Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 May 2024 · 1 min read

डगर जिंदगी की

जिंदगी की राहों में
कभी पत्थरों की डगर बन जाती है
दर्द होता है दिल में इतना कि
आंसुओं से सैलाब बन जाती है
कब होते हैं आंसू दर्द के बगैर
आखिर सागर में भी तूफान लहरों से उठता है
वार खंजर के भी सह लेता कभी
मगर मीठी हंसी बात की दिल में घर कर जाती है
समा की चाहत में जल उठता है मासूम पतंगा
की जिंदगी की जरा सी भूल
जीवन का अंगार बन जाती है
जरा सी गलतफहमी भी तोड़ देती है रिश्तो को
अगर खत्म ना हो कटीली झाड़ियां तो नासूर पेड़ बन जाते हैं
बन जाता है
सारा जमाना दगाबाज
कभी धोखा खाकर किसी से ऐसी नजर बन जाती है

Language: English
22 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
3462🌷 *पूर्णिका* 🌷
3462🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
जो सोचते हैं अलग दुनिया से,जिनके अलग काम होते हैं,
जो सोचते हैं अलग दुनिया से,जिनके अलग काम होते हैं,
पूर्वार्थ
46...22 22 22 22 22 22 2
46...22 22 22 22 22 22 2
sushil yadav
स्त्री:-
स्त्री:-
Vivek Mishra
आज हम जा रहे थे, और वह आ रही थी।
आज हम जा रहे थे, और वह आ रही थी।
SPK Sachin Lodhi
जी करता है , बाबा बन जाऊं – व्यंग्य
जी करता है , बाबा बन जाऊं – व्यंग्य
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
काट  रहे  सब  पेड़   नहीं  यह, सोच  रहे  परिणाम भयावह।
काट रहे सब पेड़ नहीं यह, सोच रहे परिणाम भयावह।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
मेरे शब्द, मेरी कविता, मेरे गजल, मेरी ज़िन्दगी का अभिमान हो तुम।
मेरे शब्द, मेरी कविता, मेरे गजल, मेरी ज़िन्दगी का अभिमान हो तुम।
Anand Kumar
■ प्रभात चिंतन...
■ प्रभात चिंतन...
*प्रणय प्रभात*
कुछ तुम कहो जी, कुछ हम कहेंगे
कुछ तुम कहो जी, कुछ हम कहेंगे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कितनी मासूम
कितनी मासूम
हिमांशु Kulshrestha
स्त्री का सम्मान ही पुरुष की मर्दानगी है और
स्त्री का सम्मान ही पुरुष की मर्दानगी है और
Ranjeet kumar patre
राम बनना कठिन है
राम बनना कठिन है
Satish Srijan
Love Letter
Love Letter
Vedha Singh
मैं इंकलाब यहाँ पर ला दूँगा
मैं इंकलाब यहाँ पर ला दूँगा
Dr. Man Mohan Krishna
शिक्षार्थी को एक संदेश🕊️🙏
शिक्षार्थी को एक संदेश🕊️🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
आँखों की कुछ तो नमी से डरते हैं
आँखों की कुछ तो नमी से डरते हैं
अंसार एटवी
"वो"
Dr. Kishan tandon kranti
मौसम
मौसम
surenderpal vaidya
शराब मुझको पिलाकर तुम,बहकाना चाहते हो
शराब मुझको पिलाकर तुम,बहकाना चाहते हो
gurudeenverma198
तेरी याद
तेरी याद
SURYA PRAKASH SHARMA
अयोध्या धाम
अयोध्या धाम
विजय कुमार अग्रवाल
तल्खियां
तल्खियां
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
*जब से मुकदमे में फॅंसा, कचहरी आने लगा (हिंदी गजल)*
*जब से मुकदमे में फॅंसा, कचहरी आने लगा (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
बंदर मामा
बंदर मामा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
क्या कहें?
क्या कहें?
Srishty Bansal
तुम और बिंदी
तुम और बिंदी
Awadhesh Singh
तुझसे यूं बिछड़ने की सज़ा, सज़ा-ए-मौत ही सही,
तुझसे यूं बिछड़ने की सज़ा, सज़ा-ए-मौत ही सही,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
कोहरा
कोहरा
Ghanshyam Poddar
नवरात्रि के सातवें दिन दुर्गाजी की सातवीं शक्ति देवी कालरात्
नवरात्रि के सातवें दिन दुर्गाजी की सातवीं शक्ति देवी कालरात्
Shashi kala vyas
Loading...