Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Sep 2022 · 1 min read

जीवन मे एक दिन

जीवन मे एक दिन…………………………………🌹🌹

🌹🌹मन मे रोज उमड़ते―घुमड़ते

इन्ही इच्छाओं का संसार हूँ ..🌹🌹

🌹🌹चर्चाओं में रहेगा नाम मेरा

क्योंकि बन रहा मैं अखबार हूँ..🌹🌹

©® प्रेमयाद कुमार नवीन

1 Like · 1 Comment · 329 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जीवन एक मैराथन है ।
जीवन एक मैराथन है ।
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
एक बार फिर...
एक बार फिर...
Madhavi Srivastava
क्या सोचूं मैं तेरे बारे में
क्या सोचूं मैं तेरे बारे में
gurudeenverma198
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
दौड़ी जाती जिंदगी,
दौड़ी जाती जिंदगी,
sushil sarna
परीक्षा
परीक्षा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
ख़ुद को हमने निकाल रखा है
ख़ुद को हमने निकाल रखा है
Mahendra Narayan
क्या हुआ , क्या हो रहा है और क्या होगा
क्या हुआ , क्या हो रहा है और क्या होगा
कृष्ण मलिक अम्बाला
दोहे : प्रभात वंदना हेतु
दोहे : प्रभात वंदना हेतु
आर.एस. 'प्रीतम'
चल अंदर
चल अंदर
Satish Srijan
इंसान
इंसान
Vandna thakur
"नजरों से न गिरना"
Dr. Kishan tandon kranti
जब ख्वाब भी दर्द देने लगे
जब ख्वाब भी दर्द देने लगे
Pramila sultan
हर स्नेह के प्रति, दिल में दुआएं रखना
हर स्नेह के प्रति, दिल में दुआएं रखना
Er.Navaneet R Shandily
"उड़ान"
Yogendra Chaturwedi
तूफान सी लहरें मेरे अंदर है बहुत
तूफान सी लहरें मेरे अंदर है बहुत
कवि दीपक बवेजा
आकाश मेरे ऊपर
आकाश मेरे ऊपर
Shweta Soni
2- साँप जो आस्तीं में पलते हैं
2- साँप जो आस्तीं में पलते हैं
Ajay Kumar Vimal
गम के बादल गये, आया मधुमास है।
गम के बादल गये, आया मधुमास है।
सत्य कुमार प्रेमी
कोई उपहास उड़ाए ...उड़ाने दो
कोई उपहास उड़ाए ...उड़ाने दो
ruby kumari
#त्वरित_टिप्पणी
#त्वरित_टिप्पणी
*Author प्रणय प्रभात*
*ख़ुशी की बछिया* ( 15 of 25 )
*ख़ुशी की बछिया* ( 15 of 25 )
Kshma Urmila
Ab maine likhna band kar diya h,
Ab maine likhna band kar diya h,
Sakshi Tripathi
सजी कैसी अवध नगरी, सुसंगत दीप पाँतें हैं।
सजी कैसी अवध नगरी, सुसंगत दीप पाँतें हैं।
डॉ.सीमा अग्रवाल
“सबसे प्यारी मेरी कविता”
“सबसे प्यारी मेरी कविता”
DrLakshman Jha Parimal
जगदम्ब शिवा
जगदम्ब शिवा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
3250.*पूर्णिका*
3250.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*फूलों का त्यौहार ( कुंडलिया )*
*फूलों का त्यौहार ( कुंडलिया )*
Ravi Prakash
Dictatorship in guise of Democracy ?
Dictatorship in guise of Democracy ?
Shyam Sundar Subramanian
आज कृत्रिम रिश्तों पर टिका, ये संसार है ।
आज कृत्रिम रिश्तों पर टिका, ये संसार है ।
Manisha Manjari
Loading...