Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Dec 2023 · 1 min read

जीवन है अलग अलग हालत, रिश्ते, में डालेगा और वही अलग अलग हालत

जीवन है अलग अलग हालत, रिश्ते, में डालेगा और वही अलग अलग हालत और रिश्ते के सफर आपके बहुत सारे इमोशनल मेंटल व्यक्तिगत आर्थिक सामाजिक ज्ञान, अनुभव , और सेल्फ रियलाइजेशन देते है

उसमे सबसे बड़ा सेल्फ रियलाइजेशन यही होगा सम्मान आपके वजूद का है
एतबार आपके वजूद का है

वजूद जितना मजबूत रिश्ते प्यार समाज
परिवार सबका नजर और नजरिया आपके लिए उतना मजबूत
और वो जितना कमजोर नजर और नजरिया
उतना कमजोर आपके लिए

वजूद को बनाए खुद के लिए सब खुद ब खुद आपके लिए होने ओर करने लगेंगे

इमोशन सिर्फ काम निकालने के लिए use होते है
काम करवाना हो तो पहचान पावर और पैसा लगता है

194 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
नन्ही परी चिया
नन्ही परी चिया
Dr Archana Gupta
मैं उनके सँग में यदि रहता नहीं
मैं उनके सँग में यदि रहता नहीं
gurudeenverma198
प्रश्नपत्र को पढ़ने से यदि आप को पता चल जाय कि आप को कौन से
प्रश्नपत्र को पढ़ने से यदि आप को पता चल जाय कि आप को कौन से
Sanjay ' शून्य'
घुटता है दम
घुटता है दम
Shekhar Chandra Mitra
करुणामयि हृदय तुम्हारा।
करुणामयि हृदय तुम्हारा।
Buddha Prakash
तुम्ही बताओ आज सभासद है ये प्रशन महान
तुम्ही बताओ आज सभासद है ये प्रशन महान
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
शीर्षक - खामोशी
शीर्षक - खामोशी
Neeraj Agarwal
I Can Cut All The Strings Attached
I Can Cut All The Strings Attached
Manisha Manjari
महाशिवरात्रि
महाशिवरात्रि
Seema gupta,Alwar
एक पंथ दो काज
एक पंथ दो काज
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*
*"अवध के राम आये हैं"*
Shashi kala vyas
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
दया के सागरः लोककवि रामचरन गुप्त +रमेशराज
दया के सागरः लोककवि रामचरन गुप्त +रमेशराज
कवि रमेशराज
रंगीला संवरिया
रंगीला संवरिया
Arvina
तन्हाईयाँ
तन्हाईयाँ
Shyam Sundar Subramanian
अंतिम सत्य
अंतिम सत्य
विजय कुमार अग्रवाल
"वसन्त"
Dr. Kishan tandon kranti
बाबू जी
बाबू जी
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
विचार पसंद आए _ पढ़ लिया कीजिए ।
विचार पसंद आए _ पढ़ लिया कीजिए ।
Rajesh vyas
"राखी के धागे"
Ekta chitrangini
■ देखते रहिए- आज तक, कल तक, परसों तक और बरसों तक। 😊😊
■ देखते रहिए- आज तक, कल तक, परसों तक और बरसों तक। 😊😊
*Author प्रणय प्रभात*
अपने सुख के लिए, दूसरों को कष्ट देना,सही मनुष्य पर दोषारोपण
अपने सुख के लिए, दूसरों को कष्ट देना,सही मनुष्य पर दोषारोपण
विमला महरिया मौज
रिश्ते से बाहर निकले हैं - संदीप ठाकुर
रिश्ते से बाहर निकले हैं - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
# होड़
# होड़
Dheerja Sharma
Ishq ke panne par naam tera likh dia,
Ishq ke panne par naam tera likh dia,
Chinkey Jain
एक महिला से तीन तरह के संबंध रखे जाते है - रिश्तेदार, खुद के
एक महिला से तीन तरह के संबंध रखे जाते है - रिश्तेदार, खुद के
Rj Anand Prajapati
' चाह मेँ ही राह '
' चाह मेँ ही राह '
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
मिट गई गर फितरत मेरी, जीवन को तरस जाओगे।
मिट गई गर फितरत मेरी, जीवन को तरस जाओगे।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
चुनौतियाँ बहुत आयी है,
चुनौतियाँ बहुत आयी है,
Dr. Man Mohan Krishna
*भारतमाता-भक्त तुम, मोदी तुम्हें प्रणाम (कुंडलिया)*
*भारतमाता-भक्त तुम, मोदी तुम्हें प्रणाम (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
Loading...