Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Feb 2024 · 1 min read

जो हुआ वो गुज़रा कल था

जो हुआ वो गुज़रा कल था
वक़्त एक धुँआ है
आज सिर्फ उस धुएं में
कल की बस
महक बाक़ी है

अतुल “कृष्ण”

70 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Atul "Krishn"
View all
You may also like:
तुझसे मिलते हुए यूँ तो एक जमाना गुजरा
तुझसे मिलते हुए यूँ तो एक जमाना गुजरा
Rashmi Ranjan
लिख सकता हूँ ।।
लिख सकता हूँ ।।
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
कलम की वेदना (गीत)
कलम की वेदना (गीत)
सूरज राम आदित्य (Suraj Ram Aditya)
कलम के सहारे आसमान पर चढ़ना आसान नहीं है,
कलम के सहारे आसमान पर चढ़ना आसान नहीं है,
Dr Nisha nandini Bhartiya
★किसान ★
★किसान ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
2323.पूर्णिका
2323.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
तुम जा चुकी
तुम जा चुकी
Kunal Kanth
रिश्ते का अहसास
रिश्ते का अहसास
Paras Nath Jha
ये खुदा अगर तेरे कलम की स्याही खत्म हो गई है तो मेरा खून लेल
ये खुदा अगर तेरे कलम की स्याही खत्म हो गई है तो मेरा खून लेल
Ranjeet kumar patre
रक्षाबंधन
रक्षाबंधन
Harminder Kaur
तलाशी लेकर मेरे हाथों की क्या पा लोगे तुम
तलाशी लेकर मेरे हाथों की क्या पा लोगे तुम
शेखर सिंह
रिहाई - ग़ज़ल
रिहाई - ग़ज़ल
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
ईश्वर का उपहार है बेटी, धरती पर भगवान है।
ईश्वर का उपहार है बेटी, धरती पर भगवान है।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
रंग उकेरे तूलिका,
रंग उकेरे तूलिका,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
अपराध बोध (लघुकथा)
अपराध बोध (लघुकथा)
गुमनाम 'बाबा'
* मुक्तक *
* मुक्तक *
surenderpal vaidya
Ram
Ram
Sanjay ' शून्य'
🥀 *अज्ञानी की कलम* 🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम* 🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
अंतरराष्ट्रीय वृद्ध दिवस पर
अंतरराष्ट्रीय वृद्ध दिवस पर
सत्य कुमार प्रेमी
#सत्यकथा
#सत्यकथा
*Author प्रणय प्रभात*
अमीर-गरीब के दरमियाॅ॑ ये खाई क्यों है
अमीर-गरीब के दरमियाॅ॑ ये खाई क्यों है
VINOD CHAUHAN
ভালো উপদেশ
ভালো উপদেশ
Arghyadeep Chakraborty
गाँधी जयंती
गाँधी जयंती
Surya Barman
चिंटू चला बाज़ार | बाल कविता
चिंटू चला बाज़ार | बाल कविता
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
"जय जवान जय किसान" - आर्टिस्ट (कुमार श्रवण)
Shravan singh
जीवन से ओझल हुए,
जीवन से ओझल हुए,
sushil sarna
मेखला धार
मेखला धार
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
पीर पराई
पीर पराई
Satish Srijan
क्या रखा है? वार में,
क्या रखा है? वार में,
Dushyant Kumar
भक्त कवि स्वर्गीय श्री रविदेव_रामायणी*
भक्त कवि स्वर्गीय श्री रविदेव_रामायणी*
Ravi Prakash
Loading...