Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jun 2023 · 1 min read

टाँगतोड़ ग़ज़ल / MUSAFIR BAITHA

यह बात जुदा है
वह तेरा खुदा है

जिस बंदे ने खुदा को खड़ा किया
वह ही सदा सदियों से बना खुद खुदा है

तू नास्तिक है नाम का
तेरे मस्तक पर खुदा ख़ुदा है।

खुदा है भरमदाई आसरा लोभ पाप से बना
जो राही इस राह का चेहरे पर उसके डर खुदा है

खुद में जो न हो दम तो खुदा सूझै है
दम हो गर खुदी में तो टाटाबायबाय खुदा है

डर ‘मुसाफ़िर’ जरूर जिससे डर लगे मगर
हरगिज न पालना वहम कि तेरा कोई खुदा है

Language: Hindi
1 Like · 158 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr MusafiR BaithA
View all
You may also like:
*मॉंगता सबसे क्षमा, रिपु-वृत्ति का अवसान हो (मुक्तक)*
*मॉंगता सबसे क्षमा, रिपु-वृत्ति का अवसान हो (मुक्तक)*
Ravi Prakash
संवादरहित मित्रता, मूक समाज और व्यथा पीड़ित नारी में परिवर्तन
संवादरहित मित्रता, मूक समाज और व्यथा पीड़ित नारी में परिवर्तन
DrLakshman Jha Parimal
* साथ जब बढ़ना हमें है *
* साथ जब बढ़ना हमें है *
surenderpal vaidya
शिक्षित लोग
शिक्षित लोग
Raju Gajbhiye
हर व्यक्ति की कोई ना कोई कमजोरी होती है। अगर उसका पता लगाया
हर व्यक्ति की कोई ना कोई कमजोरी होती है। अगर उसका पता लगाया
Radhakishan R. Mundhra
हिंदुस्तान जिंदाबाद
हिंदुस्तान जिंदाबाद
Aman Kumar Holy
जीवन का आत्मबोध
जीवन का आत्मबोध
ओंकार मिश्र
बाहर से लगा रखे ,दिलो पर हमने ताले है।
बाहर से लगा रखे ,दिलो पर हमने ताले है।
Surinder blackpen
" अलबेले से गाँव है "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
*** आशा ही वो जहाज है....!!! ***
*** आशा ही वो जहाज है....!!! ***
VEDANTA PATEL
सबला नारी
सबला नारी
आनन्द मिश्र
*यौगिक क्रिया सा ये कवि दल*
*यौगिक क्रिया सा ये कवि दल*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
International Chess Day
International Chess Day
Tushar Jagawat
अरुणोदय
अरुणोदय
Manju Singh
"मंजर"
Dr. Kishan tandon kranti
ख्वाबों ने अपना रास्ता बदल लिया है,
ख्वाबों ने अपना रास्ता बदल लिया है,
manjula chauhan
यह क्या अजीब ही घोटाला है,
यह क्या अजीब ही घोटाला है,
Sukoon
दिमाग नहीं बस तकल्लुफ चाहिए
दिमाग नहीं बस तकल्लुफ चाहिए
Pankaj Sen
*शादी के पहले, शादी के बाद*
*शादी के पहले, शादी के बाद*
Dushyant Kumar
फितरत
फितरत
Srishty Bansal
टूटा हुआ सा
टूटा हुआ सा
Dr fauzia Naseem shad
2654.पूर्णिका
2654.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
पापियों के हाथ
पापियों के हाथ
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
दो दिन का प्यार था छोरी , दो दिन में ख़त्म हो गया |
दो दिन का प्यार था छोरी , दो दिन में ख़त्म हो गया |
The_dk_poetry
अनुभव 💐🙏🙏
अनुभव 💐🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
बीता हुआ कल वापस नहीं आता
बीता हुआ कल वापस नहीं आता
Anamika Tiwari 'annpurna '
■ शर्मनाक सच्चाई….
■ शर्मनाक सच्चाई….
*प्रणय प्रभात*
या सरकारी बन्दूक की गोलियाँ
या सरकारी बन्दूक की गोलियाँ
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
अकेला खुदको पाता हूँ.
अकेला खुदको पाता हूँ.
Naushaba Suriya
चांद पर पहुंचे बधाई, ये बताओ तो।
चांद पर पहुंचे बधाई, ये बताओ तो।
सत्य कुमार प्रेमी
Loading...