Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Oct 2022 · 1 min read

जुल्म मुझपे ना करो

मेरे नसीब तुम,मेरे हमदर्द तुम,रहम कुछ मुझपे करो।
मैं तेरी हूँ जीवनसाथी , जुल्म मुझपे ना करो ।।
मेरे नसीब तुम———————-।।

बड़े अरमान से तुझको, बसाया है दिल में ।
फूल मैंने बिछाये हैं तेरी राह और मंजिल में ।।
मैं तेरी हूँ हमसफर, खुशी से प्यार मुझसे करो।
मेरे नसीब तुम———————-।।

नजर नहीं तुमको लगे, आँचल के साये में रखती हूँ।
हमदम करने को मदद , हमसाया बनकै चलती हूँ।।
मेरी खुशी – ख्वाब तु ही है, वहम ना मुझपे करो।
मेरे नसीब तुम———————–।।

छोड़कर जाऊंगी नहीं, तेरा यह साथ कभी मैं।
तोड़ूंगी वादा नहीं , तुमसे यह रिश्ता कभी मैं।।
मेरी बन्दगी हो तुम ही, बेघर ना मुझको करो।
मेरे नसीब तुम —————————-।।

शिक्षक एवं साहित्यकार-
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)
मोबाईल नम्बर – 9571070847

Language: Hindi
Tag: गीत
230 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सजदे में सर झुका तो
सजदे में सर झुका तो
shabina. Naaz
एक महिला जिससे अपनी सारी गुप्त बाते कह देती है वह उसे बेहद प
एक महिला जिससे अपनी सारी गुप्त बाते कह देती है वह उसे बेहद प
Rj Anand Prajapati
बे-असर
बे-असर
Sameer Kaul Sagar
हकमारी
हकमारी
Shekhar Chandra Mitra
नियम पुराना
नियम पुराना
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
विष्णु प्रभाकर जी रहे,
विष्णु प्रभाकर जी रहे,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सारे नेता कर रहे, आपस में हैं जंग
सारे नेता कर रहे, आपस में हैं जंग
Dr Archana Gupta
बेचारा प्रताड़ित पुरुष
बेचारा प्रताड़ित पुरुष
Manju Singh
बहुत देखें हैं..
बहुत देखें हैं..
Srishty Bansal
माँ
माँ
लक्ष्मी सिंह
*मन न जाने कहां कहां भटकते रहता है स्थिर नहीं रहता है।चंचल च
*मन न जाने कहां कहां भटकते रहता है स्थिर नहीं रहता है।चंचल च
Shashi kala vyas
यदि सफलता चाहते हो तो सफल लोगों के दिखाए और बताए रास्ते पर च
यदि सफलता चाहते हो तो सफल लोगों के दिखाए और बताए रास्ते पर च
dks.lhp
परों को खोल कर अपने उड़ो ऊँचा ज़माने में!
परों को खोल कर अपने उड़ो ऊँचा ज़माने में!
धर्मेंद्र अरोड़ा मुसाफ़िर
वह नारी है
वह नारी है
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
जल्दी-जल्दी  बीत   जा, ओ  अंधेरी  रात।
जल्दी-जल्दी बीत जा, ओ अंधेरी रात।
दुष्यन्त 'बाबा'
" पलास "
Pushpraj Anant
युगांतर
युगांतर
Suryakant Dwivedi
dr arun kumar shastri
dr arun kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
रक्तदान
रक्तदान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
सामाजिकता
सामाजिकता
Punam Pande
पंखा
पंखा
देवराज यादव
हम जंग में कुछ ऐसा उतरे
हम जंग में कुछ ऐसा उतरे
Ankita Patel
औरतें
औरतें
Kanchan Khanna
बुद्ध को अपने याद करो ।
बुद्ध को अपने याद करो ।
Buddha Prakash
3189.*पूर्णिका*
3189.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बुढ़ापा अति दुखदाई (हास्य कुंडलिया)
बुढ़ापा अति दुखदाई (हास्य कुंडलिया)
Ravi Prakash
उपकार माईया का
उपकार माईया का
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
जितना आसान होता है
जितना आसान होता है
Harminder Kaur
प्रेम और सद्भाव के रंग सारी दुनिया पर डालिए
प्रेम और सद्भाव के रंग सारी दुनिया पर डालिए
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
#शुभ_प्रतिपदा
#शुभ_प्रतिपदा
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...