है जो सब प्रकार की शारीरिक वीभत्सना को ख
कामुकता एक ऐसा आभास है जो सब प्रकार की शारीरिक वीभत्सना को ख
Rj Anand Prajapati
करना था यदि ऐसा तुम्हें मेरे संग में
करना था यदि ऐसा तुम्हें मेरे संग में
gurudeenverma198
Loading...