Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Jan 2023 · 1 min read

डरता हुआ अँधेरा ?

अँधेरे के गुरुर से नीला आसमान अपने आंसू बहाने लगा ,
“सच की एक रौशनी” से अँधेरा फिर क्यों घबराने लगा ?

फूलों को इस तरह भूख- प्यास से लड़ते नहीं देखा आज से पहले,
फूलों-कलियों की आबरू को तार-२ होते नहीं देखा आज से पहले ,
लाचार- आँखों में सपने को इस तरह टूटते नहीं देखा आज से पहले ,
कलियों को काँटों से अपनी अस्मत बचाते नहीं देखा आज से पहले I

अँधेरे के गुरुर से नीला आसमान अपने आंसू बहाने लगा ,
“सच की एक रौशनी” से अँधेरा फिर क्यों घबराने लगा ?

सोच ले तू इस जमीं में आया किसलिए ? जहाँ छोड़ने से पहले,
जो तूने कमाया उसे याद कर ले पलभर , जहाँ छोड़ने से पहले,
अपने “मालिक” की तरफ जरा निहार ले, जहाँ छोड़ने से पहले,
बेबस-तड़पते फूलों की एक गुहार सुन ले, जहाँ छोड़ने से पहले I

अँधेरे के गुरुर से नीला आसमान अपने आंसू बहाने लगा ,
“सच की एक रौशनी” से अँधेरा फिर क्यों घबराने लगा ?

रात का यह अँधेरा भी एक दिन इस जमीं से चला जायेगा,
सच की रौशनी में वो झूठ-फरेब के जंगल में समा जायेगा,
फूलों और कलियों को खुशहाली का रास्ता मिल जायेगा ,
“राज” काँटों के सौदागरों का बाज़ार क्या फिर सज पायेगा ?

अँधेरे के गुरुर से नीला आसमान अपने आंसू बहाने लगा ,
“सच की एक रौशनी” से अँधेरा फिर क्यों घबराने लगा ?
******************************************************
देशराज “राज”
कानपुर

Language: Hindi
396 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
3494.🌷 *पूर्णिका* 🌷
3494.🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
गमों ने जिन्दगी को जीना सिखा दिया है।
गमों ने जिन्दगी को जीना सिखा दिया है।
Taj Mohammad
अनमोल जीवन
अनमोल जीवन
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
!! कोई आप सा !!
!! कोई आप सा !!
Chunnu Lal Gupta
*जीवन्त*
*जीवन्त*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मां का लाडला तो हर एक बेटा होता है, पर सासू मां का लाडला होन
मां का लाडला तो हर एक बेटा होता है, पर सासू मां का लाडला होन
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
"मन क्यों मौन?"
Dr. Kishan tandon kranti
होली है ....
होली है ....
Kshma Urmila
आप जब तक दुःख के साथ भस्मीभूत नहीं हो जाते,तब तक आपके जीवन क
आप जब तक दुःख के साथ भस्मीभूत नहीं हो जाते,तब तक आपके जीवन क
Shweta Soni
(16) आज़ादी पर
(16) आज़ादी पर
Kishore Nigam
गौर किया जब तक
गौर किया जब तक
Koमल कुmari
जीवन है
जीवन है
Dr fauzia Naseem shad
#कहमुकरी
#कहमुकरी
Suryakant Dwivedi
"आज का विचार"
Radhakishan R. Mundhra
I got forever addicted.
I got forever addicted.
Manisha Manjari
*मोलभाव से बाजारूपन, रिश्तों में भी आया है (हिंदी गजल)*
*मोलभाव से बाजारूपन, रिश्तों में भी आया है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
हमने दीवारों को शीशे में हिलते देखा है
हमने दीवारों को शीशे में हिलते देखा है
कवि दीपक बवेजा
मैं हैरतभरी नजरों से उनको देखती हूँ
मैं हैरतभरी नजरों से उनको देखती हूँ
ruby kumari
अवधी गीत
अवधी गीत
प्रीतम श्रावस्तवी
किताबों में तुम्हारे नाम का मैं ढूँढता हूँ माने
किताबों में तुम्हारे नाम का मैं ढूँढता हूँ माने
आनंद प्रवीण
दोस्ती का कर्ज
दोस्ती का कर्ज
Dr. Pradeep Kumar Sharma
परोपकार
परोपकार
Raju Gajbhiye
राम कहने से तर जाएगा
राम कहने से तर जाएगा
Vishnu Prasad 'panchotiya'
रात के सितारे
रात के सितारे
Neeraj Agarwal
जो बीत गयी सो बीत गई जीवन मे एक सितारा था
जो बीत गयी सो बीत गई जीवन मे एक सितारा था
Rituraj shivem verma
पग न अब पीछे मुड़ेंगे...
पग न अब पीछे मुड़ेंगे...
डॉ.सीमा अग्रवाल
कभी सोच है कि खुद को क्या पसन्द
कभी सोच है कि खुद को क्या पसन्द
पूर्वार्थ
🙅चुनावी पतझड़🙅
🙅चुनावी पतझड़🙅
*प्रणय प्रभात*
कभी यदि मिलना हुआ फिर से
कभी यदि मिलना हुआ फिर से
Dr Manju Saini
*
*"रोटी"*
Shashi kala vyas
Loading...