Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Jun 2016 · 1 min read

जुगनुओं के खेत में

जुगनुओं के खेत में (मुक्तक)
****************************************
साँझ होते देख हलचल उस चमकती रेत में,
कुछ लगा हमको अलग सा उस नवल संकेत में,
जब सुना हमने उजाला बँट रहा है मुफ्त तो,
चल पड़े हम भी उसी पल जुगनुओं के खेत में ।
*****************************************
हरीश लोहुमी, लखनऊ (उ॰प्र॰)
*****************************************

Language: Hindi
351 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
लोग कह रहे हैं राजनीति का चरित्र बिगड़ गया है…
लोग कह रहे हैं राजनीति का चरित्र बिगड़ गया है…
Anand Kumar
हौसला
हौसला
Monika Verma
बेईमानी का फल
बेईमानी का फल
Mangilal 713
अपने कदमों को
अपने कदमों को
SHAMA PARVEEN
** वर्षा ऋतु **
** वर्षा ऋतु **
surenderpal vaidya
वो तो नाराजगी से डरते हैं।
वो तो नाराजगी से डरते हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
तेरे संग एक प्याला चाय की जुस्तजू रखता था
तेरे संग एक प्याला चाय की जुस्तजू रखता था
VINOD CHAUHAN
चाँद
चाँद
Atul "Krishn"
*ढोलक (बाल कविता)*
*ढोलक (बाल कविता)*
Ravi Prakash
विश्व पुस्तक मेला
विश्व पुस्तक मेला
Dr. Kishan tandon kranti
आप शिक्षकों को जिस तरह से अनुशासन सिखा और प्रचारित कर रहें ह
आप शिक्षकों को जिस तरह से अनुशासन सिखा और प्रचारित कर रहें ह
Sanjay ' शून्य'
!!!! सबसे न्यारा पनियारा !!!!
!!!! सबसे न्यारा पनियारा !!!!
जगदीश लववंशी
इतना मत इठलाया कर इस जवानी पर
इतना मत इठलाया कर इस जवानी पर
Keshav kishor Kumar
याद आए दिन बचपन के
याद आए दिन बचपन के
Manu Vashistha
शब्द लौटकर आते हैं,,,,
शब्द लौटकर आते हैं,,,,
Shweta Soni
ये आँखें तेरे आने की उम्मीदें जोड़ती रहीं
ये आँखें तेरे आने की उम्मीदें जोड़ती रहीं
Kailash singh
मुक्तक
मुक्तक
प्रीतम श्रावस्तवी
#दोहा-
#दोहा-
*प्रणय प्रभात*
बालि हनुमान मलयुद्ध
बालि हनुमान मलयुद्ध
Anil chobisa
सुख दुख
सुख दुख
Sûrëkhâ
ज़िंदगी इसमें
ज़िंदगी इसमें
Dr fauzia Naseem shad
ଅତିଥି ର ବାସ୍ତବତା
ଅତିଥି ର ବାସ୍ତବତା
Bidyadhar Mantry
खुद से उम्मीद लगाओगे तो खुद को निखार पाओगे
खुद से उम्मीद लगाओगे तो खुद को निखार पाओगे
ruby kumari
गिरगिट बदले रंग जब ,
गिरगिट बदले रंग जब ,
sushil sarna
New light emerges from the depths of experiences, - Desert Fellow Rakesh Yadav
New light emerges from the depths of experiences, - Desert Fellow Rakesh Yadav
Desert fellow Rakesh
दो किसान मित्र थे साथ रहते थे साथ खाते थे साथ पीते थे सुख दु
दो किसान मित्र थे साथ रहते थे साथ खाते थे साथ पीते थे सुख दु
कृष्णकांत गुर्जर
.
.
Amulyaa Ratan
तू है जगतजननी माँ दुर्गा
तू है जगतजननी माँ दुर्गा
gurudeenverma198
फसल , फासला और फैसला तभी सफल है अगर इसमें मेहनत हो।।
फसल , फासला और फैसला तभी सफल है अगर इसमें मेहनत हो।।
डॉ० रोहित कौशिक
कुछ लोग होते है जो रिश्तों को महज़ इक औपचारिकता भर मानते है
कुछ लोग होते है जो रिश्तों को महज़ इक औपचारिकता भर मानते है
पूर्वार्थ
Loading...