Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Jul 2023 · 1 min read

*जीवन में मुस्काना सीखो (हिंदी गजल/गीतिका)*

जीवन में मुस्काना सीखो (हिंदी गजल/गीतिका)
_________________________
(1)
जीवन में मुस्काना सीखो
खुशियाँ रोज मनाना सीखो
(2)
मंच तुम्हें यदि नहीं मिला तो
बाथरूम में गाना सीखो
(3)
रोने-धोने से क्या होगा
हँसना और हँसाना सीखो
(4)
मिले-मत मिले ईश्वर फिर भी
दैनिक ध्यान लगाना सीखो
(5)
सेहत अच्छी हो जाएगी
थोड़ा-सा कम खाना सीखो
(6)
जंग लगेगी हाथ-पैर में
थोड़ा इन्हें चलाना सीखो
(7)
तबले-बाजे से अच्छा यह
साँसें सुर में लाना सीखो
_________________________
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

331 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
जो भी आते हैं वो बस तोड़ के चल देते हैं
जो भी आते हैं वो बस तोड़ के चल देते हैं
अंसार एटवी
सोच समझ कर
सोच समझ कर
पूर्वार्थ
*चलें साध कर यम-नियमों को, तुम्हें राम जी पाऍं (गीत)*
*चलें साध कर यम-नियमों को, तुम्हें राम जी पाऍं (गीत)*
Ravi Prakash
इतनी जल्दी दुनियां की
इतनी जल्दी दुनियां की
नेताम आर सी
ফুলডুংরি পাহাড় ভ্রমণ
ফুলডুংরি পাহাড় ভ্রমণ
Arghyadeep Chakraborty
मैंने फत्ते से कहा
मैंने फत्ते से कहा
Satish Srijan
गंगा दशहरा मां गंगा का प़काट्य दिवस
गंगा दशहरा मां गंगा का प़काट्य दिवस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बरकत का चूल्हा
बरकत का चूल्हा
Ritu Asooja
*🌸बाजार *🌸
*🌸बाजार *🌸
Mahima shukla
झरोखों से झांकती ज़िंदगी
झरोखों से झांकती ज़िंदगी
Rachana
कर लो कभी
कर लो कभी
Sunil Maheshwari
जबकि ख़ाली हाथ जाना है सभी को एक दिन,
जबकि ख़ाली हाथ जाना है सभी को एक दिन,
Shyam Vashishtha 'शाहिद'
आप कैसा कमाल करते हो
आप कैसा कमाल करते हो
Dr fauzia Naseem shad
विजय द्वार (कविता)
विजय द्वार (कविता)
Monika Yadav (Rachina)
अब बस बहुत हुआ हमारा इम्तिहान
अब बस बहुत हुआ हमारा इम्तिहान
ruby kumari
पिघलता चाँद ( 8 of 25 )
पिघलता चाँद ( 8 of 25 )
Kshma Urmila
दर्द उसे होता है
दर्द उसे होता है
Harminder Kaur
तड़के जब आँखें खुलीं, उपजा एक विचार।
तड़के जब आँखें खुलीं, उपजा एक विचार।
डॉ.सीमा अग्रवाल
“ज़िंदगी अगर किताब होती”
“ज़िंदगी अगर किताब होती”
पंकज कुमार कर्ण
उलझ नहीं पाते
उलझ नहीं पाते
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
समस्या का समाधान
समस्या का समाधान
Paras Nath Jha
प्रेम
प्रेम
Bodhisatva kastooriya
■ कृष्ण_पक्ष
■ कृष्ण_पक्ष
*प्रणय प्रभात*
ॐ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
Forget and Forgive Solve Many Problems
Forget and Forgive Solve Many Problems
PRATIBHA ARYA (प्रतिभा आर्य )
बच्चे
बच्चे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
2664.*पूर्णिका*
2664.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
स्वप्न लोक के वासी भी जगते- सोते हैं।
स्वप्न लोक के वासी भी जगते- सोते हैं।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
एकांत
एकांत
DR ARUN KUMAR SHASTRI
धरती का बस एक कोना दे दो
धरती का बस एक कोना दे दो
Rani Singh
Loading...