Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Jun 2016 · 1 min read

जुगनुओं के खेत में

जुगनुओं के खेत में (मुक्तक)
****************************************
साँझ होते देख हलचल उस चमकती रेत में,
कुछ लगा हमको अलग सा उस नवल संकेत में,
जब सुना हमने उजाला बँट रहा है मुफ्त तो,
चल पड़े हम भी उसी पल जुगनुओं के खेत में ।
*****************************************
हरीश लोहुमी, लखनऊ (उ॰प्र॰)
*****************************************

Language: Hindi
Tag: मुक्तक
259 Views
You may also like:
समर
पीयूष धामी
भोर का नवगीत / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
अनमोल राजू
Anamika Singh
गीत//तुमने मिलना देखा, हमने मिलकर फिर खो जाना देखा।
Shiva Awasthi
विभिन्न–विभिन्न दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सिलसिला
Shyam Sundar Subramanian
✍️सियासत✍️
'अशांत' शेखर
मैं अवला नही (#हिन्दी_कविता)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
शायरी
श्याम सिंह बिष्ट
श्याम बैरागी : एक आशुकवि अरण्य से जन-जन, फिर सिने-रत्न...
Shyam Hardaha
कैसी अजब कहानी लिखूं
कवि दीपक बवेजा
इज़हार-ए-इश्क 2
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
*"परशुराम के वंशज हैं"*
Deepak Kumar Tyagi
अपने दिल को।
Taj Mohammad
रुकना हमारा कर्म नहीं
AMRESH KUMAR VERMA
साधु न भूखा जाय
श्री रमण 'श्रीपद्'
एक एहसास
Dr fauzia Naseem shad
बच्चे थिरक रहे हैं आँगन।
लक्ष्मी सिंह
चलना हमें होगा
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
घडी़ की टिक-टिक⏱️⏱️
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
🌺✍️मेरे क़रार की अहमियत समझो✍️🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जरिया
Saraswati Bajpai
द्रोणाचार्यों की साज़िश
Shekhar Chandra Mitra
जाति जनगणना
मनोज कर्ण
A Departed Soul Can Never Come Again
Manisha Manjari
गुरु कृपा
Buddha Prakash
*एनी बेसेंट (गीत)*
Ravi Prakash
रक्षा के पावन बंधन का, अमर प्रेम त्यौहार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
◆ संस्मरण / अक्षर ज्ञान
*Author प्रणय प्रभात*
मुस्कुराहट
SZUBAIR KHAN KHAN
Loading...