Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Jul 22, 2016 · 1 min read

ठुमरी हो या गजल हो……….

एक रचना दिल से………………आपकी नजर

ठुमरी हो या गजल हो या हो कोई कविता
रागनी हो या फिर तुम हो चंचल कोई सरिता
********************************
स्वरों की जान हो या लिखने का कोई सलीका
सुरों से सुर मिलाने का या तुम हो कोई तरीका
**********************************
डमरू की नाद हो तुम या श्रंगार कोई शिवा का
तबले की तान हो तुम या झंकार कोई वीणा का
***********************************
बांसुरी की धुन में हो तुम संदेश कोई राधा का
मन मंदिर में जैसे हो तुम उपदेश कोई गीता का
**********************************
मृदंग की गूंज हो या शंखनाद कोई किसी का
जन्मों की साधना या प्रत्यक्ष फल कोई इसी का
***********************************
बच्चों की मुस्कान हो तुम या स्रोत कोई ख़ुशी का
कृपा माँ सरस्वती की या आश्रीवाद कोई उसी का
***********************************
कपिल कुमार
19/07/2016

154 Views
You may also like:
आंखों पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
ग़ज़ल / (हिन्दी)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जीवन संगनी की विदाई
Ram Krishan Rastogi
टूट कर की पढ़ाई...
आकाश महेशपुरी
और जीना चाहता हूं मैं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
फौजी बनना कहाँ आसान है
Anamika Singh
✍️One liner quotes✍️
Vaishnavi Gupta
बदलते हुए लोग
kausikigupta315
'परिवर्तन'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
तुमसे कोई शिकायत नही
Ram Krishan Rastogi
यादें वो बचपन के
Khushboo Khatoon
विचार
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
✍️प्यारी बिटिया ✍️
Vaishnavi Gupta
रूखा रे ! यह झाड़ / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
“श्री चरणों में तेरे नमन, हे पिता स्वीकार हो”
Kumar Akhilesh
मेरी भोली “माँ” (सहित्यपीडिया काव्य प्रतियोगिता)
पाण्डेय चिदानन्द
मत रो ऐ दिल
Anamika Singh
आपसा हम जो दिल
Dr fauzia Naseem shad
जंगल में कवि सम्मेलन
मनोज कर्ण
सोलह शृंगार
श्री रमण 'श्रीपद्'
हम भटकते है उन रास्तों पर जिनकी मंज़िल हमारी नही,
Vaishnavi Gupta
✍️बारिश का मज़ा ✍️
Vaishnavi Gupta
बिटिया होती है कोहिनूर
Anamika Singh
चुनिंदा अशआर
Dr fauzia Naseem shad
चलो एक पत्थर हम भी उछालें..!
मनोज कर्ण
✍️वो इंसा ही क्या ✍️
Vaishnavi Gupta
पिता - नीम की छाँव सा - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
गीत- जान तिरंगा है
आकाश महेशपुरी
चिराग जलाए नहीं
शेख़ जाफ़र खान
स्वर कटुक हैं / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Loading...