Oct 3, 2016 · 1 min read

झरोखा

जिन्दगी के हर पहलू मे मैने तुझको मुडकर देखा
जैसे किसी बन्द कमरे मे रोशनी का एक झरोखा

सब करते है इन्तजार आये तारो से सजी रात
फैले चांदनी ,बहे ठन्डी हवा का झोकां
मगर हाथ जोडकर मै करती हूम नमन
निकले न कभी चांद यहां का

जिसको चाहिए रोशनी जितनी,सहनी होगी तपिश भी उतनी
ये सच है मैने जान लिया,इस रहस्य को पहचान लिया
क्योकि हालातो की अग्नि मे मैने आहुति बनकर देखा

जैसे किसी बन्द कमरे मे रोशनी का एक झरोखा

1 Comment · 482 Views
You may also like:
You Have Denied Visiting Me In The Dreams
Manisha Manjari
*रामपुर रजा लाइब्रेरी में रक्षा-ऋषि लेफ्टिनेंट जनरल श्री वी. के....
Ravi Prakash
*सादा जीवन उच्च विचार के धनी कविवर रूप किशोर गुप्ता...
Ravi Prakash
'मेरी यादों में अब तक वे लम्हे बसे'
Rashmi Sanjay
हाल ए इश्क।
Taj Mohammad
बुलबुला
मनोज शर्मा
इंसाफ हो गया है।
Taj Mohammad
# बोरे बासी दिवस /मजदूर दिवस....
Chinta netam मन
वृक्ष थे छायादार पिताजी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
【31】*!* तूफानों से क्यों झुकना *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
हम और तुम जैसे…..
Rekha Drolia
.....उनके लिए मैं कितना लिखूं?
ऋचा त्रिपाठी
परिवर्तन की राह पकड़ो ।
Buddha Prakash
न कोई जगत से कलाकार जाता
आकाश महेशपुरी
फिर कभी तुम्हें मैं चाहकर देखूंगा.............
Nasib Sabharwal
**नसीब**
Dr. Alpa H.
मौन की पीड़ा
Saraswati Bajpai
♡ चाय की तलब ♡
Dr. Alpa H.
जागीर
सूर्यकांत द्विवेदी
निर्गुण सगुण भेद..?
मनोज कर्ण
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है [भाग१]
Anamika Singh
!!! राम कथा काव्य !!!
जगदीश लववंशी
दीया तले अंधेरा
Vikas Sharma'Shivaaya'
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है [भाग६]
Anamika Singh
एक जंग, गम के संग....
Aditya Prakash
सुर बिना संगीत सूना.!
Prabhudayal Raniwal
💐💐प्रेम की राह पर-15💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मैं
Saraswati Bajpai
दुर्योधन कब मिट पाया:भाग:36
AJAY AMITABH SUMAN
*अंतिम प्रणाम ! डॉक्टर मीना नकवी*
Ravi Prakash
Loading...