Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

जुगनुओं के खेत में

जुगनुओं के खेत में (मुक्तक)
****************************************
साँझ होते देख हलचल उस चमकती रेत में,
कुछ लगा हमको अलग सा उस नवल संकेत में,
जब सुना हमने उजाला बँट रहा है मुफ्त तो,
चल पड़े हम भी उसी पल जुगनुओं के खेत में ।
*****************************************
हरीश लोहुमी, लखनऊ (उ॰प्र॰)
*****************************************

215 Views
You may also like:
बाबू जी
Anoop Sonsi
जिम्मेदारी और पिता
Dr. Kishan Karigar
जिन्दगी का जमूरा
Anamika Singh
सृजन कर्ता है पिता।
Taj Mohammad
वो हैं , छिपे हुए...
मनोज कर्ण
संघर्ष
Sushil chauhan
गरम हुई तासीर दही की / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
इंसानियत का एहसास भी
Dr fauzia Naseem shad
समय ।
Kanchan sarda Malu
दूल्हे अब बिकते हैं (एक व्यंग्य)
Ram Krishan Rastogi
फौजी बनना कहाँ आसान है
Anamika Singh
मोहब्बत की दर्द- ए- दास्ताँ
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
"बेटी के लिए उसके पिता "
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
पिता
लक्ष्मी सिंह
तुमसे कोई शिकायत नही
Ram Krishan Rastogi
जीवन-रथ के सारथि_पिता
मनोज कर्ण
प्रात का निर्मल पहर है
मनोज कर्ण
✍️इंतज़ार✍️
Vaishnavi Gupta
ख़्वाहिशें बे'लिबास थी
Dr fauzia Naseem shad
कुछ नहीं
Dr fauzia Naseem shad
✍️बारिश का मज़ा ✍️
Vaishnavi Gupta
गुमनाम ही सही....
DEVSHREE PAREEK 'ARPITA'
The Buddha And His Path
Buddha Prakash
छोड़ दो बांटना
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बेरोज़गारों का कब आएगा वसंत
Anamika Singh
मै पैसा हूं दोस्तो मेरे रूप बने है अनेक
Ram Krishan Rastogi
किसी का होके रह जाना
Dr fauzia Naseem shad
वो बरगद का पेड़
Shiwanshu Upadhyay
मेरी लेखनी
Anamika Singh
गर्मी का कहर
Ram Krishan Rastogi
Loading...