Sep 22, 2016 · 1 min read

जी” का काव्य में प्रयोग


तुम आवाज दे
बुलाते
सूनो जी
मैं जबाब देती जी
कहती बोलो जी
कितना प्रिय लगता
जी कहना
हाँ जी में जी मिलाना

फिर एक मौन
मैं कहती कहो जी
तुम चुप
मैं आती जी
पास तुम्हारे
सटके बैठ जाती जी
शुरू करती कहकर सुनो जी
दिनभर की
तुम अपनी भूल जाते
मेरी ही सुनते जी

जी सम्बोधन में
आत्मीय का भाव छलकता
वही तो बाँधता है तुमको
तभी तो तुम
पुकारते हो मुझे
सुनती हो जी
मैं भी बन तुम्हारी छाया
चली आती हूँ जी
रेशम की डोर सी खींची
जी जी जी जी कहती हूँ
लिपट जाती हूँ जी
तुम्हारे आगोश में
जी कहकर
जी शब्द ही तो मुझे
बनाए मुझे तुम्हारा

जी शब्द की खाद पाकर
ही तो यह
प्रेम वृक्ष पनपा
दीर्घकाय हुआ है
जी आज भी तुम
मेरी आत्मा हो जी
आत्मा और शरीर जैसा
जैसा है सम्बन्ध
क्योंकि जी
एक अभिन्न रिश्ता है
जी आपके साथ
मेरा जी

डॉ मधु त्रिवेदी

73 Likes · 210 Views
You may also like:
पिता
Ram Krishan Rastogi
ढह गया …
Rekha Drolia
💐प्रेम की राह पर-23💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
【34】*!!* आग दबाये मत रखिये *!!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
"बहुत दिनों बाद"
Lohit Tamta
श्रृंगार
Alok Saxena
अप्सरा
Nafa writer
रोग ने कितना अकेला कर दिया
Dr Archana Gupta
इंतजार का....
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मां
Anjana Jain
【21】 *!* क्या आप चंदन हैं ? *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
विश्व मजदूर दिवस पर दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मूक प्रेम
Rashmi Sanjay
हमारी प्यारी मां
Shriyansh Gupta
पापा की परी...
Sapna K S
बेकार ही रंग लिए।
Taj Mohammad
💐प्रेम की राह पर-27💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मां
Dr. Rajeev Jain
ज़िंदगी।
Taj Mohammad
अब सुप्त पड़ी मन की मुरली, यह जीवन मध्य फँसा...
संजीव शुक्ल 'सचिन'
शब्द नही है पिता जी की व्याख्या करने को।
Taj Mohammad
*मौसम प्यारा लगे (वर्षा गीत )*
Ravi Prakash
*!* रचो नया इतिहास *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
सोए है जो कब्रों में।
Taj Mohammad
#पूज्य पिता जी
आर.एस. 'प्रीतम'
"मैं तुम्हारा रहा"
Lohit Tamta
नींबू के मन की वेदना
Ram Krishan Rastogi
जो बीत गई।
Taj Mohammad
मेरे पापा जैसे कोई नहीं.......... है न खुदा
Nitu Sah
राम राज्य
Shriyansh Gupta
Loading...