Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Mar 2023 · 1 min read

जो बनना चाहते हो

जो बनना चाहते हो
वैसी एक्टिंग करो, आदत बना लो
करते रहो , रोज करते रहो
थको मत, रुको मत, लगे रहो
यकीन रखो, बन जाओगे
@दिनेश शुक्ल

1 Like · 147 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
चुनाव
चुनाव
Mukesh Kumar Sonkar
* कुण्डलिया *
* कुण्डलिया *
surenderpal vaidya
समय गुंगा नाही बस मौन हैं,
समय गुंगा नाही बस मौन हैं,
Sampada
"जिंदगी"
नेताम आर सी
जय संविधान...✊🇮🇳
जय संविधान...✊🇮🇳
Srishty Bansal
"फ़िर से तुम्हारी याद आई"
Lohit Tamta
बदनसीब का नसीब
बदनसीब का नसीब
Dr. Kishan tandon kranti
*चंदा (बाल कविता)*
*चंदा (बाल कविता)*
Ravi Prakash
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
हर बला से दूर रखता,
हर बला से दूर रखता,
Satish Srijan
दर्द
दर्द
SHAMA PARVEEN
2685.*पूर्णिका*
2685.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बीती यादें भी बहारों जैसी लगी,
बीती यादें भी बहारों जैसी लगी,
manjula chauhan
जुनून
जुनून
अखिलेश 'अखिल'
*कुछ कहा न जाए*
*कुछ कहा न जाए*
Shashi kala vyas
जल बचाओ , ना बहाओ
जल बचाओ , ना बहाओ
Buddha Prakash
"ज्यादा मिठास शक के घेरे में आती है
Priya princess panwar
अंतर्जाल यात्रा
अंतर्जाल यात्रा
Dr. Sunita Singh
ज्ञानी उभरे ज्ञान से,
ज्ञानी उभरे ज्ञान से,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
#ॐ_नमः_शिवाय
#ॐ_नमः_शिवाय
*Author प्रणय प्रभात*
झूम मस्ती में झूम
झूम मस्ती में झूम
gurudeenverma198
जै जै अम्बे
जै जै अम्बे
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
शामें दर शाम गुजरती जा रहीं हैं।
शामें दर शाम गुजरती जा रहीं हैं।
शिव प्रताप लोधी
समय यात्रा: मिथक या वास्तविकता?
समय यात्रा: मिथक या वास्तविकता?
Shyam Sundar Subramanian
दीवार का साया
दीवार का साया
Dr. Rajeev Jain
देश-विक्रेता
देश-विक्रेता
Shekhar Chandra Mitra
कभी जलाए गए और कभी खुद हीं जले
कभी जलाए गए और कभी खुद हीं जले
Shweta Soni
🍁
🍁
Amulyaa Ratan
एक तरफा प्यार
एक तरफा प्यार
Neeraj Agarwal
मिट्टी के परिधान सब,
मिट्टी के परिधान सब,
sushil sarna
Loading...