Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Feb 2017 · 3 min read

डर के आगे जीत है (संस्मरण)

आज सोशल मीडिया पर एक मित्र द्वारा प्रेषित ये फोटो देखकर मुझे अपना बचपन फिर से याद आ गया… कुछ दर्द भरा बचपन…. ना ना ना… गलत ना सोचे…..मेरा बचपन बहुत सुहाना था….पर कुछ दर्द वाली यादें भी हैं…. जिन्हें अब याद करके मुस्कराहट अपने आप ही होंठो पर आ जाती है और सोचती हूँ कितनी डरपोक थी मैं…..फिर लगता है सभी को डर तो लगता ही है…..किसी को छोटी बात पर और किसी को बड़ी बात पर…..

कुछ ऐसी ही, फोटो वाले बच्चे जैसे ही, थी मैं भी बचपन में…… इंजेक्शन से डर या यूँ कहूँ हौवा था मेरे लिए बचपन में…. देखते ही शरीर में सिहरन सी दौड़ जाती थी, दर्द महसूस होने लगता था…. डॉक्टर के क्लीनिक जाने से पहले ही रोना चालू हो जाता था…..उन दिनों हमारे पारिवारिक डॉक्टर पटेल अंकल थे…..मेरी प्रिय सहेली रजनी के पापा….अंकल हमेशा इंजेक्शन लगाने के पहले कहते बेटा इधर मत देखो….कुछ नही होगा….बस चींटी के काटने से भी कम दर्द होगा….पर अंकल को मैं कैसे समझाती कि मेरे लिए ये छोटा सा दर्द किसी बड़े ऑपरेशन के दर्द से कतई कम नही था…..

उन दिनों स्कूल में टीके लगाये जाते थे ….. मुझे याद आ रहा है ऐसे ही एक साल जब पहली बार स्कूल में बच्चों को टीके लगने वाले थे….पहले से पता तो नही था….पर जैसे ही पता चला सभी को इंजेक्शन लगने वाले हैं…फिर क्या था मुझे तो सिर्फ क्लास की खिड़कियां दिख रही थी क्योंकि दरवाजे पर तो आचार्य जी खड़े थे….फिर क्या था मौका मिला और फांद ली स्कूल की खिड़की और घर पहुँच कर ही चैन की साँस ली…..पर इतनी आसानी से हम कहाँ बचने वाले थे….दूसरे दिन, जिन बच्चों को टीके नही लगे थे उन्हें फिर से कतार में खड़ा किया गया….अब क्या, हमें तो काटो तो खून नही….आज तो भागने का भी सवाल नही था क्योंकि लाइन में बच्चे कम थे….सब पर नजर थी….पर हम भी कहाँ हार मानने वाले थे….वो रोना-धोना मचाया कि आखिर डॉक्टर को कहना पड़ा “तुम तो रहने दो बेटा”….और हम बच गए उस भयानक दर्द से….अगले साल से तो पहले से ही पता करके रखते कि टीके कब लगने वाले हैं और उसके 2-3 दिन तक हमारी स्कूल की छुट्टी….

एक साल हमें बहुत ज्यादा खांसी हो गई थी…पटेल अंकल ने पापा को बताया कि बिना इंजेक्शन के ठीक नही होगा….. वो भी एक दो दिन नही, पूरे 30 दिन तक लगातार इंजेक्शन लगने थे….अब तो आप समझ ही गए होंगे हमें उस क्षण कैसा महसूस हो रहा होगा….उस दिन जो दहाड़े मार मार के रोये कि थक कर अंकल को दवाइयाँ ही देनी पड़ी….और हम ढेर सारी कड़वी दवाइयाँ खाकर भी खुश थे कि मुई सुई के दर्द से तो बचे…..

हमारे इस डर ने काफी बड़े होते तक हमारा साथ नही छोड़ा….फिर वो वक़्त भी आया जब लगा इस डर के आगे आने वाली ख़ुशी नन्ही सी जान की सेहत ज्यादा जरुरी है…..उस समय बड़ा बेटा हमारे परिवार का हिस्सा बनने वाला था….टिटेनस का पहला इंजेक्शन लगने वाला था..पहले तो साफ़ मना कर दिया….नहीं लगवाएंगे इंजेक्शन…पर नन्ही सी जान का ख्याल आते ही थोड़ी हिम्मत जुटाई……फिर क्या था अपने आप को मजबूत किया और जोर से आँखे बंद कर ली…… और आँख तब ही खोली जब डॉक्टर ने कहा…. हो गया अब उठ जाइये….अरे ये क्या हमें तो पता ही नही चला कि कब इंजेक्शन लग गया, दर्द होना तो दूर की बात है…..उस दिन अपने आप पर बहुत हँसी भी आई कि आज तक खामखाँ ही हम डरते रहे…..उस दिन खुश थे कि चलो छोटी सी जान के कारण ही सही आज इस डर पर जीत हमने पा ही लिया….

