Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Jan 2024 · 1 min read

ठिठुरन

ये सिहरन
ठिठुरन यह
सिकुड़ते लोग
अहं की दहलीज
प्रेम प्यार से दूरी
इंसानियत के लिए
फंदे तो नहीं कहीं
मंथन नहीं
न ही मनन
कौन कहे मनुष्य,
शर्मसार मनुष्यता,
कहीं बलात्
कही छल कपट
बढ़ रहे सरपट,
रुकना था, रुके नहीं,
बढ़ना था, बढ़े नहीं,
छोड़े नहीं, पाखंड,
सहेज न पाये थे,
प्यासे थे,
भर लिया,
ऊपर तक पेट,
भर कर घट,
सब चट पट,
निष्ठा खुद में नहीं,
देते गौतम आकार,
प्रकृति को जाने बिन,
हिस्से मिले विकृति,
कैसे हो भले स्वीकृति,
मूढ़ मति बने आकृति,

Language: Hindi
350 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Mahender Singh
View all
You may also like:
राष्ट्र निर्माता शिक्षक
राष्ट्र निर्माता शिक्षक
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
Oh life ,do you take account!
Oh life ,do you take account!
Bidyadhar Mantry
बहुत अहमियत होती है लोगों की
बहुत अहमियत होती है लोगों की
शिव प्रताप लोधी
बादल बरसे दो घड़ी, उमड़े भाव हजार।
बादल बरसे दो घड़ी, उमड़े भाव हजार।
Suryakant Dwivedi
"मित्र से वार्ता"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
#ग़ज़ल-
#ग़ज़ल-
*Author प्रणय प्रभात*
पश्चाताप का खजाना
पश्चाताप का खजाना
अशोक कुमार ढोरिया
लगा हो ज़हर जब होठों पर
लगा हो ज़हर जब होठों पर
Shashank Mishra
Asman se khab hmare the,
Asman se khab hmare the,
Sakshi Tripathi
सुविचार..
सुविचार..
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
Readers Books Club:
Readers Books Club:
पूर्वार्थ
आज की शाम।
आज की शाम।
Dr. Jitendra Kumar
हमारी हार के किस्सों के हिस्से हो गए हैं
हमारी हार के किस्सों के हिस्से हो गए हैं
सिद्धार्थ गोरखपुरी
अगर मुझे पढ़ सको तो पढना जरूर
अगर मुझे पढ़ सको तो पढना जरूर
शेखर सिंह
गं गणपत्ये! माँ कमले!
गं गणपत्ये! माँ कमले!
डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
Infatuation
Infatuation
Vedha Singh
जीवन सभी का मस्त है
जीवन सभी का मस्त है
Neeraj Agarwal
मगर अब मैं शब्दों को निगलने लगा हूँ
मगर अब मैं शब्दों को निगलने लगा हूँ
VINOD CHAUHAN
*धन्य तुलसीदास हैं (मुक्तक)*
*धन्य तुलसीदास हैं (मुक्तक)*
Ravi Prakash
दिनांक - २१/५/२०२३
दिनांक - २१/५/२०२३
संजीव शुक्ल 'सचिन'
बारिश
बारिश
विजय कुमार अग्रवाल
मानव के बस में नहीं, पतझड़  या  मधुमास ।
मानव के बस में नहीं, पतझड़ या मधुमास ।
sushil sarna
तलाशता हूँ उस
तलाशता हूँ उस "प्रणय यात्रा" के निशाँ
Atul "Krishn"
कोई पैग़ाम आएगा (नई ग़ज़ल) Vinit Singh Shayar
कोई पैग़ाम आएगा (नई ग़ज़ल) Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
2925.*पूर्णिका*
2925.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अजीब शख्स था...
अजीब शख्स था...
हिमांशु Kulshrestha
नववर्ष 2024 की अशेष हार्दिक शुभकामनाएँ(Happy New year 2024)
नववर्ष 2024 की अशेष हार्दिक शुभकामनाएँ(Happy New year 2024)
आर.एस. 'प्रीतम'
*लाल सरहद* ( 13 of 25 )
*लाल सरहद* ( 13 of 25 )
Kshma Urmila
कभी लगते थे, तेरे आवाज़ बहुत अच्छे
कभी लगते थे, तेरे आवाज़ बहुत अच्छे
Anand Kumar
गले लोकतंत्र के नंगे / मुसाफ़िर बैठा
गले लोकतंत्र के नंगे / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
Loading...