Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Feb 2024 · 1 min read

जैसे कि हर रास्तों पर परेशानियां होती हैं

जैसे कि हर रास्तों पर परेशानियां होती हैं
वैसे ही …..हर परेशानियों के भी
रास्ते होते हैं।

1 Like · 56 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अंतरंग प्रेम
अंतरंग प्रेम
Paras Nath Jha
*नहीं हाथ में भाग्य मनुज के, किंतु कर्म-अधिकार है (गीत)*
*नहीं हाथ में भाग्य मनुज के, किंतु कर्म-अधिकार है (गीत)*
Ravi Prakash
जाने कितने चढ़ गए, फाँसी माँ के लाल ।
जाने कितने चढ़ गए, फाँसी माँ के लाल ।
sushil sarna
अपना भी एक घर होता,
अपना भी एक घर होता,
Shweta Soni
आलेख - मित्रता की नींव
आलेख - मित्रता की नींव
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
देखिए लोग धोखा गलत इंसान से खाते हैं
देखिए लोग धोखा गलत इंसान से खाते हैं
शेखर सिंह
कविता: जर्जर विद्यालय भवन की पीड़ा
कविता: जर्जर विद्यालय भवन की पीड़ा
Rajesh Kumar Arjun
संत कबीर
संत कबीर
Lekh Raj Chauhan
मझधार
मझधार
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
'नव कुंडलिया 'राज' छंद' में रमेशराज के विरोधरस के गीत
'नव कुंडलिया 'राज' छंद' में रमेशराज के विरोधरस के गीत
कवि रमेशराज
नए साल की मुबारक
नए साल की मुबारक
भरत कुमार सोलंकी
सरेआम जब कभी मसअलों की बात आई
सरेआम जब कभी मसअलों की बात आई
Maroof aalam
* विदा हुआ है फागुन *
* विदा हुआ है फागुन *
surenderpal vaidya
कहानी :#सम्मान
कहानी :#सम्मान
Usha Sharma
स्वागत है इस नूतन का यह वर्ष सदा सुखदायक हो।
स्वागत है इस नूतन का यह वर्ष सदा सुखदायक हो।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
वतन में रहने वाले ही वतन को बेचा करते
वतन में रहने वाले ही वतन को बेचा करते
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
नफ़रत के सौदागर
नफ़रत के सौदागर
Shekhar Chandra Mitra
@ranjeetkrshukla
@ranjeetkrshukla
Ranjeet Kumar Shukla
2904.*पूर्णिका*
2904.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
नलिनी छंद /भ्रमरावली छंद
नलिनी छंद /भ्रमरावली छंद
Subhash Singhai
कभी एक तलाश मेरी खुद को पाने की।
कभी एक तलाश मेरी खुद को पाने की।
Manisha Manjari
Tum har  wakt hua krte the kbhi,
Tum har wakt hua krte the kbhi,
Sakshi Tripathi
अंतरद्वंद
अंतरद्वंद
Happy sunshine Soni
ঐটা সত্য
ঐটা সত্য
Otteri Selvakumar
प्रकाश एवं तिमिर
प्रकाश एवं तिमिर
Pt. Brajesh Kumar Nayak
हर सांझ तुम्हारे आने की आहट सुना करता था
हर सांझ तुम्हारे आने की आहट सुना करता था
Er. Sanjay Shrivastava
रिश्ते से बाहर निकले हैं - संदीप ठाकुर
रिश्ते से बाहर निकले हैं - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
आपके पास धन इसलिए नहीं बढ़ रहा है क्योंकि आपकी व्यावसायिक पक
आपके पास धन इसलिए नहीं बढ़ रहा है क्योंकि आपकी व्यावसायिक पक
Rj Anand Prajapati
चांद पर उतरा
चांद पर उतरा
Dr fauzia Naseem shad
"अनकही सी ख़्वाहिशों की क्या बिसात?
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...