Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Oct 2022 · 1 min read

जुल्म मुझपे ना करो

मेरे नसीब तुम,मेरे हमदर्द तुम,रहम कुछ मुझपे करो।
मैं तेरी हूँ जीवनसाथी , जुल्म मुझपे ना करो ।।
मेरे नसीब तुम———————-।।

बड़े अरमान से तुझको, बसाया है दिल में ।
फूल मैंने बिछाये हैं तेरी राह और मंजिल में ।।
मैं तेरी हूँ हमसफर, खुशी से प्यार मुझसे करो।
मेरे नसीब तुम———————-।।

नजर नहीं तुमको लगे, आँचल के साये में रखती हूँ।
हमदम करने को मदद , हमसाया बनकै चलती हूँ।।
मेरी खुशी – ख्वाब तु ही है, वहम ना मुझपे करो।
मेरे नसीब तुम———————–।।

छोड़कर जाऊंगी नहीं, तेरा यह साथ कभी मैं।
तोड़ूंगी वादा नहीं , तुमसे यह रिश्ता कभी मैं।।
मेरी बन्दगी हो तुम ही, बेघर ना मुझको करो।
मेरे नसीब तुम —————————-।।

शिक्षक एवं साहित्यकार-
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)
मोबाईल नम्बर – 9571070847

Language: Hindi
Tag: गीत
106 Views
You may also like:
"छत्रपति शिवाजी महाराज की गौभक्ति"
Pravesh Shinde
मन
Pakhi Jain
नववर्ष 2023
Saraswati Bajpai
✍️आसमाँ का हौसला देता है✍️
'अशांत' शेखर
एक पत्रकार ( #हिन्दी_कविता)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
आंसूओं की नमी
Dr fauzia Naseem shad
तीर ए नज़र से।
Taj Mohammad
याद आयेंगे तुम्हे हम,एक चुम्बन की तरह
Ram Krishan Rastogi
दुख आधे तो पस्त
RAMESH SHARMA
चंद्रगुप्त की जुबानी , भगवान श्रीकृष्ण की कहानी
AJAY AMITABH SUMAN
बिहार का जालियांवाला बाग - तारापुर
विक्रम कुमार
■ आज की सलाह
*Author प्रणय प्रभात*
तूफां से लड़ता वही
Satish Srijan
"अगली राखी में आऊँगा"
Lohit Tamta
जिंदगी फिर भी हंसीन
shabina. Naaz
मां की महिमा
Shivraj Anand
"लहलहाते खलिहान"
Dr Meenu Poonia
रानी अंग्रेजी (कुंडलिया)
Ravi Prakash
सामंत वादियों ने बिछा रखा जाल है।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
मेरी अभिलाषा- उपवन बनना चाहता हूं।
Rajesh Kumar Arjun
कुल के दीपक
Utkarsh Dubey “Kokil”
" परिवर्तनक बसात "
DrLakshman Jha Parimal
भारत की स्वतंत्रता का इतिहास
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
थकते नहीं हो क्या
सूर्यकांत द्विवेदी
जड़त्व
Shyam Sundar Subramanian
माँ
विशाल शुक्ल
फ़िदा
Buddha Prakash
माँ पर तीन मुक्तक
Dr Archana Gupta
समय का विशिष्ट कवि
Shekhar Chandra Mitra
आरजू
Anamika Singh
Loading...