Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Feb 2024 · 1 min read

जो शख़्स तुम्हारे गिरने/झुकने का इंतजार करे, By God उसके लिए

जो शख़्स तुम्हारे गिरने/झुकने का इंतजार करे, By God उसके लिए कभी ना गिरना और ना झुकना!
जो तुम्हें सच में चाहता होगा उसे तुम्हारा गिरना/झुकना कभी स्वीकार्य नहीं होगा!

2 Likes · 71 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"वैसा ही है"
Dr. Kishan tandon kranti
हुस्न वालों से ना पूछो गुरूर कितना है ।
हुस्न वालों से ना पूछो गुरूर कितना है ।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
गुरु की महिमा
गुरु की महिमा
Ram Krishan Rastogi
कुछ अपने रूठे,कुछ सपने टूटे,कुछ ख़्वाब अधूरे रहे गए,
कुछ अपने रूठे,कुछ सपने टूटे,कुछ ख़्वाब अधूरे रहे गए,
Vishal babu (vishu)
मच्छर
मच्छर
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
टूटी हुई कलम को
टूटी हुई कलम को
Anil chobisa
"व्यर्थ सलाह "
Yogendra Chaturwedi
सादिक़ तकदीर  हो  जायेगा
सादिक़ तकदीर हो जायेगा
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
* तेरी सौग़ात*
* तेरी सौग़ात*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
नारी जगत आधार....
नारी जगत आधार....
डॉ.सीमा अग्रवाल
*अन्नप्राशन संस्कार और मुंडन संस्कार*
*अन्नप्राशन संस्कार और मुंडन संस्कार*
Ravi Prakash
झूठ भी कितना अजीब है,
झूठ भी कितना अजीब है,
नेताम आर सी
★क़त्ल ★
★क़त्ल ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
सजा दे ना आंगन फूल से रे माली
सजा दे ना आंगन फूल से रे माली
Basant Bhagawan Roy
ताक पर रखकर अंतर की व्यथाएँ,
ताक पर रखकर अंतर की व्यथाएँ,
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
🌱मैं कल न रहूँ...🌱
🌱मैं कल न रहूँ...🌱
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बाल कविता: तोता
बाल कविता: तोता
Rajesh Kumar Arjun
💐प्रेम कौतुक-404💐
💐प्रेम कौतुक-404💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
यौवन रुत में नैन जब, करें वार पर  वार ।
यौवन रुत में नैन जब, करें वार पर वार ।
sushil sarna
#शेर-
#शेर-
*Author प्रणय प्रभात*
मिली उर्वशी अप्सरा,
मिली उर्वशी अप्सरा,
लक्ष्मी सिंह
25 , *दशहरा*
25 , *दशहरा*
Dr Shweta sood
कीमतों ने छुआ आसमान
कीमतों ने छुआ आसमान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
न जाने ज़िंदगी को क्या गिला है
न जाने ज़िंदगी को क्या गिला है
Shweta Soni
नारी के हर रूप को
नारी के हर रूप को
Dr fauzia Naseem shad
लिख के उंगली से धूल पर कोई - संदीप ठाकुर
लिख के उंगली से धूल पर कोई - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
23/55.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/55.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जिससे मिलने के बाद
जिससे मिलने के बाद
शेखर सिंह
Loading...