Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Jun 2023 · 1 min read

जी लगाकर ही सदा

जी लगाकर ही सदा
जब कहा उसने कहा
जी चुराकर ले गया
जी लगाना आपका
–महावीर उत्तरांचली

3 Likes · 200 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
View all
You may also like:
उसकी सुनाई हर कविता
उसकी सुनाई हर कविता
हिमांशु Kulshrestha
डॉ. नामवर सिंह की दृष्टि में कौन-सी कविताएँ गम्भीर और ओजस हैं??
डॉ. नामवर सिंह की दृष्टि में कौन-सी कविताएँ गम्भीर और ओजस हैं??
कवि रमेशराज
"ऐ जिन्दगी"
Dr. Kishan tandon kranti
अपनी निगाह सौंप दे कुछ देर के लिए
अपनी निगाह सौंप दे कुछ देर के लिए
सिद्धार्थ गोरखपुरी
आँखें
आँखें
लक्ष्मी सिंह
दोहे-बच्चे
दोहे-बच्चे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
"वक्त की औकात"
Ekta chitrangini
ख्वाहिशों के कारवां में
ख्वाहिशों के कारवां में
Satish Srijan
लोकतंत्र तभी तक जिंदा है जब तक आम जनता की आवाज़ जिंदा है जिस
लोकतंत्र तभी तक जिंदा है जब तक आम जनता की आवाज़ जिंदा है जिस
Rj Anand Prajapati
2891.*पूर्णिका*
2891.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
रे ज़िन्दगी
रे ज़िन्दगी
Jitendra Chhonkar
शर्म करो
शर्म करो
Sanjay ' शून्य'
कविताएँ
कविताएँ
Shyam Pandey
एक ग़ज़ल यह भी
एक ग़ज़ल यह भी
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
शिकायत नही तू शुक्रिया कर
शिकायत नही तू शुक्रिया कर
Surya Barman
अपने होने
अपने होने
Dr fauzia Naseem shad
// तुम सदा खुश रहो //
// तुम सदा खुश रहो //
Shivkumar barman
.......रूठे अल्फाज...
.......रूठे अल्फाज...
Naushaba Suriya
आज इस देश का मंजर बदल गया यारों ।
आज इस देश का मंजर बदल गया यारों ।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
इतनी जल्दी क्यूं जाते हो,बैठो तो
इतनी जल्दी क्यूं जाते हो,बैठो तो
Shweta Soni
■ सलामत रहिए
■ सलामत रहिए
*Author प्रणय प्रभात*
रिश्तों की कसौटी
रिश्तों की कसौटी
VINOD CHAUHAN
शीतलहर
शीतलहर
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
राह पर चलते चलते घटित हो गई एक अनहोनी, थम गए कदम,
राह पर चलते चलते घटित हो गई एक अनहोनी, थम गए कदम,
Sukoon
बरसो रे मेघ (कजरी गीत)
बरसो रे मेघ (कजरी गीत)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
*पुस्तक समीक्षा*
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
Nothing grand to wish for, but I pray that I am not yet pass
Nothing grand to wish for, but I pray that I am not yet pass
पूर्वार्थ
मुझे कृष्ण बनना है मां
मुझे कृष्ण बनना है मां
Surinder blackpen
#अज्ञानी_की_कलम
#अज्ञानी_की_कलम
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
छठ पूजा
छठ पूजा
Damini Narayan Singh
Loading...