Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 May 2024 · 1 min read

जो बातें अनुकूल नहीं थीं

जो बातें अनुकूल नहीं थीं
वो ही अब कुबूल हो गई
आंगन आंगन देख नजारा
बातें सब निर्मूल हो गई।।
सूर्यकांत

41 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
गुत्थियों का हल आसान नही .....
गुत्थियों का हल आसान नही .....
Rohit yadav
आया करवाचौथ, सुहागिन देखो सजती( कुंडलिया )
आया करवाचौथ, सुहागिन देखो सजती( कुंडलिया )
Ravi Prakash
इश्क बाल औ कंघी
इश्क बाल औ कंघी
Sandeep Pande
कविता के प्रेरणादायक शब्द ही सन्देश हैं।
कविता के प्रेरणादायक शब्द ही सन्देश हैं।
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
मिष्ठी के लिए सलाद
मिष्ठी के लिए सलाद
Manu Vashistha
दीवार में दरार
दीवार में दरार
VINOD CHAUHAN
घर बाहर जूझती महिलाएं(A poem for all working women)
घर बाहर जूझती महिलाएं(A poem for all working women)
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
सत्य यह भी
सत्य यह भी
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
"मित्रता"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
आप हाथो के लकीरों पर यकीन मत करना,
आप हाथो के लकीरों पर यकीन मत करना,
शेखर सिंह
16, खुश रहना चाहिए
16, खुश रहना चाहिए
Dr Shweta sood
दोहा - चरित्र
दोहा - चरित्र
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
बीत गया सो बीत गया...
बीत गया सो बीत गया...
डॉ.सीमा अग्रवाल
किसी को उदास पाकर
किसी को उदास पाकर
Shekhar Chandra Mitra
योग
योग
लक्ष्मी सिंह
"सुख-दुःख"
Dr. Kishan tandon kranti
एक किताब सी तू
एक किताब सी तू
Vikram soni
तेरे शहर में आया हूँ, नाम तो सुन ही लिया होगा..
तेरे शहर में आया हूँ, नाम तो सुन ही लिया होगा..
Ravi Betulwala
*Treasure the Nature*
*Treasure the Nature*
Poonam Matia
अक्सर लोगों को बड़ी तेजी से आगे बढ़ते देखा है मगर समय और किस्म
अक्सर लोगों को बड़ी तेजी से आगे बढ़ते देखा है मगर समय और किस्म
Radhakishan R. Mundhra
जब भी आप निराशा के दौर से गुजर रहे हों, तब आप किसी गमगीन के
जब भी आप निराशा के दौर से गुजर रहे हों, तब आप किसी गमगीन के
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
प्रेरणा
प्रेरणा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जीवन की आपाधापी में, न जाने सब क्यों छूटता जा रहा है।
जीवन की आपाधापी में, न जाने सब क्यों छूटता जा रहा है।
Gunjan Tiwari
"तुम्हें राहें मुहब्बत की अदाओं से लुभाती हैं
आर.एस. 'प्रीतम'
ये उम्र के निशाँ नहीं दर्द की लकीरें हैं
ये उम्र के निशाँ नहीं दर्द की लकीरें हैं
Atul "Krishn"
करवाचौथ
करवाचौथ
Neeraj Agarwal
#दोहा-
#दोहा-
*प्रणय प्रभात*
2349.पूर्णिका
2349.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
सांसे केवल आपके जीवित होने की सूचक है जबकि तुम्हारे स्वर्णिम
सांसे केवल आपके जीवित होने की सूचक है जबकि तुम्हारे स्वर्णिम
Rj Anand Prajapati
Loading...