Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Sep 22, 2022 · 1 min read

जीवन मे एक दिन

जीवन मे एक दिन…………………………………🌹🌹

🌹🌹मन मे रोज उमड़ते―घुमड़ते

इन्ही इच्छाओं का संसार हूँ ..🌹🌹

🌹🌹चर्चाओं में रहेगा नाम मेरा

क्योंकि बन रहा मैं अखबार हूँ..🌹🌹

©® प्रेमयाद कुमार नवीन

19 Views
You may also like:
हो मन में लगन
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
✍️सूरज मुट्ठी में जखड़कर देखो✍️
'अशांत' शेखर
कर्ज भरना पिता का न आसान है
आकाश महेशपुरी
पिता
Kanchan Khanna
गुमनाम मुहब्बत का आशिक
श्री रमण 'श्रीपद्'
संकुचित हूं स्वयं में
Dr fauzia Naseem shad
"हैप्पी बर्थडे हिन्दी"
पंकज कुमार कर्ण
पिता के चरणों को नमन ।
Buddha Prakash
राखी-बंँधवाई
श्री रमण 'श्रीपद्'
पिता की व्यथा
मनोज कर्ण
वरिष्ठ गीतकार स्व.शिवकुमार अर्चन को समर्पित श्रद्धांजलि नवगीत
ईश्वर दयाल गोस्वामी
दर्द इनका भी
Dr fauzia Naseem shad
क्यों भूख से रोटी का रिश्ता
Dr fauzia Naseem shad
देश के नौजवानों
Anamika Singh
काश मेरा बचपन फिर आता
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
हमें क़िस्मत ने आज़माया है ।
Dr fauzia Naseem shad
गर्मी का रेखा-गणित / (समकालीन नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
।। मेरे तात ।।
Akash Yadav
उसे देख खिल जातीं कलियांँ
श्री रमण 'श्रीपद्'
उफ ! ये गर्मी, हाय ! गर्मी / (गर्मी का...
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता
विजय कुमार 'विजय'
✍️बदल गए है ✍️
Vaishnavi Gupta
पिता
Mamta Rani
भगवान जगन्नाथ की आरती (०१
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बरसात
मनोज कर्ण
जय जय भारत देश महान......
Buddha Prakash
आपकी तारीफ
Dr fauzia Naseem shad
श्रीराम गाथा
मनोज कर्ण
गांव शहर और हम ( कर्मण्य)
Shyam Pandey
बरसात आई झूम के...
Buddha Prakash
Loading...