Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Feb 2024 · 1 min read

टाईम पास …..लघुकथा

टाईम पास ……..

“क्या बात है रघु आज अकेले कहाँ जा रहे हो ।भाभी जी साथ नहीं ।” शर्मा जी ने पूछा ।

“अरे यार वो पीहर गई है तो सोचा क्यों न आज अकेले ही तफरीह की जाए । थोड़ा टाईम पास हो जाए। अपनी घड़ी थोड़ी पुरानी हो गई है टाईम पास तो नयी घड़ी के साथ अच्छा लगता है ।” रघु ने
कहा ।

शर्मा जी ने साथ चलते चलते कहा ” यार मैं जानता हूँ तुम्हारा टाईम पास । पत्नी के होते हुए क्यों इधर -उधर क्यों मूँह मारते हो । वो तुम्हें अपना देवता मानती है और तुम …..।”

कितना स्वार्थी इन्सान । दैहिक पूर्ति के लिए कुछ मर्द पावन रिश्तों के साथ पत्नी के विश्वास को तार तार कर देते हैं । ऐसे आचरण वालों के परिणाम बहुत भयंकर होते हैं । आखिर स्वस्थ समाज का निर्माण कैसे होगा । क्या सृष्टि की यह अनमोल कृति टाईम पास के लिए है? यही सोचते हुए शर्मा जी रघु को हेय दृष्टि से देखते हुए अपने घर की तरफ चल पड़े ।

सुशील सरना /2-2-24

74 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
रक्षा में हत्या / मुसाफ़िर बैठा
रक्षा में हत्या / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
There is no shortcut through the forest of life if there is
There is no shortcut through the forest of life if there is
सतीश पाण्डेय
बहुत हैं!
बहुत हैं!
Srishty Bansal
एक ग़ज़ल यह भी
एक ग़ज़ल यह भी
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
ऐसा क्यों होता है
ऐसा क्यों होता है
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
हमेशा सच बोलने का इक तरीका यह भी है कि
हमेशा सच बोलने का इक तरीका यह भी है कि
Aarti sirsat
2315.पूर्णिका
2315.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
थकावट दूर करने की सबसे बड़ी दवा चेहरे पर खिली मुस्कुराहट है।
थकावट दूर करने की सबसे बड़ी दवा चेहरे पर खिली मुस्कुराहट है।
Rj Anand Prajapati
पड़ोसन के वास्ते
पड़ोसन के वास्ते
VINOD CHAUHAN
***
*** " बसंती-क़हर और मेरे सांवरे सजन......! " ***
VEDANTA PATEL
#कुछ खामियां
#कुछ खामियां
Amulyaa Ratan
पर्यावरण दिवस पर विशेष गीत
पर्यावरण दिवस पर विशेष गीत
बिमल तिवारी “आत्मबोध”
अँधेरे में नहीं दिखता
अँधेरे में नहीं दिखता
Anil Mishra Prahari
धंधा चोखा जानिए, राजनीति का काम( कुंडलिया)
धंधा चोखा जानिए, राजनीति का काम( कुंडलिया)
Ravi Prakash
बच्चों सम्भल लो तुम
बच्चों सम्भल लो तुम
gurudeenverma198
मौला के घर देर है पर,
मौला के घर देर है पर,
Satish Srijan
क्या है मोहब्बत??
क्या है मोहब्बत??
Skanda Joshi
कैसे हाल-हवाल बचाया मैंने
कैसे हाल-हवाल बचाया मैंने
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
प्रेम पल्लवन
प्रेम पल्लवन
Er.Navaneet R Shandily
खुद पर भी यकीं,हम पर थोड़ा एतबार रख।
खुद पर भी यकीं,हम पर थोड़ा एतबार रख।
पूर्वार्थ
बद मिजाज और बद दिमाग इंसान
बद मिजाज और बद दिमाग इंसान
shabina. Naaz
खोल नैन द्वार माँ।
खोल नैन द्वार माँ।
लक्ष्मी सिंह
अपना सफ़र है
अपना सफ़र है
Surinder blackpen
दोहे-मुट्ठी
दोहे-मुट्ठी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
प्रेम के रंग कमाल
प्रेम के रंग कमाल
Mamta Singh Devaa
अदालत में क्रन्तिकारी मदनलाल धींगरा की सिंह-गर्जना
अदालत में क्रन्तिकारी मदनलाल धींगरा की सिंह-गर्जना
कवि रमेशराज
"दो हजार के नोट की व्यथा"
Radhakishan R. Mundhra
■ समझने वाली बात।
■ समझने वाली बात।
*Author प्रणय प्रभात*
कुछ लोगो का दिल जीत लिया आकर इस बरसात ने
कुछ लोगो का दिल जीत लिया आकर इस बरसात ने
सिद्धार्थ गोरखपुरी
दोहे-*
दोहे-*
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
Loading...