Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Oct 2023 · 1 min read

ज्ञानी मारे ज्ञान से अंग अंग भीग जाए ।

ज्ञानी मारे ज्ञान से अंग अंग भीग जाए ।
मूर्ख मारे लाठी से मुड़ी कान फुट जाए ।।

कृष्ण कुमार अनंत

2 Likes · 431 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बेशक़ कमियाँ मुझमें निकाल
बेशक़ कमियाँ मुझमें निकाल
सिद्धार्थ गोरखपुरी
ਰਿਸ਼ਤਿਆਂ ਦੀਆਂ ਤਿਜਾਰਤਾਂ
ਰਿਸ਼ਤਿਆਂ ਦੀਆਂ ਤਿਜਾਰਤਾਂ
Surinder blackpen
Learn self-compassion
Learn self-compassion
पूर्वार्थ
एकीकरण की राह चुनो
एकीकरण की राह चुनो
Jatashankar Prajapati
*बच्चों को ले घूमते, मॅंगवाते हैं भीख (कुंडलिया)*
*बच्चों को ले घूमते, मॅंगवाते हैं भीख (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
रंगों  की  बरसात की होली
रंगों की बरसात की होली
Vijay kumar Pandey
3042.*पूर्णिका*
3042.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
रण प्रतापी
रण प्रतापी
Lokesh Singh
******आधे - अधूरे ख्वाब*****
******आधे - अधूरे ख्वाब*****
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
स्वार्थ से परे !!
स्वार्थ से परे !!
Seema gupta,Alwar
दोहा पंचक. . . नैन
दोहा पंचक. . . नैन
sushil sarna
अनुभव के आधार पर, पहले थी पहचान
अनुभव के आधार पर, पहले थी पहचान
Dr Archana Gupta
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
सेवा
सेवा
ओंकार मिश्र
ज़िंदगी को जीना है तो याद रख,
ज़िंदगी को जीना है तो याद रख,
Vandna Thakur
उसी पथ से
उसी पथ से
Kavita Chouhan
■ मुक्तक...
■ मुक्तक...
*Author प्रणय प्रभात*
जब भी किसी कार्य को पूर्ण समर्पण के साथ करने के बाद भी असफलत
जब भी किसी कार्य को पूर्ण समर्पण के साथ करने के बाद भी असफलत
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
प्रात काल की शुद्ध हवा
प्रात काल की शुद्ध हवा
लक्ष्मी सिंह
Lambi khamoshiyo ke bad ,
Lambi khamoshiyo ke bad ,
Sakshi Tripathi
माना के तू बेमिसाल है
माना के तू बेमिसाल है
shabina. Naaz
आग उगलती मेरी क़लम
आग उगलती मेरी क़लम
Shekhar Chandra Mitra
"महंगा तजुर्बा सस्ता ना मिलै"
MSW Sunil SainiCENA
*सौभाग्य*
*सौभाग्य*
Harminder Kaur
संघर्षों के राहों में हम
संघर्षों के राहों में हम
कवि दीपक बवेजा
स्वाभिमान
स्वाभिमान
अखिलेश 'अखिल'
शब्द और अर्थ समझकर हम सभी कहते हैं
शब्द और अर्थ समझकर हम सभी कहते हैं
Neeraj Agarwal
स्वाधीनता के घाम से।
स्वाधीनता के घाम से।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
चेहरा नहीं दिल की खूबसूरती देखनी चाहिए।
चेहरा नहीं दिल की खूबसूरती देखनी चाहिए।
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Loading...