Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Dec 2022 · 1 min read

टीवी देखना बंद

अब टीवी देखना बंद करो
अख़बार देखना बंद करो!
तुम झूठ और फरेब का
कारोबार देखना बंद करो!!
तानाशाहों के दरबार में
रात-दिन मुजरा करते हुए!
बेशर्म, बेहया और बेगैरत
पत्रकार देखना बंद करो!!
Shekhar Chandra Mitra
#casteist_media #जातिप्रथा
#NDTV #RavishKumar #मनकीबात

Language: Hindi
1 Like · 193 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
पर्यावरण
पर्यावरण
Neeraj Agarwal
"चित्तू चींटा कहे पुकार।
*प्रणय प्रभात*
किए जा सितमगर सितम मगर....
किए जा सितमगर सितम मगर....
डॉ.सीमा अग्रवाल
*पत्थरों  के  शहर  में  कच्चे मकान  कौन  रखता  है....*
*पत्थरों के शहर में कच्चे मकान कौन रखता है....*
Rituraj shivem verma
आज मैया के दर्शन करेंगे
आज मैया के दर्शन करेंगे
Neeraj Mishra " नीर "
अनेक रंग जिंदगी के
अनेक रंग जिंदगी के
Surinder blackpen
हमने तूफानों में भी दीपक जलते देखा है
हमने तूफानों में भी दीपक जलते देखा है
कवि दीपक बवेजा
जाने क्या छुटा रहा मुझसे
जाने क्या छुटा रहा मुझसे
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
आखिर मैंने भी कवि बनने की ठानी
आखिर मैंने भी कवि बनने की ठानी
Dr MusafiR BaithA
ग़ज़ल _ मिले जब भी यारों , तो हँसते रहे हैं,
ग़ज़ल _ मिले जब भी यारों , तो हँसते रहे हैं,
Neelofar Khan
3431⚘ *पूर्णिका* ⚘
3431⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
मैने नहीं बुलाए
मैने नहीं बुलाए
Dr. Meenakshi Sharma
'हिंदी'
'हिंदी'
पंकज कुमार कर्ण
*तेरा इंतज़ार*
*तेरा इंतज़ार*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कविता ....
कविता ....
sushil sarna
అమ్మా తల్లి బతుకమ్మ
అమ్మా తల్లి బతుకమ్మ
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
*पत्रिका समीक्षा*
*पत्रिका समीक्षा*
Ravi Prakash
Tum toote ho itne aik rishte ke toot jaane par
Tum toote ho itne aik rishte ke toot jaane par
HEBA
संवेदनाएं
संवेदनाएं
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"कभी-कभी"
Dr. Kishan tandon kranti
*साहित्यिक बाज़ार*
*साहित्यिक बाज़ार*
Lokesh Singh
तेरी यादें बजती रहती हैं घुंघरूओं की तरह,
तेरी यादें बजती रहती हैं घुंघरूओं की तरह,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
कह कोई ग़ज़ल
कह कोई ग़ज़ल
Shekhar Chandra Mitra
ग़ज़ल/नज़्म - प्यार के ख्वाबों को दिल में सजा लूँ तो क्या हो
ग़ज़ल/नज़्म - प्यार के ख्वाबों को दिल में सजा लूँ तो क्या हो
अनिल कुमार
दुनिया की गाथा
दुनिया की गाथा
Anamika Tiwari 'annpurna '
काफी है
काफी है
Basant Bhagawan Roy
लेखक कि चाहत
लेखक कि चाहत
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
"नारी जब माँ से काली बनी"
Ekta chitrangini
यदि समुद्र का पानी खारा न होता।
यदि समुद्र का पानी खारा न होता।
Rj Anand Prajapati
"हर कोई अपने होते नही"
Yogendra Chaturwedi
Loading...