Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Jul 2016 · 1 min read

झुलस

धरती के झुलसते आँचल को
अम्बर ने आज भिगोया है
झूम उठे वायु संग तरुवर
बूंदों में शीत पिरोया है
ये महज़ एक झांकी है
सोचो हमने क्या खोया है
हुई ताप वृद्धि क्यों ऐसे
क्यों वातानुकूलन रोया है
सूख गए जल श्रोत क्यों ऐसे
फिर भी मानव तू सोया है
बार बार कहा विद्जन ने
प्रकृति का सम्मान करो
जो भी दिया है ईश्वर ने
सोच समझकर मान करो
मत भटको अंधी दौड़ में
मत झूठा अभिमान करो
रहो आभारी सर्वोच्च शक्ति के
मत कोई अपमान करो
करो संयमित जीवन अपना
सच्चे सुख का भान करो
प्रीत से पूरित संस्कृति भारत की
एक ही ईश गुण गान करो
वातावरण से करो संयोजन
नव ऊर्जा संचार करो
लेता करवट मौसम कब कैसे
सूझ बूझ से अब काम करो
करो सरक्षित जल श्रोतो को
खुद पर तुम उपकार करो
आज प्रातः बादल यही बोले
प्रातः ईश प्रणाम करो
नहीं मात्र मनो ये कविता
थोडा तो सो विचार करो

Language: Hindi
11 Likes · 506 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr.Pratibha Prakash
View all
You may also like:
********* बुद्धि  शुद्धि  के दोहे *********
********* बुद्धि शुद्धि के दोहे *********
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
चले न कोई साथ जब,
चले न कोई साथ जब,
sushil sarna
सौ रोग भले देह के, हों लाख कष्टपूर्ण
सौ रोग भले देह के, हों लाख कष्टपूर्ण
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ज़िंदगी इसमें
ज़िंदगी इसमें
Dr fauzia Naseem shad
माटी कहे पुकार
माटी कहे पुकार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
गणेश चतुर्थी
गणेश चतुर्थी
Surinder blackpen
Ab kya bataye ishq ki kahaniya aur muhabbat ke afsaane
Ab kya bataye ishq ki kahaniya aur muhabbat ke afsaane
गुप्तरत्न
भगवान की तलाश में इंसान
भगवान की तलाश में इंसान
Ram Krishan Rastogi
*यहाँ जो दिख रहा है वह, सभी श्रंगार दो दिन का (मुक्तक)*
*यहाँ जो दिख रहा है वह, सभी श्रंगार दो दिन का (मुक्तक)*
Ravi Prakash
ख़तरे में लोकतंत्र
ख़तरे में लोकतंत्र
Shekhar Chandra Mitra
अहम जब बढ़ने लगता🙏🙏
अहम जब बढ़ने लगता🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
जिस बाग में बैठा वहां पे तितलियां मिली
जिस बाग में बैठा वहां पे तितलियां मिली
कृष्णकांत गुर्जर
*******खुशी*********
*******खुशी*********
Dr. Vaishali Verma
2619.पूर्णिका
2619.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
■ आज का मुक्तक
■ आज का मुक्तक
*Author प्रणय प्रभात*
ट्रेन दुर्घटना
ट्रेन दुर्घटना
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
अमूक दोस्त ।
अमूक दोस्त ।
SATPAL CHAUHAN
सॉप और इंसान
सॉप और इंसान
Prakash Chandra
कविता के हर शब्द का, होता है कुछ सार
कविता के हर शब्द का, होता है कुछ सार
Dr Archana Gupta
फ़र्ज़ पर अधिकार तेरा,
फ़र्ज़ पर अधिकार तेरा,
Satish Srijan
हिंदुस्तान जिंदाबाद
हिंदुस्तान जिंदाबाद
Aman Kumar Holy
पेडों को काटकर वनों को उजाड़कर
पेडों को काटकर वनों को उजाड़कर
ruby kumari
Affection couldn't be found in shallow spaces.
Affection couldn't be found in shallow spaces.
Manisha Manjari
मित्र
मित्र
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
एक नयी रीत
एक नयी रीत
Harish Chandra Pande
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जलने वालों का कुछ हो नहीं सकता,
जलने वालों का कुछ हो नहीं सकता,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
तू ठहर जा मेरे पास, सिर्फ आज की रात
तू ठहर जा मेरे पास, सिर्फ आज की रात
gurudeenverma198
विद्यापति धाम
विद्यापति धाम
डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
हर तीखे मोड़ पर मन में एक सुगबुगाहट सी होती है। न जाने क्यों
हर तीखे मोड़ पर मन में एक सुगबुगाहट सी होती है। न जाने क्यों
Guru Mishra
Loading...