उसके बाद आज तक इंजेक्शन से कभी डर नही लगा….और इंजेक्शन से डरने वाली लड़की ने पड़ोसन को आपरेशन में ज्यादा खून बह जाने पर पहली बार रक्तदान भी किया…..और उस दिन के बाद से नियमित रूप से रक्तदान भी करती रहती हूँ…रक्तदान करते समय हाथ में लगी सुई और बोतल में जाते खून को देखकर डर नही लगता और ना ही दर्द होता है, बल्कि एक अजीब सी ख़ुशी का अनुभव होता है….

क्या आपने अपने डर पर जीत हासिल कर ली?….क्या आपने उस अजीब सी ख़ुशी का अनुभव लिया है?….अगर नही तो कभी जरूर लीजियेगा….बहुत अच्छा लगता है…..

——-लोधी डॉ. आशा ‘अदिति’

Language: Hindi
951 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
" आज़ का आदमी "
Chunnu Lal Gupta
कुण्डलिया-मणिपुर
कुण्डलिया-मणिपुर
गुमनाम 'बाबा'
राम नाम अवलंब बिनु, परमारथ की आस।
राम नाम अवलंब बिनु, परमारथ की आस।
Satyaveer vaishnav
गौतम बुद्ध के विचार --
गौतम बुद्ध के विचार --
Seema Garg
एकांत
एकांत
Monika Verma
दिल को सिर्फ तेरी याद ही , क्यों आती है हरदम
दिल को सिर्फ तेरी याद ही , क्यों आती है हरदम
gurudeenverma198
जीवन है पीड़ा, क्यों द्रवित हो
जीवन है पीड़ा, क्यों द्रवित हो
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मुझ को किसी एक विषय में मत बांधिए
मुझ को किसी एक विषय में मत बांधिए
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
बड़ी अजब है जिंदगी,
बड़ी अजब है जिंदगी,
sushil sarna
■ भगवान भला करे वैज्ञानिकों का। 😊😊
■ भगवान भला करे वैज्ञानिकों का। 😊😊
*प्रणय प्रभात*
✍️♥️✍️
✍️♥️✍️
Vandna thakur
"मशवरा"
Dr. Kishan tandon kranti
होने को अब जीवन की है शाम।
होने को अब जीवन की है शाम।
Anil Mishra Prahari
जहां तक तुम सोच सकते हो
जहां तक तुम सोच सकते हो
Ankita Patel
हर एक सब का हिसाब कोंन रक्खे...
हर एक सब का हिसाब कोंन रक्खे...
कवि दीपक बवेजा
सुख की तलाश आंख- मिचौली का खेल है जब तुम उसे खोजते हो ,तो वह
सुख की तलाश आंख- मिचौली का खेल है जब तुम उसे खोजते हो ,तो वह
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
!! हे लोकतंत्र !!
!! हे लोकतंत्र !!
Akash Yadav
मंजिल
मंजिल
डॉ. शिव लहरी
एक अकेला रिश्ता
एक अकेला रिश्ता
विजय कुमार अग्रवाल
नव प्रबुद्ध भारती
नव प्रबुद्ध भारती
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
नीलम शर्मा ✍️
नीलम शर्मा ✍️
Neelam Sharma
अफसोस है मैं आजाद भारत बोल रहा हूॅ॑
अफसोस है मैं आजाद भारत बोल रहा हूॅ॑
VINOD CHAUHAN
पहाड़ पर कविता
पहाड़ पर कविता
Brijpal Singh
बेसब्री
बेसब्री
PRATIK JANGID
एक सत्य
एक सत्य
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
दोस्त.............एक विश्वास
दोस्त.............एक विश्वास
Neeraj Agarwal
*आगे जीवन में बढ़े, हुए साठ के पार (कुंडलिया)*
*आगे जीवन में बढ़े, हुए साठ के पार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
ज़िंदगी की ज़रूरत में
ज़िंदगी की ज़रूरत में
Dr fauzia Naseem shad
मिमियाने की आवाज
मिमियाने की आवाज
Dr Nisha nandini Bhartiya
मम्मास बेबी
मम्मास बेबी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Loading...