Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Dec 2023 · 1 min read

जी.आज़ाद मुसाफिर भाई

गांव – गांव और शहर-शहर से गुजरा एक बटोही।
चलता जाये ,गाता जाये, मैं मुहब्बत का राही ।।
जी.आज़ाद मुसाफिर भाई, जी.आज़ाद मुसाफिर भाई।
गाँव गाँव और शहर शहर से—————-।।

भाई मेरा शरणागत जो रहता था जन्नत में।
कुछ दिन वहाँ गुजारे मैंने, गोया पंछी हाजत में ।।
ताईद करता हूँ भाभी की, ममता की है मूरत।
फकत उसी की तारीफ से मैं, मुहब्बत का इलाही।।
जी.आज़ाद मुसाफिर भाई, जी.आज़ाद मुसाफिर भाई।
गांव गांव और शहर शहर से—————-।।

बचपन में एक सपना देखा,बनना है मुझे डॉक्टर।
मुफ़लिस का मर्ज दूर करूंगा, रहमी दिल मैं बनकर।।
बेजा एक तुफान ने आकर,कर दिया मुझको घायल।
फकत उसी की सोहबत से मैं, मुहब्बत का रुजाई ।।
जी.आज़ाद मुसाफिर भाई, जी.आज़ाद मुसाफिर भाई।
गाँव गाँव और शहर शहर से—————-।।

नाहक,दीवाना और शायर, आकर यहाँ मैं हो गया।
खूबसूरत एक हसीन फूल का,आशिक दिल से हो गया।।
लेकिन मुझको छोड़ गया वह, करके मेरी बदनामी।
फिर भी नहीं है उससे नफरत, मैं मुहब्बत का वफाई।।
जी.आज़ाद मुसाफिर भाई, जी.आज़ाद मुसाफिर भाई।
गांव गांव और शहर शहर से—————-।।

शिक्षक एवं साहित्यकार
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)

Language: Hindi
Tag: गीत
146 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मेरे नयनों में जल है।
मेरे नयनों में जल है।
Kumar Kalhans
प्रयास
प्रयास
Dr fauzia Naseem shad
झुंड
झुंड
Rekha Drolia
बो रही हूं खाब
बो रही हूं खाब
Surinder blackpen
// लो फागुन आई होली आया //
// लो फागुन आई होली आया //
Surya Barman
■ जीवन सार...
■ जीवन सार...
*Author प्रणय प्रभात*
There are only two people in this
There are only two people in this
Ankita Patel
मैं मित्र समझता हूं, वो भगवान समझता है।
मैं मित्र समझता हूं, वो भगवान समझता है।
Sanjay ' शून्य'
रंग मे रंगोली मे गीत मे बोली
रंग मे रंगोली मे गीत मे बोली
Vindhya Prakash Mishra
*कमाल की बातें*
*कमाल की बातें*
आकांक्षा राय
सरसी छंद
सरसी छंद
Charu Mitra
*शिव शक्ति*
*शिव शक्ति*
Shashi kala vyas
"यह कैसा नशा?"
Dr. Kishan tandon kranti
23/190.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/190.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हो गये अब हम तुम्हारे जैसे ही
हो गये अब हम तुम्हारे जैसे ही
gurudeenverma198
अभिमान
अभिमान
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
रंजीत शुक्ल
रंजीत शुक्ल
Ranjeet Kumar Shukla
*****खुद का परिचय *****
*****खुद का परिचय *****
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
कुछ काम करो , कुछ काम करो
कुछ काम करो , कुछ काम करो
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
(18) छलों का पाठ्यक्रम इक नया चलाओ !
(18) छलों का पाठ्यक्रम इक नया चलाओ !
Kishore Nigam
Best ghazals of Shivkumar Bilagrami
Best ghazals of Shivkumar Bilagrami
Shivkumar Bilagrami
तारों के मोती अम्बर में।
तारों के मोती अम्बर में।
Anil Mishra Prahari
చివరికి మిగిలింది శూన్యమే
చివరికి మిగిలింది శూన్యమే
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
मास्टर जी का चमत्कारी डंडा🙏
मास्टर जी का चमत्कारी डंडा🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
वायदे के बाद भी
वायदे के बाद भी
Atul "Krishn"
प्राचीन दोस्त- निंब
प्राचीन दोस्त- निंब
दिनेश एल० "जैहिंद"
होते यदि राजा - महा , होते अगर नवाब (कुंडलिया)
होते यदि राजा - महा , होते अगर नवाब (कुंडलिया)
Ravi Prakash
💐अज्ञात के प्रति-91💐
💐अज्ञात के प्रति-91💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
खामोश अवशेष ....
खामोश अवशेष ....
sushil sarna
वो मेरे दिल के एहसास अब समझता नहीं है।
वो मेरे दिल के एहसास अब समझता नहीं है।
Faiza Tasleem
Loading...