Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 May 2024 · 1 min read

जुनूनी दिल

यारो हम तो आज भी
अपने हुनर में द़म रखते हैं,
उड़ जाते हैं रंग लोगों के जब,
हम महफिल में कदम रखते हैं।
हौसले अपनी जेब में रखकर,
सफर तय करता हूं,
इम्तिहान कितना भी कठिन हो,
पास कर ही लेता हूं।
जुनून जब बेहिसाब
चढ़ता है रग-रग में।
ये जूनूनी दिल और दिमाग भी,
कहां थकता है।
हद़ की सीमा से परे
उडा़न भरनी है यारो,
गिरूंगा, फिर से उठूंगा,
फिर से गिरूंगा, दौडूंगा,
और फिर न रूकूंगा।

Language: Hindi
1 Like · 27 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
क्या यह महज संयोग था या कुछ और.... (1)
क्या यह महज संयोग था या कुछ और.... (1)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*जहॉं पर हारना तय था, वहॉं हम जीत जाते हैं (हिंदी गजल)*
*जहॉं पर हारना तय था, वहॉं हम जीत जाते हैं (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
साहित्यकार ओमप्रकाश वाल्मीकि का परिचय।
साहित्यकार ओमप्रकाश वाल्मीकि का परिचय।
Dr. Narendra Valmiki
......... ढेरा.......
......... ढेरा.......
Naushaba Suriya
वस हम पर
वस हम पर
Dr fauzia Naseem shad
जिनमें कोई बात होती है ना
जिनमें कोई बात होती है ना
Ranjeet kumar patre
Extra people
Extra people
पूर्वार्थ
**पी कर  मय महका कोरा मन***
**पी कर मय महका कोरा मन***
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
प्यार और विश्वास
प्यार और विश्वास
Harminder Kaur
इससे सुंदर कोई नही लिख सकता 👌👌 मन की बात 👍बहुत सुंदर लिखा है
इससे सुंदर कोई नही लिख सकता 👌👌 मन की बात 👍बहुत सुंदर लिखा है
Rachna Mishra
"पुकारता है चले आओ"
Dr. Kishan tandon kranti
धूम भी मच सकती है
धूम भी मच सकती है
gurudeenverma198
ॐ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
मंटू और चिड़ियाँ
मंटू और चिड़ियाँ
SHAMA PARVEEN
मैं हूँ कि मैं मैं नहीं हूँ
मैं हूँ कि मैं मैं नहीं हूँ
VINOD CHAUHAN
#दोहा
#दोहा
*प्रणय प्रभात*
'तड़प'
'तड़प'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
कम से कम..
कम से कम..
हिमांशु Kulshrestha
प्रार्थना
प्रार्थना
Dr Archana Gupta
पृथ्वी दिवस
पृथ्वी दिवस
Bodhisatva kastooriya
पल-पल यू मरना
पल-पल यू मरना
The_dk_poetry
2879.*पूर्णिका*
2879.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सिर्फ विकट परिस्थितियों का सामना
सिर्फ विकट परिस्थितियों का सामना
Anil Mishra Prahari
दोहा पंचक. . . . . पत्नी
दोहा पंचक. . . . . पत्नी
sushil sarna
किसी की याद मे आँखे नम होना,
किसी की याद मे आँखे नम होना,
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
जब कोई आदमी कमजोर पड़ जाता है
जब कोई आदमी कमजोर पड़ जाता है
Paras Nath Jha
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
वक्त से लड़कर अपनी तकदीर संवार रहा हूँ।
वक्त से लड़कर अपनी तकदीर संवार रहा हूँ।
सिद्धार्थ गोरखपुरी
Loading...