Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Feb 2023 · 2 min read

अज्ञेय अज्ञेय क्यों है – शिवकुमार बिलगरामी

मानव मस्तिष्क बहुत ही जिज्ञासु है । इसलिए मनुष्य निरंतर अपने आसपास की दुनिया को जानने का प्रयास करता रहता है । उसने अपने प्रयासों से न केवल संसार अपितु संपूर्ण ब्रह्मांड से संबंधित बहुत से भेदों को जान लिया है । जिन बातों को मनुष्य जान गया है उन्हें ज्ञात कहते हैं । जो ज्ञात है वह सब विज्ञान की परिधि में आता है । लेकिन संसार में बहुत सी ऐसी बातें / रहस्य हैं जिन्हें अभी तक मानव मस्तिष्क समझ नहीं पाया है। बहुत सी परिपाटियां , रीति-रिवाज और धर्म-कर्म ऐसे हैं जो अस्तित्व में तो हैं लेकिन उनके अस्तित्व में रहने का कारण समझ में नहीं आया है । क्योंकि इनका वैज्ञानिक कारण ज्ञात नहीं हो पाया है इसलिए इन्हें आस्था और विश्वास की श्रेणी में रखा गया है । आस्था और विश्वास ही धर्म की बुनियाद है। इस तरह हम कह सकते हैं कि अज्ञात ही धर्म है। पाश्चात्य संस्कृति में Known और Unknown शब्द ही हैं । लेकिन भारतीय संस्कृति में ज्ञात और अज्ञात के अतिरिक्त एक शब्द और भी है -अज्ञेय । साधारण भाषा में इसका अर्थ है ज्ञात और अज्ञात की परिधि से बाहर । यह एक तरह की उस पराशक्ति या दिव्य शक्ति की अनुभूति अथवा बोध की ओर इंगित करता है जो किसी आत्मा का परमात्मा से एकाकार होना बताता है । क्योंकि इसमें साधक जिस ब्रह्म की खोज के लिए निकलता है अंततः वह उसी ब्रह्म में लीन हो जाता है । उसका अलग अस्तित्व शेष नहीं रहता है कि वह बता सके कि उसने क्या पाया अथवा उसकी अनुभूति क्या है । इसे हम एक उदाहरण के माध्यम से यूं समझ सकते हैं । जैसे यदि चीनी से बने किसी खिलौने को किसी धागे में बांधकर गहरे सागर में उसकी गहराई नापने के लिए प्रयोग किया जाये तो खिलौना चार-पांच सौ मीटर तक अपना अस्तित्व बचाए रख पाएगा लेकिन अधिक गहराई में उतरते ही वह खिलौना समुद्र के पानी में घुल जाएगा और स्वयं सागरमय हो जाएगा । इस तरह चीनी का खिलौना स्वयं अस्तित्व विहीन हो जाएगा और सागर की गहराई चीनी के इस खिलौने के लिए अज्ञेय बनी रहेगी । ठीक इसी तरह जब कोई आत्मा परमात्मा की खोज में निकलती है तो वह अंततः परमात्मा में लीन हो जाती है और परमात्मा संसार के लिए सदैव अज्ञेय बना रहता है ।
—-

Language: Hindi
Tag: लेख
2 Likes · 1 Comment · 312 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Your Secret Admirer
Your Secret Admirer
Vedha Singh
कबीर एवं तुलसीदास संतवाणी
कबीर एवं तुलसीदास संतवाणी
Khaimsingh Saini
2401.पूर्णिका
2401.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
शेर-शायरी
शेर-शायरी
Sandeep Thakur
दीप जलते रहें - दीपक नीलपदम्
दीप जलते रहें - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
दिल की हरकते दिल ही जाने,
दिल की हरकते दिल ही जाने,
Lakhan Yadav
आजा माँ आजा
आजा माँ आजा
Basant Bhagawan Roy
सत्य कड़वा नहीं होता अपितु
सत्य कड़वा नहीं होता अपितु
Gouri tiwari
एक नायक भक्त महान 🌿🌿
एक नायक भक्त महान 🌿🌿
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
बेशक मां बाप हर ख़्वाहिश करते हैं
बेशक मां बाप हर ख़्वाहिश करते हैं
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
मुस्कान
मुस्कान
Surya Barman
चुनौतियों और परेशानियों से डरकर
चुनौतियों और परेशानियों से डरकर
Krishna Manshi
अर्थार्जन का सुखद संयोग
अर्थार्जन का सुखद संयोग
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
■ आज की बात
■ आज की बात
*प्रणय प्रभात*
*मासूम पर दया*
*मासूम पर दया*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
विनती
विनती
Saraswati Bajpai
नहीं चाहता मैं यह
नहीं चाहता मैं यह
gurudeenverma198
स्वप्न लोक के वासी भी जगते- सोते हैं।
स्वप्न लोक के वासी भी जगते- सोते हैं।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
गाँव की प्यारी यादों को दिल में सजाया करो,
गाँव की प्यारी यादों को दिल में सजाया करो,
Ranjeet kumar patre
दिल से
दिल से
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बाल कविता: तितली
बाल कविता: तितली
Rajesh Kumar Arjun
"साहस का पैमाना"
Dr. Kishan tandon kranti
International Hindi Day
International Hindi Day
Tushar Jagawat
मुक्तक- जर-जमीं धन किसी को तुम्हारा मिले।
मुक्तक- जर-जमीं धन किसी को तुम्हारा मिले।
सत्य कुमार प्रेमी
जिदंगी भी साथ छोड़ देती हैं,
जिदंगी भी साथ छोड़ देती हैं,
Umender kumar
प्रेम में राग हो तो
प्रेम में राग हो तो
हिमांशु Kulshrestha
विदाई
विदाई
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
The best way to end something is to starve it. No reaction,
The best way to end something is to starve it. No reaction,
पूर्वार्थ
*पुस्तक समीक्षा*
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
हो गई है भोर
हो गई है भोर
surenderpal vaidya
Loading...