Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Mar 2023 · 1 min read

जो भी आ जाएंगे निशाने में।

गज़ल

जो भी आ जाएंगे निशाने में।
सबको भेजेंगे जेल खाने में।

बाप दादा रहे कमाने में।
उनके बच्चे लगे उड़ानें में।

अब न बच पाएंगे लुटेरे वो,
जो अभी तक लगे कमाने में।

इश्क में दर्द भी लगे प्यारा,
लुत्फ़ आता है दिल जलाने में।

क़र्ज़ लेकर गुना’ह किया उसने,
जान देनी पड़ी चुकाने में।

डूबता है वो देखते हैं बहुत,
कोई उत्सुक नहीं बचाने में।

हर तरफ नफरतें दिखीं प्रेमी,
प्यार मिलता नहीं जमाने में।

…….✍️ सत्य कुमार प्रेमी

114 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दोहा छंद विधान
दोहा छंद विधान
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मुझे हर वो बच्चा अच्छा लगता है जो अपनी मां की फ़िक्र करता है
मुझे हर वो बच्चा अच्छा लगता है जो अपनी मां की फ़िक्र करता है
Mamta Singh Devaa
आज जिंदगी को प्रपोज़ किया और कहा -
आज जिंदगी को प्रपोज़ किया और कहा -
सिद्धार्थ गोरखपुरी
“ अपने जन्म दिनों पर मौन प्रतिक्रिया ?..फिर अरण्यरोदन क्यों ?”
“ अपने जन्म दिनों पर मौन प्रतिक्रिया ?..फिर अरण्यरोदन क्यों ?”
DrLakshman Jha Parimal
दोस्ताना
दोस्ताना
Skanda Joshi
बुंदेली दोहा- पैचान१
बुंदेली दोहा- पैचान१
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
जस का तस / (नवगीत)
जस का तस / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
■ एक सलाह, नेक सलाह...
■ एक सलाह, नेक सलाह...
*Author प्रणय प्रभात*
कोई दौलत पे, कोई शौहरत पे मर गए
कोई दौलत पे, कोई शौहरत पे मर गए
The_dk_poetry
Pata to sabhi batate h , rasto ka,
Pata to sabhi batate h , rasto ka,
Sakshi Tripathi
2695.*पूर्णिका*
2695.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आरक्षण का दरिया
आरक्षण का दरिया
मनोज कर्ण
सवालात कितने हैं
सवालात कितने हैं
Dr fauzia Naseem shad
#drarunkumarshastriblogger
#drarunkumarshastriblogger
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बस एक गलती
बस एक गलती
Vishal babu (vishu)
किसकी कश्ती किसका किनारा
किसकी कश्ती किसका किनारा
डॉ० रोहित कौशिक
राखी है अनमोल बहना की ?
राखी है अनमोल बहना की ?
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
देखी है ख़ूब मैंने भी दिलदार की अदा
देखी है ख़ूब मैंने भी दिलदार की अदा
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बस इतनी सी बात समंदर को खल गई
बस इतनी सी बात समंदर को खल गई
Prof Neelam Sangwan
कितना सकून है इन , इंसानों  की कब्र पर आकर
कितना सकून है इन , इंसानों की कब्र पर आकर
श्याम सिंह बिष्ट
*संतुष्ट मन*
*संतुष्ट मन*
Shashi kala vyas
यह तो होता है दौर जिंदगी का
यह तो होता है दौर जिंदगी का
gurudeenverma198
ऐ ज़िन्दगी ..
ऐ ज़िन्दगी ..
Dr. Seema Varma
“बदलते रिश्ते”
“बदलते रिश्ते”
पंकज कुमार कर्ण
कालू भैया पेल रहे हैं, वाट्स एप पर ज्ञान
कालू भैया पेल रहे हैं, वाट्स एप पर ज्ञान
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
फेसबुक की बनिया–बुद्धि / मुसाफ़िर बैठा
फेसबुक की बनिया–बुद्धि / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
जीवन की परख
जीवन की परख
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
ਹਰ ਅਲਫਾਜ਼ ਦੀ ਕੀਮਤ
ਹਰ ਅਲਫਾਜ਼ ਦੀ ਕੀਮਤ
Surinder blackpen
*बिटिया रानी पढ़ने जाती {बाल कविता}* ■■■■■■■■■■■■■■■■■■■
*बिटिया रानी पढ़ने जाती {बाल कविता}* ■■■■■■■■■■■■■■■■■■■
Ravi Prakash
"एक नज़र"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...