Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Feb 2022 · 1 min read

जो होते हैं सच्चे आशिक

जो होते हैं
सच्चे आशिक
वह सच से ज्यादा
झूठ का साथ देते हैं
सबसे बड़ा झूठ तो होता है
मोहब्बत का इकरार करना पर
उसका कहीं न होना पर
अपना दिल न टूटे तो
यह भ्रम उम्र भर पाले रखना कि
उन्हें मुझसे मोहब्बत है और
झूठ को सच मानकर
खुशी खुशी झूठ का
साथ देते हुए
आंसुओं की बाढ़ को जबरदस्ती
आने से अपने पास रोकना।

मीनल
सुपुत्री श्री प्रमोद कुमार
इंडियन डाईकास्टिंग इंडस्ट्रीज
सासनी गेट, आगरा रोड
अलीगढ़ (उ.प्र.) – 202001

Language: Hindi
145 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Minal Aggarwal
View all
You may also like:
बाल कविता: तितली रानी चली विद्यालय
बाल कविता: तितली रानी चली विद्यालय
Rajesh Kumar Arjun
शून्य से अनन्त
शून्य से अनन्त
The_dk_poetry
दिल का आलम
दिल का आलम
Surinder blackpen
कुछ भी होगा, ये प्यार नहीं है
कुछ भी होगा, ये प्यार नहीं है
Anil chobisa
परेशान देख भी चुपचाप रह लेती है
परेशान देख भी चुपचाप रह लेती है
Keshav kishor Kumar
इंसानियत का वजूद
इंसानियत का वजूद
Shyam Sundar Subramanian
* बच कर रहना पुष्प-हार, अभिनंदन वाले ख्यालों से 【हिंदी गजल/ग
* बच कर रहना पुष्प-हार, अभिनंदन वाले ख्यालों से 【हिंदी गजल/ग
Ravi Prakash
#गणितीय प्रेम
#गणितीय प्रेम
हरवंश हृदय
नजरे मिली धड़कता दिल
नजरे मिली धड़कता दिल
Khaimsingh Saini
इशारा नहीं होता
इशारा नहीं होता
Neelam Sharma
गौर फरमाइए
गौर फरमाइए
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
याद आयेगा हमें .....ग़ज़ल
याद आयेगा हमें .....ग़ज़ल
sushil sarna
रंगों का महापर्व होली
रंगों का महापर्व होली
Er. Sanjay Shrivastava
ज़िंदगी इम्तिहान
ज़िंदगी इम्तिहान
Dr fauzia Naseem shad
2288.पूर्णिका
2288.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
तेरे भीतर ही छिपा,
तेरे भीतर ही छिपा,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मित्रता
मित्रता
Shashi kala vyas
अँधेरे में नहीं दिखता
अँधेरे में नहीं दिखता
Anil Mishra Prahari
आदरणीय क्या आप ?
आदरणीय क्या आप ?
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
सब्र रखो सच्च है क्या तुम जान जाओगे
सब्र रखो सच्च है क्या तुम जान जाओगे
VINOD CHAUHAN
मौत से बढकर अगर कुछ है तो वह जिलद भरी जिंदगी है ll
मौत से बढकर अगर कुछ है तो वह जिलद भरी जिंदगी है ll
Ranjeet kumar patre
पूजा
पूजा
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
"अपराध का ग्राफ"
Dr. Kishan tandon kranti
बहरों तक के कान खड़े हैं,
बहरों तक के कान खड़े हैं,
*Author प्रणय प्रभात*
प्रेम का पुजारी हूं, प्रेम गीत ही गाता हूं
प्रेम का पुजारी हूं, प्रेम गीत ही गाता हूं
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
पावस की रात
पावस की रात
लक्ष्मी सिंह
कुछ तो बाकी है !
कुछ तो बाकी है !
Akash Yadav
तुझे किस बात ला गुमान है
तुझे किस बात ला गुमान है
भरत कुमार सोलंकी
फितरत में वफा हो तो
फितरत में वफा हो तो
shabina. Naaz
दीपोत्सव की हार्दिक बधाई एवं शुभ मंगलकामनाएं
दीपोत्सव की हार्दिक बधाई एवं शुभ मंगलकामनाएं
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
Loading...