Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Jul 2023 · 1 min read

जैसे एकसे दिखने वाले नमक और चीनी का स्वाद अलग अलग होता है…

जैसे एकसे दिखने वाले नमक और चीनी का स्वाद अलग अलग होता है…
वैसे ही हमारे एकसे दिखने वाले अच्छे बुरे कर्मों का फल अलग अलग होता है…

1 Like · 453 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
गुम सूम क्यूँ बैठी हैं जरा ये अधर अपने अलग कीजिए ,
गुम सूम क्यूँ बैठी हैं जरा ये अधर अपने अलग कीजिए ,
Sukoon
दीदार
दीदार
Dipak Kumar "Girja"
नव वर्ष हमारे आए हैं
नव वर्ष हमारे आए हैं
Er.Navaneet R Shandily
मेरा प्यार तुझको अपनाना पड़ेगा
मेरा प्यार तुझको अपनाना पड़ेगा
gurudeenverma198
मनका छंद ....
मनका छंद ....
sushil sarna
रोजाना आने लगे , बादल अब घनघोर (कुंडलिया)
रोजाना आने लगे , बादल अब घनघोर (कुंडलिया)
Ravi Prakash
Really true nature and Cloud.
Really true nature and Cloud.
Neeraj Agarwal
******छोटी चिड़ियाँ*******
******छोटी चिड़ियाँ*******
Dr. Vaishali Verma
"ओ मेरे मांझी"
Dr. Kishan tandon kranti
2589.पूर्णिका
2589.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
ख़त्म होने जैसा
ख़त्म होने जैसा
Sangeeta Beniwal
■ पाठक बचे न श्रोता।
■ पाठक बचे न श्रोता।
*प्रणय प्रभात*
गैरों से कोई नाराजगी नहीं
गैरों से कोई नाराजगी नहीं
Harminder Kaur
करके घर की फ़िक्र तब, पंछी भरे उड़ान
करके घर की फ़िक्र तब, पंछी भरे उड़ान
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
महामहिम राष्ट्रपति द्रोपदी मुर्मू जी
महामहिम राष्ट्रपति द्रोपदी मुर्मू जी
Seema gupta,Alwar
करवाचौथ
करवाचौथ
Dr Archana Gupta
एक प्रयास अपने लिए भी
एक प्रयास अपने लिए भी
Dr fauzia Naseem shad
वह फूल हूँ
वह फूल हूँ
Pt. Brajesh Kumar Nayak
आज सर ढूंढ रहा है फिर कोई कांधा
आज सर ढूंढ रहा है फिर कोई कांधा
Vijay Nayak
बेशक प्यार उनसे बेपनाह था......
बेशक प्यार उनसे बेपनाह था......
रुचि शर्मा
ସେହି କୁକୁର
ସେହି କୁକୁର
Otteri Selvakumar
संवेदना (वृद्धावस्था)
संवेदना (वृद्धावस्था)
नवीन जोशी 'नवल'
*खुशियों की सौगात*
*खुशियों की सौगात*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बारिश
बारिश
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
!! वीणा के तार !!
!! वीणा के तार !!
Chunnu Lal Gupta
Y
Y
Rituraj shivem verma
I want to tell them, they exist!!
I want to tell them, they exist!!
Rachana
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
हम हमारे हिस्से का कम लेकर आए
हम हमारे हिस्से का कम लेकर आए
सिद्धार्थ गोरखपुरी
दुःख  से
दुःख से
Shweta Soni
Loading...