Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jul 31, 2016 · 1 min read

झुलस

धरती के झुलसते आँचल को
अम्बर ने आज भिगोया है
झूम उठे वायु संग तरुवर
बूंदों में शीत पिरोया है
ये महज़ एक झांकी है
सोचो हमने क्या खोया है
हुई ताप वृद्धि क्यों ऐसे
क्यों वातानुकूलन रोया है
सूख गए जल श्रोत क्यों ऐसे
फिर भी मानव तू सोया है
बार बार कहा विद्जन ने
प्रकृति का सम्मान करो
जो भी दिया है ईश्वर ने
सोच समझकर मान करो
मत भटको अंधी दौड़ में
मत झूठा अभिमान करो
रहो आभारी सर्वोच्च शक्ति के
मत कोई अपमान करो
करो संयमित जीवन अपना
सच्चे सुख का भान करो
प्रीत से पूरित संस्कृति भारत की
एक ही ईश गुण गान करो
वातावरण से करो संयोजन
नव ऊर्जा संचार करो
लेता करवट मौसम कब कैसे
सूझ बूझ से अब काम करो
करो सरक्षित जल श्रोतो को
खुद पर तुम उपकार करो
आज प्रातः बादल यही बोले
प्रातः ईश प्रणाम करो
नहीं मात्र मनो ये कविता
थोडा तो सो विचार करो

1 Like · 248 Views
You may also like:
कला के बिना जीवन सुना ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
भारतवर्ष
Utsav Kumar Aarya
♡ तेरा ख़याल ♡
Dr. Alpa H. Amin
गांव के घर में।
Taj Mohammad
सदा बढता है,वह 'नायक', अमल बन ताज ठुकराता|
Pt. Brajesh Kumar Nayak
हमारा दिल।
Taj Mohammad
अखबार ए खास
AJAY AMITABH SUMAN
✍️✍️बूद✍️✍️
"अशांत" शेखर
I feel h
Swami Ganganiya
शर्म-ओ-हया
Dr. Alpa H. Amin
I love to vanish like that shooting star.
Manisha Manjari
हंँसना तुम सीखो ।
Buddha Prakash
दूल्हे अब बिकते हैं (एक व्यंग्य)
Ram Krishan Rastogi
हो दर्दे दिल तो हाले दिल सुनाया भी नहीं जाता।
सत्य कुमार प्रेमी
जंत्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
दिल,एक छोटी माँ..!
मनोज कर्ण
बुलन्द अशआर
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मौत बाटे अटल
आकाश महेशपुरी
प्रेमानुभूति भाग-1 'प्रेम वियोगी ना जीवे, जीवे तो बौरा होई।’
पंकज 'प्रखर'
सच्चा प्यार
Anamika Singh
कवि की नज़र से - पानी
बिमल
✍️दिल ही बेईमान था✍️
"अशांत" शेखर
कितना मुश्किल है पिता होना
Ashish Kumar
✍️चार कदम जिंदगी✍️
"अशांत" शेखर
ग़ज़ल
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
यक्ष प्रश्न ( लघुकथा संग्रह)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
पहचान
Anamika Singh
.✍️लौटा हि दूँगा...✍️
"अशांत" शेखर
क्या अटल था?
Saraswati Bajpai
जूतों की मन की व्यथा
Ram Krishan Rastogi
Loading...