Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Feb 2023 · 1 min read

जे जाड़े की रातें (बुंदेली गीत)

हमखों लगें
गुरीरीं भौतऊ,
जे जाड़े की रातें ।

चार जनौं ने
बारो कौंड़ौ,
बैठे आगी तापें,
क्याऊँ की ईंट
क्याऊँ कौ गारौ
बैठे राग अलापें ।

सुक्क-दुक्ख कीं
राजनीत कीं
धरम-करम की बातें ।

हाथ सेंक लय,
पाँव सेंक लय,
पाछें पींठ जुड़ानी ।
लौट किसा फिर
मईं खों आ गई
जाँ खों बै रव पानी ।

दारू पी कें
आ गव कलुआ
पर गईं दो-दो लातें ।

बड़ी पौर में
बिछौ डोरिया
कमरा ओड़ें बैठे ।
बड्डा आ गय,
कक्कू आ गय,
आ गय लुहरे,जेठे ।

चिलम,तमाखू,
चाय गुरीरी
बटन लगीं सौगातें ।

ओस टबक रई
पपरी जम गई
जूड़े नदिया,नरवा ।
ख्वार कुकर गई
कड़े बायरे
जूड़े हो गय फरवा ।

पाँव कुकेरे
औंदे पर रय
तकिया धरकें छातें ।

हमखों लगें
गुरीरीं भौतऊ
जे जाड़े की रातें ।
०००
—– ईश्वर दयाल गोस्वामी ।

Language: Hindi
Tag: गीत
6 Likes · 14 Comments · 404 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Speak with your work not with your words
Speak with your work not with your words
Nupur Pathak
तो शीला प्यार का मिल जाता
तो शीला प्यार का मिल जाता
Basant Bhagawan Roy
*कभी मिटा नहीं पाओगे गाँधी के सम्मान को*
*कभी मिटा नहीं पाओगे गाँधी के सम्मान को*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
उम्रभर
उम्रभर
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
एक सच
एक सच
Neeraj Agarwal
*
*"बीजणा" v/s "बाजणा"* आभूषण
लोककवि पंडित राजेराम संगीताचार्य
ग़ज़ल की नक़ल नहीं है तेवरी + रमेशराज
ग़ज़ल की नक़ल नहीं है तेवरी + रमेशराज
कवि रमेशराज
जय श्री राम
जय श्री राम
Er.Navaneet R Shandily
चंद्रयान 3
चंद्रयान 3
Dr Archana Gupta
ग़ज़ल _ तुम फ़ासले बढ़ाकर किसको दिखा रहे हो ।
ग़ज़ल _ तुम फ़ासले बढ़ाकर किसको दिखा रहे हो ।
Neelofar Khan
कोंपलें फिर फूटेंगी
कोंपलें फिर फूटेंगी
Saraswati Bajpai
जीवन का आत्मबोध
जीवन का आत्मबोध
ओंकार मिश्र
*साँस लेने से ज्यादा सरल कुछ नहीं (मुक्तक)*
*साँस लेने से ज्यादा सरल कुछ नहीं (मुक्तक)*
Ravi Prakash
अधूरा प्रयास
अधूरा प्रयास
Sûrëkhâ
मुक्तक
मुक्तक
sushil sarna
देखकर प्यार से मुस्कुराते रहो।
देखकर प्यार से मुस्कुराते रहो।
surenderpal vaidya
मैं उसकी निग़हबानी का ऐसा शिकार हूँ
मैं उसकी निग़हबानी का ऐसा शिकार हूँ
Shweta Soni
मेघ
मेघ
Rakesh Rastogi
न कल के लिए कोई अफसोस है
न कल के लिए कोई अफसोस है
ruby kumari
आँखों के आंसू झूठे है, निश्छल हृदय से नहीं झरते है।
आँखों के आंसू झूठे है, निश्छल हृदय से नहीं झरते है।
Buddha Prakash
हो अंधकार कितना भी, पर ये अँधेरा अनंत नहीं
हो अंधकार कितना भी, पर ये अँधेरा अनंत नहीं
पूर्वार्थ
तुम्हारे दीदार की तमन्ना
तुम्हारे दीदार की तमन्ना
Anis Shah
"इंसान की जमीर"
Dr. Kishan tandon kranti
■ मुक्तक-
■ मुक्तक-
*प्रणय प्रभात*
आज फिर इन आँखों में आँसू क्यों हैं
आज फिर इन आँखों में आँसू क्यों हैं
VINOD CHAUHAN
शीर्षक:-सुख तो बस हरजाई है।
शीर्षक:-सुख तो बस हरजाई है।
Pratibha Pandey
हरकत में आयी धरा...
हरकत में आयी धरा...
डॉ.सीमा अग्रवाल
शांति के लिए अगर अन्तिम विकल्प झुकना
शांति के लिए अगर अन्तिम विकल्प झुकना
Paras Nath Jha
मिलन
मिलन
Dr.Priya Soni Khare
2929.*पूर्णिका*
2929.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...