Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 May 2023 · 1 min read

जोशीला

चांद तारे सूरज को है छूना, मुझे उदास निराश नहीं मरना, अब जोशीले नाम से मुझे पुकारना, मुझे सात समुंदर तैर के पार है जाना।

दुख मुसीबत संकट को है मेरी धमकी, मुझसे टकराने की ना करें गलती, मुझे अपने जोश से अपनी मंजिल पास दिखती, जग के महान लोगों में अब होगी मेरी गिनती।

अपना जोश बढ़ाने के बाद अपना लक्ष्य पाने की मुझ में आ गई है अद्भुत शक्ति, जोशीले की ही होती है जीवितो में गिनती, उदास निराश की होती मृत में गिनती।

जोशीले बने, पशु पक्षी बनने की ना करें गलती।

511 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हम भारतीयों की बात ही निराली है ....
हम भारतीयों की बात ही निराली है ....
ओनिका सेतिया 'अनु '
किसी को इतना मत करीब आने दो
किसी को इतना मत करीब आने दो
कवि दीपक बवेजा
जिंदगी की फितरत
जिंदगी की फितरत
Amit Pathak
तेरी याद
तेरी याद
Shyam Sundar Subramanian
विरहणी के मुख से कुछ मुक्तक
विरहणी के मुख से कुछ मुक्तक
Ram Krishan Rastogi
वो ख़्वाहिशें जो सदियों तक, ज़हन में पलती हैं, अब शब्द बनकर, बस पन्नों पर बिखरा करती हैं।
वो ख़्वाहिशें जो सदियों तक, ज़हन में पलती हैं, अब शब्द बनकर, बस पन्नों पर बिखरा करती हैं।
Manisha Manjari
"हकीकत"
Dr. Kishan tandon kranti
सृजन
सृजन
Prakash Chandra
एकता
एकता
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"जब मानव कवि बन जाता हैं "
Slok maurya "umang"
भोला-भाला गुड्डा
भोला-भाला गुड्डा
Kanchan Khanna
" नई चढ़ाई चढ़ना है "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
बाबूजी।
बाबूजी।
Anil Mishra Prahari
शारीरिक, मानसिक और आध्यात्मिक रूप से स्वस्थ्य
शारीरिक, मानसिक और आध्यात्मिक रूप से स्वस्थ्य
Dr.Rashmi Mishra
तेज़
तेज़
Sanjay ' शून्य'
दीपावली
दीपावली
Deepali Kalra
।। जीवन प्रयोग मात्र ।।
।। जीवन प्रयोग मात्र ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
उदर क्षुधा
उदर क्षुधा
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
यहां
यहां "ट्रेंडिंग रचनाओं" का
*Author प्रणय प्रभात*
3330.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3330.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
वर्ल्डकप-2023 सुर्खियां
वर्ल्डकप-2023 सुर्खियां
गुमनाम 'बाबा'
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ : दैनिक रिपोर्ट*
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ : दैनिक रिपोर्ट*
Ravi Prakash
नमन तुमको है वीणापाणि
नमन तुमको है वीणापाणि
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
मर्यादाएँ टूटतीं, भाषा भी अश्लील।
मर्यादाएँ टूटतीं, भाषा भी अश्लील।
Arvind trivedi
उगते विचार.........
उगते विचार.........
विमला महरिया मौज
साँप का जहर
साँप का जहर
मनोज कर्ण
कितना अजीब ये किशोरावस्था
कितना अजीब ये किशोरावस्था
Pramila sultan
शब्दों से बनती है शायरी
शब्दों से बनती है शायरी
Pankaj Sen
जीवन से पलायन का
जीवन से पलायन का
Dr fauzia Naseem shad
अब छोड़ दिया है हमने तो
अब छोड़ दिया है हमने तो
gurudeenverma198
Loading...