Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Sep 2016 · 1 min read

जी दुखता है

*लावणी छंद*

जी दुखता है मरते देखा, जब जब सैनिक सीमा पर।
धधक रही है ज्वाला मन में, है प्रत्युत्तर धीमा पर।

शस्त्र चला देते हैं अक्सर , छुप कर सोते वीरों पर।
ऐसे नर- पशु को सुलवा दो, भले बिषैले तीरों पर।

बातों का क्या नारों का क्या अक्सर ही चलते रहते हैं।
राजनीति की बढि चढकर ये, वीर हमारे मरते हैं।

कब वो दिन आ पाएगा, जब घर में घुसकर मारेंगे।
जिन हाथों ने आग लगाई, कब वो हाथ उखाडेंगे।

मोल चुकेगा कब आखिर, वीरों के बहते शोणित का।
कब तक शोक मनाए भारत, शोणित से तन रंजित का।

अंकित शर्मा ‘इषुप्रिय’
रामपुर कलाँ,सबलगढ(म.प्र.)

Language: Hindi
Tag: कविता
1 Like · 350 Views
You may also like:
शेर
Rajiv Vishal
प्रकाशित हो मिल गया, स्वाधीनता के घाम से
Pt. Brajesh Kumar Nayak
है सुकूँ से भरा एक घर ज़िन्दगी
Dr Archana Gupta
बिन हमारे तुम एक दिन
gurudeenverma198
अब मै भी जीने लगी हूँ
Anamika Singh
दिया जलता छोड़ दिया
कवि दीपक बवेजा
जिल्लेइलाही की सवारी
Shekhar Chandra Mitra
** थोड़े मे **
Swami Ganganiya
सारी फिज़ाएं छुप सी गई हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
चौंक पड़ती हैं सदियाॅं..
Rashmi Sanjay
💐💐प्रेम की राह पर-14💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सागर
Vikas Sharma'Shivaaya'
तेरी ज़रूरत बन जाऊं मैं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आब अमेरिकामे पढ़ता दिहाड़ी मजदूरक दुलरा, 2.5 करोड़ के भेटल...
श्रीहर्ष आचार्य
दर्द सबका भी सब
Dr fauzia Naseem shad
कृष्ण के जन्मदिन का वर्णन
Ram Krishan Rastogi
चलो प्रेम का दिया जलायें
rkchaudhary2012
रूको भला तब जाना
Varun Singh Gautam
*सत्संग-प्रिय श्री नवनीत कुमार जी*
Ravi Prakash
इतना मत लिखा करो
सूर्यकांत द्विवेदी
छोड़ दिए संस्कार पिता के, कुर्सी के पीछे दौड़ रहे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
💐आत्म साक्षात्कार💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
दीप तुम प्रज्वलित करते रहो।
Taj Mohammad
भाग्य हीन का सहारा कौन ?
ओनिका सेतिया 'अनु '
✍️वो जहर नहीं है✍️
'अशांत' शेखर
रोटी
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
बात किसी और नाम किसी और का
Anurag pandey
चौपाई - धुँआ धुँआ बादल बादल l
अरविन्द व्यास
अच्छा लगा
Sandeep Albela
पिता आदर्श नायक हमारे
Buddha Prakash
Loading...