Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Jan 2017 · 1 min read

जूही-गुलाबों सी बेटियाँ

(०-१ साल )
मेरे घर चिड़ियाँ आई,
सबके चेहरे पे खुशियाँ लाई,
सब हँसते, वो दमदम रोती ,
ये देख नज़ारा,आँखे नम होती ,
ये मेरा कोरा कागज, मेरी अमिट परछाई,
लिखूँगा संस्कारों के अध्याय,जिसमें हो समुंद्री गहराई ,

(१-५ साल )
मेरे घर चिड़ियाँ आई,
सबके चेहरे पे खुशियाँ लाई,
पापा-पापा कहकर, मुझे हँसाए ,
झूले के खेल की खातिर ,घोड़ा बनाए ,
क्या ही अद्भुत नज़ारा है ,
उम्र किनारे कर, मन बच्चे सा आवारा है ,

(५-२० साल )
मेरे घर चिड़ियाँ आई,
सबके चेहरे पे खुशियाँ लाई,
सरस्वती का कमल अँकुरित हुआ ,
कोरा कागज अखरों से शिक्षित हुआ,
गुरु की महिमा, गुरु का ज्ञान संग रखना,
सादा जीवन, मन का अभिमान अपंग रखना,

(२०-२२ साल )
मेरे घर चिड़ियाँ आई,
सबके चेहरे पे खुशियाँ लाई,
बीते लम्हें बड़े ही अच्छे थे ,
थोड़े झूठे, थोड़े सच्चे थे,
चल उड़ जा पंछी, तेरा कोई ओर ठिकाना,
थोड़े लम्हें मुकलम हुए, अगले जन्म फिर से आना,
थोड़े लम्हें मुकलम हुए, अगले जन्म फिर से आना……

1 Like · 303 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हिंदुस्तान जिंदाबाद
हिंदुस्तान जिंदाबाद
Mahmood Alam
*वर्तमान पल भर में ही, गुजरा अतीत बन जाता है (हिंदी गजल)*
*वर्तमान पल भर में ही, गुजरा अतीत बन जाता है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
मैं तो महज नीर हूँ
मैं तो महज नीर हूँ
VINOD CHAUHAN
19--🌸उदासीनता 🌸
19--🌸उदासीनता 🌸
Mahima shukla
रिश्तों में वक्त नहीं है
रिश्तों में वक्त नहीं है
पूर्वार्थ
तुमने मुझे दिमाग़ से समझने की कोशिश की
तुमने मुझे दिमाग़ से समझने की कोशिश की
Rashmi Ranjan
चन्द्रशेखर आज़ाद...
चन्द्रशेखर आज़ाद...
Kavita Chouhan
मतदान
मतदान
Sanjay ' शून्य'
🥀*✍अज्ञानी की*🥀
🥀*✍अज्ञानी की*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
अब तक मुकम्मल नहीं हो सका आसमां,
अब तक मुकम्मल नहीं हो सका आसमां,
Anil Mishra Prahari
आवश्यक मतदान है
आवश्यक मतदान है
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
दोस्ती.......
दोस्ती.......
Harminder Kaur
"जरा सोचो"
Dr. Kishan tandon kranti
आज की राजनीति
आज की राजनीति
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बोये बीज बबूल आम कहाँ से होय🙏🙏
बोये बीज बबूल आम कहाँ से होय🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
"दीप जले"
Shashi kala vyas
शहर की बस्तियों में घोर सन्नाटा होता है,
शहर की बस्तियों में घोर सन्नाटा होता है,
Abhishek Soni
क्या सितारों को तका है - ग़ज़ल - संदीप ठाकुर
क्या सितारों को तका है - ग़ज़ल - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
आज का बदलता माहौल
आज का बदलता माहौल
Naresh Sagar
शासक की कमजोरियों का आकलन
शासक की कमजोरियों का आकलन
Mahender Singh
नव-निवेदन
नव-निवेदन
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
गंगा काशी सब हैं घरही में.
गंगा काशी सब हैं घरही में.
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
#अमृत_पर्व
#अमृत_पर्व
*Author प्रणय प्रभात*
कलाकृति बनाम अश्लीलता।
कलाकृति बनाम अश्लीलता।
Acharya Rama Nand Mandal
तू ही मेरी लाड़ली
तू ही मेरी लाड़ली
gurudeenverma198
2717.*पूर्णिका*
2717.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
गालगागा गालगागा गालगागा
गालगागा गालगागा गालगागा
Neelam Sharma
Prapancha mahila mathru dinotsavam
Prapancha mahila mathru dinotsavam
jayanth kaweeshwar
क्षणिका
क्षणिका
sushil sarna
Really true nature and Cloud.
Really true nature and Cloud.
Neeraj Agarwal
Loading...