Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jun 2023 · 1 min read

*जो होता पेड़ रूपयों का (सात शेर)*

जो होता पेड़ रूपयों का (सात शेर)
————————————-
1
हमारे घर के आँगन में जो होता पेड़ रूपयों का
बड़ा नुकसान यह होता कि हम मेहनत नहीं करते
2
बड़े लोगों की मत पूछो, हजारों इन पे चेहरे हैं
जहाँ जैसा पड़ा मतलब, बदलकर आ गए चेहरा
3
अभी तक नफरतों के बीज बोना भी नहीं सीखे
चुनावों में खड़े हो भी गए तो कैसे जीतोगे?
4
तराशा जाएगा जितना, तू उतना और निखरेगा
ये थोड़े-से बुरे दिन हैं, इन्हें हँसकर गुजरने दे
5
यहाँ हाथों में पत्थर हैं, यहाँ के लोग पागल हैं
ये दुनिया छोड़‌कर आओ! कहीं को और चलते हैं
6
बड़ी जल्दी में दिखते हैं सफर पर लोग हैं ये जो
सभी की व्यस्तताऍं हैं, यहाँ पर कौन खाली है
7
अगर घबरा गए तो फिर समस्या कुछ न सुलझेगी
उलझती डोर है जीवन की ,अक्सर हड़बड़ाहट में
——————————–
रचयिता :रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा ,रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

Language: Hindi
515 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
विश्रान्ति.
विश्रान्ति.
Heera S
... सच्चे मीत
... सच्चे मीत
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
*परिवार: नौ दोहे*
*परिवार: नौ दोहे*
Ravi Prakash
11) “कोरोना एक सबक़”
11) “कोरोना एक सबक़”
Sapna Arora
“उलझे हुये फेसबूक”
“उलझे हुये फेसबूक”
DrLakshman Jha Parimal
क्यों नहीं निभाई तुमने, मुझसे वफायें
क्यों नहीं निभाई तुमने, मुझसे वफायें
gurudeenverma198
स्त्री रहने दो
स्त्री रहने दो
Arti Bhadauria
होली का त्यौहार
होली का त्यौहार
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
जुगुनूओं की कोशिशें कामयाब अब हो रही,
जुगुनूओं की कोशिशें कामयाब अब हो रही,
Kumud Srivastava
Hallucination Of This Night
Hallucination Of This Night
Manisha Manjari
चलो हम सब मतदान करें
चलो हम सब मतदान करें
Sonam Puneet Dubey
राही
राही
Neeraj Agarwal
"फिर"
Dr. Kishan tandon kranti
मां की ममता जब रोती है
मां की ममता जब रोती है
Harminder Kaur
सावन और साजन
सावन और साजन
Ram Krishan Rastogi
आवारा परिंदा
आवारा परिंदा
साहित्य गौरव
जबरदस्त विचार~
जबरदस्त विचार~
दिनेश एल० "जैहिंद"
**तुझे ख़ुशी..मुझे गम **
**तुझे ख़ुशी..मुझे गम **
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
एक वो है मासूमियत देख उलझा रही हैं खुद को…
एक वो है मासूमियत देख उलझा रही हैं खुद को…
Anand Kumar
*
*"माँ वसुंधरा"*
Shashi kala vyas
प्यार है रब की इनायत या इबादत क्या है।
प्यार है रब की इनायत या इबादत क्या है।
सत्य कुमार प्रेमी
लहरों ने टूटी कश्ती को कमतर समझ लिया
लहरों ने टूटी कश्ती को कमतर समझ लिया
अंसार एटवी
जिंदगी का एक और अच्छा दिन,
जिंदगी का एक और अच्छा दिन,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
कौन कहता है छोटी चीजों का महत्व नहीं होता है।
कौन कहता है छोटी चीजों का महत्व नहीं होता है।
Yogendra Chaturwedi
..........?
..........?
शेखर सिंह
तिरंगा
तिरंगा
Dr Archana Gupta
आया खूब निखार
आया खूब निखार
surenderpal vaidya
"वो कलाकार"
Dr Meenu Poonia
3283.*पूर्णिका*
3283.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जरूरत पड़ने पर बहाना और बुरे वक्त में ताना,
जरूरत पड़ने पर बहाना और बुरे वक्त में ताना,
Ranjeet kumar patre
Loading...