Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Jul 2016 · 1 min read

झुलस

धरती के झुलसते आँचल को
अम्बर ने आज भिगोया है
झूम उठे वायु संग तरुवर
बूंदों में शीत पिरोया है
ये महज़ एक झांकी है
सोचो हमने क्या खोया है
हुई ताप वृद्धि क्यों ऐसे
क्यों वातानुकूलन रोया है
सूख गए जल श्रोत क्यों ऐसे
फिर भी मानव तू सोया है
बार बार कहा विद्जन ने
प्रकृति का सम्मान करो
जो भी दिया है ईश्वर ने
सोच समझकर मान करो
मत भटको अंधी दौड़ में
मत झूठा अभिमान करो
रहो आभारी सर्वोच्च शक्ति के
मत कोई अपमान करो
करो संयमित जीवन अपना
सच्चे सुख का भान करो
प्रीत से पूरित संस्कृति भारत की
एक ही ईश गुण गान करो
वातावरण से करो संयोजन
नव ऊर्जा संचार करो
लेता करवट मौसम कब कैसे
सूझ बूझ से अब काम करो
करो सरक्षित जल श्रोतो को
खुद पर तुम उपकार करो
आज प्रातः बादल यही बोले
प्रातः ईश प्रणाम करो
नहीं मात्र मनो ये कविता
थोडा तो सो विचार करो

Language: Hindi
Tag: कविता
1 Like · 367 Views
You may also like:
हमारा हरियाणा प्रदेश
Ram Krishan Rastogi
- साहित्य मेरी जान -
bharat gehlot
“ एक अमर्यादित शब्द के बोलने से महानायक खलनायक बन...
DrLakshman Jha Parimal
याद बीते दिनों की - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
#करवा चौथ#
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
कब मैंने चाहा सजन
लक्ष्मी सिंह
सबके ही आशियानें रोशनी से।
Taj Mohammad
💐💐प्रेम की राह पर-15💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
भारत का संविधान
rkchaudhary2012
राज
Alok Saxena
जीवन क्षणभंगुरता का मर्म समझने में निकल जाती है।
Manisha Manjari
कठपुतली न बनना हमें
AMRESH KUMAR VERMA
सार्थक हो जिसका
Dr fauzia Naseem shad
*श्री सरदार पटेल (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
कैसे मैं याद करूं
Anamika Singh
पंचशील गीत
Buddha Prakash
ज़ुबान से फिर गया नज़र के सामने
कुमार अविनाश केसर
ISBN-978-1-989656-10-S ebook
Rashmi Sanjay
कशमकश का दौर
Saraswati Bajpai
क्या हार जीत समझूँ
सूर्यकांत द्विवेदी
महामोह की महानिशा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
धन्य है पिता
Anil Kumar
!! लक्ष्य की उड़ान !!
RAJA KUMAR 'CHOURASIA'
भोले भंडारी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
✍️गहरी साजिशें
'अशांत' शेखर
चिरनिन्द्रा
विनोद सिल्ला
जम्हूरियत
बिमल
चाय-दोस्ती - कविता
Kanchan Khanna
किसी पथ कि , जरुरत नही होती
Ram Ishwar Bharati
मयखाने
Vikas Sharma'Shivaaya'
Loading...